मरीजों की रेलमपेल, अस्पताल में नहीं मिल पा रहे बेड - Amja Bharat

Amja Bharat

All Media and Journalist Association

Breaking

Monday, September 19, 2022

मरीजों की रेलमपेल, अस्पताल में नहीं मिल पा रहे बेड

दवा काउंटर और पर्चा काउंटर में होती रही धक्का-मुक्की  

बांदा, के एस दुबे । मौसमी परिवर्तन और बढ़ रहे मच्छरों के प्रकोप से संक्रामक बीमारियां लगातार बढ़ती जा रही हैं। सर्दी, जुकाम, बुखार से पीड़ित मरीजों की तादाद बढ़ती जा रही है। यह मौसम बच्चों और बुजुर्गों के लिए खतरनाक साबित हो रहा है। बच्चे निमोनिया से तो बुजुर्ग श्वांस की बीमारी से पीड़ित होकर अस्पताल पहुंच रहे हैं।

जिला अस्पताल के दवा काउंटर में लगी मरीजों की भीड़

बारिश के बाद निकली चटक धूप और उमस भरी गर्मी से बीमारियां लगातार बढ़ती जा रही हैं। सर्दी, जुकाम, बुखार और वायरल फीवर के मरीजों की भरमार है। सोमवार को खुले अस्पताल में मरीजों की भीड़ उमड़ पड़ी। महिला पर्चा काउंटर में पर्चा बनवाने को लेकर महिलाओं में जमकर धक्का-मुक्की हुई। इतना ही नहीं महिलाओं ने पर्चा काउंटर में मौजूद कर्मचारी के साथ अभद्रता भी की। बाद में मौके पर पहुंची पुलिस ने मामले को शांत कराया। बढ़ रहे मरीजों से अस्पताल के बेड भरे हुए हैं। एक-एक बेड के लिए मरीजों को कई-कई घंटे इंतजार करना पड़ता है। दर्द से कराह रहे मरीजों को बेंचों में लिटाकर इलाज किया जाता है। सोमवार को अस्पताल खुलने से पहले ही पुरुष और महिला पर्चा काउंटर में मरीजों की भीड़ जमा हो गई। दोनो पर्चा काउंटरों में सुरक्षा व्यवस्था के नाम पर किसी भी होमगार्ड की ड्यूटी नहीं लगाई जाती। महिला पर्चा काउंटर में मरीजों की भीड़ जमा थी। पर्चा बनवाने को लेकर महिलाओं में धक्का-मुक्की शुरू हो गई। इतना ही नहीं पर्चा काउंटर में मौजूद कर्मचारी से अभद्रता भी की गई। मजबूर होकर कर्मचारी ने पर्चा काउंटर बंद कर दिया। खासी भीड़ जमा हो गई। इस घटना की जानकारी सीएमएस को भी दी गई। लेकिन सीएमएस ने भी कोई तवज्जो नहीं दी। बाद में मौके पर पहुंचे अस्पताल चौकी के सिपाहियों ने महिलाओं के समझा-बुझाकर शांत कराया, तब कहीं जाकर पर्चा बनना शुरू हुआ। इधर, मोदी के जन्म दिन के अवसर पर सेवा पखवाड़ा का आयोजन किया जा रहा है। रविवार को छुट्टी के दिन अस्पताल की ओपीडी खुली रही। लगभग ढाई सैकड़ा से अधिक मरीजों का उपचार किया गया। सोमवार को खुले जिला अस्पताल में सुबह से ही मरीजों की भीड़ जमा हो गई। धक्का-मुक्की के बीच मरीजों के पर्चे बनवाए गए। मरीजां ने बताया कि 1200 से अधिक मरीजो ंने अपना पंजीकरण कराया है। चिकित्सकों का कहना है कि इन दिनो वायरल फीवर और उल्टी दस्त के मरीज ज्यादा आ रहे हैं। चिकित्सकों ने लोगों को एहतियात बरतने की सलाह दी है। मरीजों की बढ़़ रही भीड़ को देखते हुए पर्चा काउंटर में मरीजों की लंबी लाइनें लग रही हैं। पर्चा बनवाने को लेकर अक्सर मरीज के तीमारदार पर्चा काउंटर में बैठे कर्मचारियों के साथ गाली-गलौज कर अभद्रता करते हैं। इतना सब कुछ होने के बावजूद कर्मचारी पर्चा बनाने को मजबूर है। पर्चा काउंटर में मौजूद कर्मचारियों ने बताया कि तीमारदार अक्सर उनके साथ अभद्रता करते हैं। यहां पर किसी पुलिस कर्मी या गार्ड की ड्यूटी नहीं लगाई जाती। जिससे वह लोग अपने आपको असुरक्षित महसूस करते हैं। इस संबंधमें सीएमएस एसएन मिश्र ने बताया कि गार्डों की ड्यूटी लगाए जाने के लिए अस्पताल चौकी इंचार्ज को लिखा गया है। जल्द ही इसकी व्ययवस्था कराई जाएगी। 


No comments:

Post a Comment

Post Bottom Ad

Pages