चोरी उजागर होने की भय से की थी चौकीदार की हत्या - Amja Bharat

Amja Bharat

All Media and Journalist Association

Breaking

Monday, August 29, 2022

चोरी उजागर होने की भय से की थी चौकीदार की हत्या

पुलिस ने हत्यारोपी को चोरी के रूपयों सहित किया गिरफ्तार

बांदा, के एस दुबे । रविवार को थाना बिसण्डा पुलिस व एसओजी द्वारा कस्बे में गल्ले की दूकान से हुई 40 हजार रुपये की चोरी और बुजुर्ग चौकीदार की हत्या का 48 घण्टे के भीतर खुलाशा किया है। अपर एसपी ने बताया कि चोरी करने गये युवक ने पहचान उजागर होने की डर से बुजुर्ग चौकीदार की हत्या कर दी थी। अभियुक्त के कब्जे आलाकत्ल चाकू, मिर्च पाउडर व चोरी में प्रयुक्त उपकरण व चोरी किए गए 33670 रुपये बरामद किए गए है। उन्होने आगे बताया कि कस्बा बिसण्डा के रहने वाला बुजुर्ग नन्हे दुबे कस्बा के ही श्यामजी ताम्रकार की गल्ले की दूकान पर चौकीदारी का काम करता था। अभियुक्त दूकान के मालिक श्यामजी का रिश्ते में पारिवारिक भतीजा लगता था । पहचान छुपाने के लिए चोरी करते समय अभियुक्त ने हेलमेट, ग्लव्स और मुंह में गमछा पहन रखा था। चोरी करते समय चौकीदार ने युवक को पहचान लिया था, इसी के डर से अभियुक्त ने चौकीदार की हत्या कर दी थी। वहीं बुजुर्ग की हत्या के बाद शव को बोरियों के नीचे दबाकर अतर्रा चला गया था। जहां उसने अपने खून से लथपथ कपड़े आदि झाड़ियों में दिए फेंक दिए थे। अपर एसपी ने बताया कि सीसीटीवी फुटेज की सहायता से अभियुक्त की पहचान की गई है। अभियुक्त कानपुर भागते समय बुंदेलखण्ड एक्सप्रेस वे पर पुनाहुर ग्राम में पुलिया के नीचे बनी सड़क से किया गया गिरफ्तार किया गया है ।


पुलिस अधीक्षक अभिन्दन व अपर पुलिस अधीक्षक लक्ष्मी निवास मिश्र क्षेत्राधिकारी बबेरु सत्य प्रकाश शर्मा के निकट पर्येक्षण में आज एसओजी व थाना बिसण्डा पुलिस द्वार कस्बा बिसण्डा में 25 अगस्त की रात्रि को गल्ले की दूकान में चोरी करने व बुजुर्ग चौकीदार की हत्या की घटना खुलाशा करत हुए अभियुक्त गिरफ्तार कर लिया गया । गौरतलब हो कि नन्हे दुबे निवासी गहमर थोक कस्बा बिसंडा कस्बा बिसण्डा के ही श्यामजी ताम्रकर की गल्ले की दूकान में चौकीदार का काम करता था । 25/26 की रात्रि में श्यामजी के रिश्ते में पारिवारिक भतीजा सूरज ताम्रकार पुत्र शोभाराम ताम्रकार दूकान में चोरी करने के उद्देश्य से घुस गया। इस दौरान उसने पहचान छिपाने के लिए हेलमेंट और गमछा पहन रखा था। लेकिन चोरी करने के दौरान चौकीदार नन्हे ने उसे पहचान लिया । पहचान उजागर होने के डर से अभियुक्त ने पहले चौकीदार के चेहरे पर लाल मिर्च का पाउडर डाल दिया और फिर चाकू से रेतकर बुजुर्ग की हत्या कर दी तथा शव को बोरियों के नीचे दबाकर अतर्रा चला गया जहां उसने अपने खून लगे कपड़े झाड़ियों में फेंक दिए तथा वहां से कानपुर भागने की फिराक में था इसी दौरान उसे पुलिस द्वारा बुंदेलखण्ड एक्सप्रेस वे पर पुनाहुर ग्राम में पुलिया के नीचे बनी सड़क से गिरफ्तार कर लिया गया । अभियुक्त के कब्जे आलाकत्ल चाकू, मिर्च पाउडर व चोरी में प्रयुक्त उपकरण व चोरी किए गए 33670 रुपये बरामद किए गए हैं ।


No comments:

Post a Comment

Post Bottom Ad

Pages