बाबू जगदेव प्रसाद की कुर्बानी हम कभी भुला नहीं सकते - Amja Bharat

Amja Bharat

All Media and Journalist Association

Breaking

Tuesday, September 6, 2022

बाबू जगदेव प्रसाद की कुर्बानी हम कभी भुला नहीं सकते

बाबू जगदेव की 48वीं शहादत दिवस पर आयोजित हुई विचार गोष्ठी 

बदौसा, के एस दुबे । भारत लेनिन बाबू जगदेव प्रसाद की 48वीं शहादत दिवस पर आयोजित विचार गोष्ठी शुभारंभ मुख्य अतिथि उमा कुशवाहा, अध्यक्ष सी. पी. कुशवाहा नें कैण्डल जला कर व बाबू जी के चित्र पर श्रद्धा सुमन अर्पित कर किया गया। कार्यक्रम का संचालन कर रहे कमेरा समाज के वरिष्ठ प्रवक्ता रामभवन कुशवाहा ने कहा कि आजाद भारत में शोषितों के हक हकूक के लिए बाबू जगदेव प्रसाद जी की कुर्बानी को हम कभी भूल नहीं सकते। इन्होंने कहा था कि पहली पीढ़ी मारी जायेगी, दूसरी पीढ़ी जेल जायेगी और तीसरी पीढ़ी राज करेगी, तो बिहार ने वह कर दिखाया है। 

बाबू जगदेव के चित्र पर माल्यार्पण करतीं उमा कुशवाहा व अन्य

मालूम हो कि कस्बे में भारत लेनिन बाबू जगदेव प्रसाद की 48वीं शहादत दिवस 5 सितम्बर 2022 को आयोजित विचार गोष्ठी में बतौर मुख्य अतिथि उमा कुशवाहा राष्ट्रीय अध्यक्ष साबित्री बाई फुले महिला अधिकार संघ (भारत) ने कहा भारत लेनिन बाबू जगदेव प्रसाद की शहादत दिवस और शिक्षक दिवस है। इसलिए भारत की प्रथम महिला शिक्षिका राष्ट्र माता साबित्री बाई फुले व बाबू जी को नमन बंदन करती हूं। हमें याद रहे कि पहले अंधविश्वास व आडम्बर को छोड़ कर स्त्री शिक्षा की बात करने पर फुले दम्पति को अपने ही घर से निकाल दिया गया था, उन्होंनें कसम खाई थी कि उनका मिशन कमजोर न पड़े तो वह ताउम्र बच्चे नहीं पैदा करेंगे। उनका साथ दे रही शेख फ़ातिमा नें ताउम्र शादी न करने का संकल्प लिया हम इन हस्तियों की कुर्बानी व अमर शहीद बाबू जगदेव प्रसाद के बताये रास्ते पर चल कर वंचित समाज को धन, धरती व राजपाट में हिस्सेदारी लेनी होगी। भारत लेनिन बाबू जगदेव प्रसाद जी हजारों शोषित वंचित समाज को साथ ले कर मई 1974 में 6 सूत्री मांगों के समर्थन बिहार की धरती जातिवादी मानसिकता की भ्रष्ट कांग्रेस सरकार के खिलाफ जंग छेड़ दिया। बाबू जी के एक नारा अब की सावन भादों में गोरि कलइयां कांदव में! ने बिहार में इंकलाब ला दिया। कमेरा समाज खेती करना छोड़ आन्दोलित हो गये तभी 5 सितम्बर 1974 को सत्याग्रह के दौरान पुलिस की गोली से शहीद हुए तब से बिहार की धरती ने आततायियों का तख्ता पलट कर कमेरा समाज का सीएम दे रहे हैं। सी.पी. कुशवाहा नें अपने अध्यक्षीय उद्बोधन में कहा भारत लेनिन बाबू जगदेव प्रसाद की कही बात देख लें, बाबू जगदेव प्रसाद को गोली मरी गयी, लालू प्रसाद को चारा घोटाला में फंसा कर जेल भेजा गया और आज फिर से बिहार की गद्दी में पिछड़े वर्ग ने परचम लहराया तो हमें अब पूरे भारत में कमेरा समाज का परचम लहराना होगा। राजेश पैंथर नें कहा संविधान और संबैधानिक हक हकूक का रास्ता हमारे महापुरुषों की कुर्बानी से दिखता है। वंचित समाज के हर इंसान को एक होना चाहिए ही होगा। शिवप्रसाद कबीर नें गीत के माध्यम से अपनी बात रखी। सन्तोष कुशवाहा, बीरमणि, शिवप्रसाद कबीर, बिवेक कुमार, रामभवन वर्मा, बिरेन्द्र कुमार वर्मा, रामप्रताप बौद्ध, चुन्नू राम सैनी सभासद नगर पालिका अतर्रा, श्रीमती सरला, बद्री प्रसाद प्रजापति, राजेश पांडर, नवल किशोर छत्रसाल कुशवाहा, कमला देवी, प्रभा देवी आदि लोगों नें विचार रखे।


No comments:

Post a Comment

Post Bottom Ad

Pages