डीएम के कड़े निर्देशों का प्रधान, सचिवों पर नहीं दिख रहा असर - Amja Bharat

Amja Bharat

All Media and Journalist Association

Breaking

Monday, September 19, 2022

डीएम के कड़े निर्देशों का प्रधान, सचिवों पर नहीं दिख रहा असर

गांव की सड़कें,किसानों की फसलें बनी हैं गौवंशों की गौशाला

चित्रकूट, सुखेन्द्र अग्रहरी । मानिकपुर ब्लाक के किसी भी गांव में प्रधान व सचिव ने गौवंशों के लिए ठोस कदम नहीं उठाये।गांव की सडकें व किसानों की फसलें गौवंशों की गौशाला बनी है।इससे किसान की खेत में लगी लागत व मेहनत पर पानी फिर रहा है। आये दिन जिलाधिकारी गौवंशों को लेकर प्रधान व सचिव को कडे निर्देश जारी करते हैं।प्रधान व सचिव पर उन निर्देशों का कोई असर नहीं पड रहा है। इससे प्रतिदिन सड़कों में हादसे और किसानों की मेहनत पर पानी फिर रहा है।सकरौंहा गांव के किसान रेवती प्रसाद त्रिपाठी पुत्र रामआसरे त्रिपाठी की दो बीघा धान की और रामानन्द त्रिपाठी की पांच बीघा तिल की फसल बीते दिनों 60-70 गौवंश चट कर गये। चकरौंहा गांव के


किसान कुनका द्विवेदी की तीन बीघे फसल की मेहनत पर गौवंशों ने पानी फेर दिया, एक रात में पूरी फसल खा गये। किसानों ने बताया कि अन्ना गौवंशों से फसल नष्ट होने से एक बच्चे को खोने जैसा दर्द महसूस होता है। प्रधान सकरौंहा ने कहा कि तीन बार अन्ना गौवंशों को लेकर गांव में मुनादी के बाद भी ग्रामीण गौवंशों को नहीं बांध रहे हैं।इससे किसानों की फसल नहीं बच पा रही है। गौशाला में गौवंश रखे जाते हैं। गौवंशों के खाने-पीने की पूरी व्यवस्था है।

No comments:

Post a Comment

Post Bottom Ad

Pages