कब्रिस्तान पर अतिक्रमण से नाराजगी, प्रधान पर गंभीर आरोप - Amja Bharat

Amja Bharat

All Media and Journalist Association

Breaking

Saturday, August 6, 2022

कब्रिस्तान पर अतिक्रमण से नाराजगी, प्रधान पर गंभीर आरोप

चुनावी रंजिश के चलते प्रधान ने रचा षड्यंत्र, बिगाड़ रहा माहौल

नवयुवक व वृद्धजनों ने डीएम-एसपी से लगाई न्याय की गुहार

फतेहपुर, शमशाद खान । खागा तहसील क्षेत्र के अंतर्गत ऐरायां मशाएक गांव में अर्से से बनी कब्रिस्तान में स्थानीय लोग अवैध कब्जे से काफी परेशान हैं। बतौर स्थानीय नागरिक गांव में हाल में ही बाहर से आये एक व्यक्ति ने प्रधान की शय पर आतंक सा मचा रखा है। वर्तमान में मोहल्ला खानपुर स्थित मुस्लिम समुदाय की कब्रस्तान स्थल है जो कि ग्रामीणों के मुताबिक तकरीबन 800 साल पुरानी है। मुहल्ले के वरिष्ठ व बुजुर्गों ने बताया कि ये जमीन में कब्रिस्तान जमीदारी के समय से परंपरागत तरीके से चली आ रही है। जहाँ पर आज भी पुराने जमाने की बनी मस्जिद के अवशेष उपस्थित हैं। 

पुरानी मस्जिद के अवशेष व कब्रिस्तान पर अवैध कब्जे का दृश्य।

विवाद की जड़ ये है कि इसी कब्रगाह के पास रहने वाले शाह मोहम्मद उर्फ सब्बा गंदगी फैलाता है और अब तो कुरिया डालकर अतिक्रमण करते हुए कब्जे की नियत बना रहा है। जिस पर जिम्मेदार लोगों ने पाबंदी किया तो उक्त व्यक्ति अपनी पत्नी, बेटियों के माध्यम से झूठे मुकदमे में फंसाने की धमकी दे रहा है और सपरिवार लड़ने पर अमादा है। इस समूचे प्रकरण में वर्तमान ग्राम प्रधान वीरेन्द्र मौर्य की भूमिका पर कुछ लोगों ने आरोप लगाते हुए न्याय की गुहार जिलाधिकारी, पुलिस अधीक्षक व उप जिलाधिकारी खागा से बजरिये शिकायती पत्र के माध्यम से की है। प्रार्थना पत्र देते हुए फिरोज आलम, मोहम्मद शब्बीर, अबरार अहमद, मोहम्मद हयात, फहीम उद्दीन, चाँद मियाँ, एकलाख अली, साहुन अली, मंजूर अली, खलील बख्श, आलमीन, अच्छू, खालिक हुसैन, सईद अहमद, मुन्ना, कबूल अहमद, सलामत अली, नब्बन, अफ़ज़ल, खुशनूद, राशिद अली, शकील, जलील, याकूब मास्टर, कल्लू, मुनाज, इश्तियाक, इस्तेखार, मारूफ, जुल्फिकार, अबरार, मुस्तफा, शहंशाह, नूर, सलीम, राशिद आदि ने प्रशासन व शासन से गुहार लगाते हुए बताया कि शाह मोहम्मद उर्फ सब्बा खखरेरू थाना क्षेत्र के ओरहा गांव का मूल निवासी है और आपराधिक प्रवृत्ति का व्यक्ति है जिसके विरुद्ध थाना खखरेरू में कई संगीन अपराध दर्ज हैं। जो ऐरायां मशायक बीते एक दो सालों से ही बस गया है। अपनी दबंगई के चलते आतंक से मचा दिया है। वर्तमान ग्राम प्रधान वीरेंद्र मौर्य की शह पर चुनावी रंजिश के चलते यह सब हो रहा है। प्रधान के भ्रष्टाचार का लोगों ने विरोध भी किया जिसकी खुन्नस में आकर प्रधान ने उक्त अपराधी किस्म के व्यक्ति को जमीन देने का लालच देकर विवाद शुरू किया। इस प्रकरण में उप जिलाधिकारी खागा मनीष कुमार ने पूर्व में शिकायत के आधार पर मौके का स्थलीय निरीक्षण करते हुए अतिक्रमण को हटाने की चेतावनी भी उक्त व्यक्ति को दी थी। दस दिन का समय भी दिया था। साथ ही कब्र स्थल पर गंदगी के लगे अंबार को देख प्रधान को फटकार भी लगाई थी। सहायक पंचायत अधिकारी को सफाई कराने के निर्देश भी दिए थे लेकिन मौके पर किसी भी बात का अमल नहीं किया गया। शिकायकर्ताओं ने कहा कि प्रधान वीरेंद्र मौर्य गांव का माहौल खराब करना चाहता है। जिससे गांव में तनाव का माहौल बन रहा है। प्रशासन से गुहार लगाई कि इस प्रकरण से प्रशासन न्याय दिलाये और फर्जी व झूंठे मुकदमे में फंसने से बचाया जाए।


No comments:

Post a Comment

Post Bottom Ad

Pages