पीड़ित परिवारों के साथ है सरकार-राकेश - Amja Bharat

Amja Bharat

All Media and Journalist Association

Breaking

Saturday, August 13, 2022

पीड़ित परिवारों के साथ है सरकार-राकेश

लापरवाह अफसरों पर होगी कार्रवाई

ग्यारह साल से निर्माण की बाट जोह रहा पुल 2023 में होगा पूरा

फतेहपुर, शमशाद खान । तीन दिन पूर्व हुए नाव हादसे में जान गंवाने वाले आठ और शव मिलने के बाद हादसे में लापता चार अन्य शवों की तलाश के लिये फतेहपुर व बांदा जनपद में लगातार गोताखोरों की टीम के साथ एनडीआरएफ व एसडीआरएफ की टीम खोजबीन में लगी है। नांव हादसे के कारण की जांच की जा रही है। जिसमे जो भी दोषी पाया जायेगा उस पर कार्रवाई की जायेगी। उक्त बातें नाव हादसे मामले के रेस्क्यू अभियान की निगरानी कर रहे कैबिनेट मंत्री राकेश सचान ने कही।

पत्रकारों से वार्ता करते कैबिनेट मंत्री राकेश सचान व संजय निषाद।

शनिवार को बांदा जनपद के बबेरू के मरका गांव को फतेहपुर के असोथर रामनगर कौहन जोडने वाली यमुना नदी में मरका गांव के निकट हुए नाव पलटने में लगभग चालीस लोगों के डूब गये थे। राहत बचाव की निगरानी में लगे कैबिनेट मंत्री राकेश सचान व रामकेश ने सर्किट हॉउस में पत्रकारों से वार्ता के दौरान बताया कि स्थानीय लोगों के सहयोग से बाकी लोगों को तो बचा लिया गया। वहीं हादसे में 12 लोग लापता बताए जा रहे थे। जिनकी तलाश में एनडीआरएफ़ व एसडीआरएफ की टीम सहित पुलिस फायर ब्रिगेड व स्थानीय गोताखोरों के द्वारा की का रही थी। यमुना नदी के तेज़ बहाव की वजह से शव मिलने में कठिनाई का सामना करना पड़ रहा था। टीमो को शनिवार को आठ शवों में छह शवो की तो पहचान हो गयी है दो शवों की पहचान की जा रही है। हादसे की जांच व राहत बचाव अभियान की सीएम योगी आदित्यनाथ द्वारा स्वयं निगरानी करने के साथ ही उनके साथ बांदा जनपद के विधायक एव मंत्री रामकेश भी निरंतर अभियान कार्य की निगरानी कर रहे है। उन्होने पत्रकारों के सवालों का जवाब देते हुए हादसे की उच्च स्तरीय जांच होने व बाढ़ चौकियों एवं स्थानीय थाना की लापरवाही को स्वीकार कर दोषी कर्मियों पर सख्त कार्रवाई का आश्वासन दिया। उन्होंने कहा कि यमुना नदी पर वर्ष 2011 से निर्माणाधीन पुल की देरी भी हादसे के लिये जिम्मेदार बताया। कहा कि मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ द्वारा 2023 में पुल के निर्माण पूरा होने का आश्वासन दिया गया है। उन्होने कहा कि भारतीय जनता पार्टी की सरकार हर पीड़ित परिवार के साथ ही मृतकों के परिजनों को चार लाख रुपये का मुआवजा देने के साथ ही परिवार को यदि आवश्यक हुआ तो आवास योजना समेत अन्य योजनाओं का लाभ दिलाया जायेगा। जांच में जो भी अफसर या कर्मचारी दोषी साबित होगा कार्रवाई की जायेगी। पत्रकार वार्ता के दौरान नाव हादसे के राहत बचाव अभियान का जायज़ा लेने के लिये जनपद पहुंचे कैबिनेट मंत्री संजय निषाद ने हादसे पर दुःख जताते हुए पीड़ित परिवारों की हर संभव सहायता करने की बात कही। इस मौके पर जिला पंचायत सदस्य अजय सिंह उर्फ रिंकू लोहरी, बबलू कालिया, मनीष पटेल आदि मौजूद रहे।


No comments:

Post a Comment

Post Bottom Ad

Pages