शांत नहीं हो रहा यमुना नदी का रौद्र रूप - Amja Bharat

Amja Bharat

All Media and Journalist Association

Breaking

Sunday, August 28, 2022

शांत नहीं हो रहा यमुना नदी का रौद्र रूप

टीलो में बैठ बाढ़ कम होने का इंतजार करते देखे गए फंसे लोग

मार्गो में पानी भरने से आवागमन की है जटिल समस्या

प्रभावितों को राहत पहुंचाने में जुटे प्रशासन व समाजसेवी 

चित्रकूट, सुखेन्द्र अग्रहरि। राजापुर व मऊ क्षेत्र में लगातार यमुना का जल स्तर बढ़ रहा है। इससे बाढ़ प्रभावितों की संख्या बढ़ती जा रही है। लोग ऊंचे टीलों में बैठ कर पानी उतरने का इंतजार करते देखे गए। जिला प्रशासन बाढ़ प्रभावितों को विस्थापित कर उनकी जरूरतों को पूरा करने के लिए जुट गया है। स्कूलों के भवनों में ठहराने की व्यवस्था की है। पशुओं को भूसा चारे की व्यवस्था के लिए ग्राम सचिवों का कहा गया है। गांवों में बीमारी न फैले इसके लिए भी स्वास्थ्य टीम को लगाए हैं। मऊ क्षेत्र में 16 से अधिक गांव व राजापुर क्षेत्र में 20 गांव बाढ़ से प्रभावित हैं। सबसे अधिक समस्या रास्तों में पानी भर जाने से आवागमन की हो रही है। इसके लिए नाव चलाई गई हैं। प्रशासनिक अधिकारी मौके पर जाकर निरीक्षण कर रहे हैं। समाजसेवी भी मदद के कार्य में जुटे हुए हैं। सभी इन प्रभावित गांव तक राहत पहुंचाने का प्रयास कर रहे हैं।

बाढ़ का दृश्य 

यमुना नदी में बाढ़ थमने का नाम नहीं ले रही है। जिले के राजापुर व मऊ क्षेत्र के नदी के तटवर्ती दर्जनों गांव घिरे हुए है। कई स्थानों पानी भर गया है। मऊ क्षेत्र में मऊ क्षेत्र में मवई कला, बरहा कोटराखंभा, घुरेटहा, बरवार, मंडौर गांव पूरी तरह से यमुना नदी के पानी से घिर गए है। यमुना नदी से जुड़ छोटी-छोटी नदियों में भी बाढ़ आ गई। मानकुंवर, तिलौली के मध्य की नदी, मानकुंवर, सेषा गांव के पास स्थित नदी भी बढ़ गई। इनके आसपास के नाले बुंदेला नाला, पर्दवा नाला, पाली कुरिया से लगा नाला में पानी ऊ फान मार रहे है। इससे संपर्क मार्गो में पानी भर गया है। मऊ से चकौर संपर्क मार्ग, मैदाना के पास बने सड़क के रपेट के ऊपर पानी चलने से सखौंहा, सिकरौव, चकौर, सुहेल, दलौली का पुरवा, चदहा ठाकुर का डेरा, रेड़ीभुसैली, पोतनिहां का पुरवा, बम्बुरा आदि गांव रास्ते प्रभावित है। मऊ क्षेत्र के ही मऊ से परदवां मार्ग सेषासुबकरा से तिलौली के बीच आवागमन कई दिनों से बंद, प्राथमिक विद्यालय में यमुना नदी का पानी अंदर चला गया है। राजापुर क्षेत्र के अतरौली, नैनी, धौरहर,
राहत सामग्री देते समाजसेवी।

बरद्धारा, चांदी, धुमाई, बक्टा, हस्ता, बेलास, चिल्लीमल, पानी से घिरे हुए है। सरधुआ व अर्की के निचले क्षेत्रों मेें ग्रामीणों के घर तक पानी पहुंच गया है, लेकिन अब तक कोई क्षति नहीं पहुंची। मवई कला गांव में पानी घुसने से 25 परिवारों को पूर्व माध्यमिक एवं एवं प्राथमिक विद्यालय मवई कला में शिफ्ट किया गया है। इसी तरह से मंडौर गांव के परिवार को विद्यालय में व्यवस्था की गई। राजापुर क्षेत्र के सरधुआ गांव के पास कमासिन राजापुर मार्ग एवं अर्की मार्ग में पानी भर जाने के कारण सरधुआ गांव के पास बसे 20 परिवारों को प्राथमिक विद्यालय में व्यवस्था की गई है। एसडीएम ने बाढ़ प्रभावितों को राहत सामग्री, पेयजल स्वास्थ्य, कोटेदार के माध्यम से खाद्यान्न का वितरण करने की व्यवस्था के निर्देश सहित पेयजल, विद्युत की व्यवस्था करने के लिए कहा गया है।


No comments:

Post a Comment

Post Bottom Ad

Pages