या हुसैन की सदाओं के बीच बहाया लहू - Amja Bharat

Amja Bharat

All Media and Journalist Association

Breaking

Saturday, August 6, 2022

या हुसैन की सदाओं के बीच बहाया लहू

छूरी का मातम देखने के लिए उमड़ा सैलाब

अकीदत के बीच तीन पलंगों का दो स्थानों पर हुआ मिलाप

फतेहपुर, शमशाद खान । मोहर्रम की सात तारीख पर या हुसैन-या हुसैन, लब्बैक-लब्बैक या हुसैन की सदाएं गूंज उठी। शिया समुदाय के लोगों ने नौहा ख्वानी के बीच पलंग के आगे पहले हाथ से मातम किया फिर जंजीर से मातम व कमा लगाकर अपना लहू बहाया। जिसे देखकर लोगों ने अपनी उंगलियां दातों तले दबा लीं। उधर तीन पलंगों का पहला मिलाप शाम तीन बजे पीलू तले चौराहे पर व दूसरा मिलाप सैय्यदवाड़ा कूंड तालाब पर देर रात हुआ। पलंग का मिलाप देखने के लिए जनसैलाब उमड़ पड़ा। इन दिनों शहर की ताजियादारी उरूज पर है। 

मुस्लिम इंटर कालेज के पास छूरी का मातम करते शिया समुदाय के लोग व पीलू तले चौराहा पर पलंग का मिलाप।

सात मोहर्रम पर शहर के सैय्यदवाड़ा, अमरजई से पलंग का जुलूस उठा। पलंग की बिनाई का काम भोर चार बजे ही शुरू हो गया था। तीनों पलंग पर श्रद्धालुओं की भीड़ भोर से ही उमड़ने लगी थी। लोगों ने पलंगों पर फूल व प्रसाद चढ़ाकर श्रद्धा सुमन अर्पित किए। सैय्यदवाड़ा मोहल्ले से उठने वाले पलंग के जुलूस में शिया समुदाय की ओर से नौहा ख्वानी के बीच बच्चे बूढ़े व नौजवानों ने जंजीर कमा का मातम किया। जंजीर व कमा का मातम करने वाले लहूलुहान हो गये। खून की बहती धार देख लोगों ने दांतों तले उंगली दबा ली तत्पश्चात दो पलंगों का जूलूस महाजरी मुहल्ले की गलियों से होता हुआ पीलू तले तिराहे पर पहुंचा। जहां अमरजई मुहल्ले के पलंग से मिलाप हुआ। तीनों पलंगों का जुलूस एक साथ होकर निर्धारित रास्तों से मुस्लिम इंटर कालेज के समीप पहुंचा। जहां रात लगभग नौ बजे पुनः मिलाप के साथ जुलूस समाप्त हो गया। पलंगों के आगे दर्जनभर से ज्यादा अलम साथ-साथ चल रहे थे। दिनभर चले पलंग जुलूस के दौरान अकीदतमंदों की उमड़ी भीड़ में महिला और बच्चे लाला बाजार में सजी घरेलू समान की दुकानों एवं खिलौना आदि की दुकानों से जहां खरीददारी की। यह खरीददारी का सिलसिला भी सारा दिन चलता रहा। वहीं दूर-दराज से पलंग जुलूस देखने आये लोगों ने लाला बाजार में लगी सब्जी और लुचूई एवं कवाब-समोसे की दुकानों से यह खाद्य सामग्री खरीदकर आनन्द लेते रहे। ंसुबह से लेकर देर शाम तक पलंग जुलूस के साथ सुरक्षा व्यवस्था के तहत जहां पुलिस बल तैनात रहा। वहीं प्रशासनिक अधिकारी भी बीच-बीच में जायजा लेते रहे। उधर शिया समुदाय में मजलिसों व नौहा ख्वानी का सिलसिला जारी रहा।

आज फाटक से बाहर आएगा सुप्रसिद्ध ताजिया

फतेहपुर। जिले में हिंदू-मुस्लिम की आस्था का प्रतीक एवं सुप्रसिद्ध चांदू मियां का ताजिया कल (आज) इमामबाड़े के फाटक से बाहर आएगा। शाम लगभग चार बजे आयोजक ताजिये को निकालकर बाहर तखत पर जियारत के लिए रखेंगे। जहां बड़ी संख्या में अकीदतमंद पहुंचकर ताजिये की जियारत करके चढ़ावा चढ़ाने का काम करेंगे। बताते चलें कि मोहर्रम की पहली तारीख से ही चांदू मियां के ताजिये का इमामबाड़ा प्रतिदिन शाम को जियारत के लिए खोला जाता है और बड़ी संख्या में अकीदतमंद पहुंचकर लगातार चढ़ावा चढ़ाने का काम कर रहे हैं। यह ताजिया नौ मोहर्रम की रात बारह बजे के बाद इमामबाड़े से उठाया जाएगा। तत्पश्चात अपने कदीमी रास्तों से भ्रमण करता हुआ ताजिया पुनः इमामबाड़े पहुंचेगा। फिर दस मोहर्रम की रात ताजिया उठकर पूरी रात भ्रमण करेगा और ग्यारह मोहर्रम की सुबह ताजिये को सुपुर्द-ए-खाक किया जाएगा। 


No comments:

Post a Comment

Post Bottom Ad

Pages