जब मार्ग दुर्घटना में घायल वृद्ध के लिए देवदूत बने नरैनी सीओ - Amja Bharat

Amja Bharat

All Media and Journalist Association

Breaking

Monday, September 12, 2022

जब मार्ग दुर्घटना में घायल वृद्ध के लिए देवदूत बने नरैनी सीओ

बिना समय गंवाए खून से लतपथ वृद्ध को खुद की गाड़ी में ले गए अस्पताल

नरैनी, के एस दुबे - बाँदा,खाकी वर्दी से लैस जिस पुलिस को लोग कानून व्यवस्था की कड़ी मानते है,उसी व्यवस्था को बनाने में आम लोगो की बददुवाएं भी सुननी पड़ती है,तो कभी आम जनता के लिए जाड़ा, गर्मी,बरसात की परवाह किये बिना चौबीसों घण्टे खड़े खड़े ड्यूटी भी निभानी पड़ती है,मसलन कर्तब्य परायणता के लिए घर परिवार छोड़कर आम जनता के लिए दिन रात मुस्तैद रहने वाले नरैनी सीओ नितिन कुमार के साथ एक ऐसा वाकया घटित हुआ जिसे देखकर वह खुद को रोक नही सके,और मार्ग दुर्घटना में घायल एक वृद्ध को किसी देवदूत की तरह खून से लतपथ देखकर खुद गाड़ी से उतरकर अपने एक सिपाही की मदद से खुद की गाड़ी में लिटाकर  अस्पताल ले गए और हालत ज्यादा खराब होने पर चिकित्सको की मदद से तत्काल एम्बुलेंस के जरिये जिला अस्पताल तक पहुंचाया।तभी खाकी के लिए किसी ने सच ही कहा है।
पुलिस मां के जैसी वत्शलता है
पुलिस मित्र का मजबूत कंधा है
पुलिस भाई के जैसा संबल है
पुलिस कमजोर का हौसला है 
पुलिस उम्मीद का नायाब जज्बा है
पुलिस सेवक सी समर्पणता है

मिली जानकारी पर पता चला कि गिरवां से नरैनी आते समय पनगरा पुल से पहले पनगरा निवासी सत्यप्रकाश दीक्षित को एक तेज रफ्तार गाड़ी ने रौंदा दिया। ईश्वर ने जिस तरह सेवा और साहस की प्रतीक खाकी के लिए मुझे चुना तो एक परीक्षा सामने रख दी मात्र 2.5मिनट के रिस्पांस टाइम में लहुलुहान बुजुर्ग को स्वयं से अपने सिपाही देवेन्द्र के माध्यम से अस्पताल पहुंचाया,आनन -फानन में प्राथमिक उपचार कराते हुए (Thanks to so committed Doctors and staff) एडवांस में एंबुलेंस बिना एक सेकेंड गंवाए बड़े अस्पताल पहुंचा दिया गया है। पूरी उम्मीद है आप भी प्रार्थना करें किसी बुजुर्ग माता को उसका पति, किसी मजदूर बेटे को उसका मार्गदर्शक छायादार वटवृक्ष जैसा अपना पिता किसी प्यारे नन्हें बच्चे को उसका दादा वापस मिल जाएगा।

No comments:

Post a Comment

Post Bottom Ad

Pages