जैन समाज ने क्षमावाणी कार्यक्रम बहुत ही धूमधाम से मनाया - Amja Bharat

Amja Bharat

All Media and Journalist Association

Breaking

Monday, September 12, 2022

जैन समाज ने क्षमावाणी कार्यक्रम बहुत ही धूमधाम से मनाया

कार्यक्रम में शामिल हुए जल शक्ति राज्य मंत्री रामकेश निषाद 

बांदा, के एस दुबे । पर्यूषण पर्व समापन के बाद जैन समाज ने क्षमा वाणी दिवस मुनि सुब्रतनाथ दिगंबर जैन मंदिर में धूमधाम से मनाया। क्षमा वाणी एवं विश्व मैत्री दिवस समारोह के मुख्य अतिथि जल शक्ति मंत्री रामकेश निषाद ने सबसे पहले आचार्य प्रवर संत शिरोमणि विद्यासागर महाराज के चित्र पर दीप प्रज्वलन किया। क्षमावाणी पर्व का महत्व बताते हुए श्रेयांश कुमार जैन ने कहा कि क्षमा धर्म आत्मा का स्वभाव है। क्षमा को धारण करके हम सभी जीवों से मैत्री स्थापित कर सकते हैं। पूर्व नगर पालिका अध्यक्ष राजकुमार राज ने कहा कि प्रत्येक वर्ष क्षमावाणी कार्यक्रम आता है, जिसमें हम अपनी गलतियों के लिए एक दूसरे से क्षमा मांगते हैं। सुशील जैन ने इस अवसर पर मधुर गीत के माध्यम से क्षमा वाणी का महत्व बताया। परम पूज्य आचार्य समता सागर महाराज ने बताया कि क्षमा

क्षमावाणी दिवस पर मौजूद जैन समाज के लोग

आत्मा का स्वभाव है। संसार के सभी प्राणी क्षमता को धारण कर धर्म को अपनाएं। आचार्य ने कहा कि जीव दया सभी धर्मों का मूल है। उन्होंने कहा कि पृथ्वी माता क्षमा का प्रतीत होती है जो देती है लेकिन लेती कुछ नहीं। अंत में मुख्य अतिथि रामकेश निषाद ने कहा कि जैन समाज जियो और जीने दो और महावीर स्वामी के सिद्धांतों पर चलने वाली समाज है। अगर हर व्यक्ति आज के युग में एक दूसरे के प्रति बैर भाव को भूलकर क्षमा गुण को अंगीकृत कर लेता है तो संसार में अमन चैन अपने आप स्थापित हो जाएगा। उन्होंने कहा कि विश्व मे जैन धर्म ही एक ऐसा धर्म है
कार्यक्रम को संबोधित करते जलशक्ति राज्यमंत्री रामकेश निषाद

जो सत्य, अहिंसा को आचरण के रूप में सिखाता है। मानवीय जीवन में एक दूसरे के प्रति गलतियां होती ही रहती हैं। उन सबके लिए एक दूसरे से क्षमा मांगने से आत्म शुद्धि एवं मन की शांति प्राप्त होती है। इस अवसर पर सुरेश जैन, अर्जुन सिंह, मनोज कुमार जैन, अमित भोलू, राजकुमार राज, रमाशंकर श्रीवास्तव, इंजीनयर सुभाषचंद्र जैन, नरेंद्र जैन, नवीन प्रकाश गुप्ता नीतू, सनत जैन, प्रमोद जैन, आशीष जैन, राजेश जैन, दिलीप जैन आदि मौजूद रहे। 


No comments:

Post a Comment

Post Bottom Ad

Pages