जिला अस्पताल में डेंगू वार्ड तैयार, मिलेगा बेहतर इलाज - Amja Bharat

Amja Bharat

All Media and Journalist Association

Breaking

Wednesday, August 31, 2022

जिला अस्पताल में डेंगू वार्ड तैयार, मिलेगा बेहतर इलाज

बारिश और बाढ़ के बीच फैल रही मौसमी बीमारियां

फतेहपुर, शमशाद खान । बारिश और बाढ़ के बीच फैल रही मौसमी बीमारियों को देखते हुए स्वास्थ्य विभाग चौकन्ना हो गया है। जिला अस्पताल में डेंगू से निपटने के लिए जहां वार्ड तैयार किये गये हैं तो वहीं ग्रामीण क्षेत्र के अस्पतालों में भी बेड की अलग से व्यवस्था की गई है। जनपद में अभी तक डेंगू के तीन और मलेरिया के 28 मरीज मिल चुके हैं। स्वास्थ्य विभाग बीमारियों से निपटने के लिए व्यवस्थाएं कर रहा है। डेंगू का पता लगाने के लिए मरीजों की जांच कर एलाइजा टेस्ट के लिए सेंपल मेडिकल कालेज कानपुर भेजा जा रहा है। 

सीएमएस डा.आरएम गुप्ता ने बताया कि डेंगू के मरीजों के लिए पर्याप्त दवाइयां हैं। लैब में बराबर बीमारियों का पता लगाने के लिए जांच का काम भी हो रहा है। मलेरिया का पता लगाने को स्लाइड बनाई जा रही है। मरीज में डेंगू की पुष्टि होने के बाद तुरंत इलाज शुरू कर दिया जाएगा। उन्होंने बताया कि बीस हजार मलेरिया किट की अलग से डिमांड की गई है। टायफाइड की जांच के लिए तीन हजार की मांग की गई है। अभी जो मौसमी बीमारियां हैं। उसको देखते हुए पूरी तरह से नजर रखी जा रही है। जिला अस्पताल में भर्ती मलेरिया रोगी सनगांव के मो. एजाज ने बताया कि दो सप्ताह पहले बुखार आया था जिला अस्पताल आए तो डाक्टर ने पहले खून की जांच कराई। फिर भर्ती कर इलाज शुरू किया। अब बहुत आराम है। इसी प्रकार गोपालगंज की सुनीता ने बताया कि उनके बेटे मोनू को बुखार था हालत गंभीर होने पर जिला अस्पताल में भर्ती कराया अब ठीक है। जिला अस्पताल के फिजीशियन डा. केके पांडेय ने बताया कि सर्दी, जुकाम, खांसी और बुखार से बचाव के लिए बारिश के पानी से दूर रहें। उल्टी, दस्त से बचाव के लिए बताया कि साफ पीने के पानी का प्रयोग करें।घर का बना हुआ ताजा खाना खायें, बासी खाना खाने से परहेज करें। बाजार की कोई भी खुली हुई चीज बिलकुल न खायें। घर के आस-पास साफ-सफाई रखें। कहीं भी (कूलर, छत पर पड़े टायर, गमले, नारियल के खोल, टीन के डिब्बों आदि में) पानी न इकट्ठा होने दें, जिससे उसमें लार्वा न पनप सकें। बच्चों को पूरी आस्तीन के कपड़े पहनाएँ एवं कमरे में सोते समय मच्छरदानी का प्रयोग करें। मच्छर से बचने के लिए अन्य साधनों का भी उपयोग कर सकते हैं। अगर ठंड देकर बुखार आ रहा है मलेरिया हो सकता है, तो खून की जांच करायें तथा यथाशीघ्र इलाज करना सुनिश्चित करें। डेंगू बुखार में प्लेटलेट्स कम हो सकती हैं, ऐसे में प्लेटलेट्स की जल्दी-जल्दी जांच कराना जरूरी होता है। 


साफ पानी में पनपता डेंगू मच्छर

फतेहपुर। जिला मलेरिया अधिकारी सुजाता ठाकुर ने बताया कि जिले में अभी डेंगू के तीन व मलेरिया के 28 केस है। डेंगू फैलाने वाला एडीज मच्छर साफ पानी में पैदा होता है और यह दिन के समय काटता है। डेंगू की बीमारी संक्रमित एडीज मच्छर द्वारा काटे जाने पर फैलती है। सामान्यतः डेंगू बीमारी ज्वार के रूप में उत्पन्न होती है। उचित इलाज न होने पर इससे जान भी जा सकती है। इस बीमारी से ग्रसित लोगों को अचानक तेज बुखार, कमर, जोड़ों व सिर में असहनीय दर्द होता है। 

डेंगू के लक्षण

  • -अचानक सिर में तेज दर्द के साथ बुखार आना।
  • -मांसपेशियों तथा जोड़ों में दर्द होना।
  • -आंखों के पीछे दर्द होना।
  • -जी मिचलाना, उल्टी आना।
  • -गंभीर मामलों में मुंह, नाक व मसूड़ों से खून आना।
  • -त्वचा पर चकत्ते उभरना।

बचाव के उपाय

  • -डेंगू का संदेश होने पर सरकारी अस्पताल व नजदीकी स्वास्थ्य केंद्र में जांच कराएं।
  • -पानी के भरे हुए बर्तन को ढक कर रखें।
  • -हर सप्ताह कूलर को खाली करके सुखाने के बाद प्रयोग में लाएं।
  • -पूरे बदन को ढकने वाले कपड़े पहने।
  • -प्लेटलेट्स चढ़ाने में शीघ्रता ना करें।
  • -घर और आसपास में पानी जमा ना होने दें।
  • -मच्छर रोधी क्रीम व क्वायल आदि का प्रयोग करें।


No comments:

Post a Comment

Post Bottom Ad

Pages