बाँदा रोडवेज को 55 लाख रु0 का जुर्माना - Amja Bharat

Amja Bharat

All Media and Journalist Association

Breaking

Saturday, August 6, 2022

बाँदा रोडवेज को 55 लाख रु0 का जुर्माना

मोटर दुर्घटना दावा अधिकरण के न्यायाधीश ने खुले न्यायालय में सुनाया फैसला

पांच याचियों की याचिका पर एक साथ सुनवाई कर छेत्रीय प्रबंधक को 7.5%ब्याज सहित भुगतान का दिया आदेश

बांदा, के एस दुबे - मोटर वाहन दुर्घटना दावा अधिकरण न्यायालय बांदा ने परिवहन निगम की बस से मृत्यु होने पर पांचों याची की याचिका स्वीकार करते हुए आदेश दिया कि क्षेत्रीय प्रबंधक चित्रकूट धाम मंडल बांदा उत्तर प्रदेश राज्य परिवहन निगम याचीगण को  5453200 रुपए की क्षतिपूर्ति के रूप में अदा करें। इसके अलावा याचिका विपक्षी से निर्णय की तिथि से 7.5 फ़ीसदी वार्षिक ब्याज भी पाने के अधिकारी हैं । निर्णय का अनुपालन के लिए 1 माह समय सीमा न्यायालय द्वारा निर्धारित की गई है।
घटना इस प्रकार थी कि 3 दिसंबर 2020 को शाम 6:45 ऑटो में सवार होकर राम गोपाल पुत्र रामधनी रामाधीन पुत्र रामकुमार ,लाल बहादुर पुत्र चुनूबाद, सानवी पुत्री लाल बहादुर ,लुसन, फूलचंद प्रजापति तथा अनिल उर्फ शिव दुलारे पुत्र बच्चा तिवारी एवं मानसिंह पुत्र प्यारेलाल निवासी पतरा थाना कुरारा जनपद हमीरपुर और सुरेश पुत्र मुन्ना बाल्मीकि तथा सुमित्रा यादव पत्नी हरिराम निवासी जमालपुर थाना कोतवाली देहात बांदा ऑटो जिसका नंबर यूपी 90 ए टी 0428 से सवार होकर बांदा से पपरेंदा जा रहे थे ।ऑटो को अनिल कुमार उर्फ शिव दुलारे चला रहा था ।जैसे ही ऑटो कोतवाली देहात से जमालपुर स्थित पेट्रोल पंप के पास पहुंचा तो सामने से तेजी से और लापरवाही से रोडवेज बस संख्या यूपी 90 टी 36 26 के चालक अजय बाबू पुत्र दयाशंकर तिवारी निवासी

ग्राम नदी थाना पैलानी द्वारा अपने विपरीत दिशा में आकर ऑटो में जोरदार टक्कर मार दी जिससे ऑटो चालक अनिल उर्फ शिव दुलारे उर्फ महंगा राम कथा राम गोपाल राम अधीन लाल बहादुर सानवी लोशन मान सिंह की मृत्यु हो गई तथा सुमित्रा यादव सुरेश बाल्मीकि घायल हो गए घटना की एफ आई आर ओमप्रकाश पुत्र रामकिशन निवासी ग्राम पपरेंदा द्वारा की गई। भीषण दुर्घटना पर न्यालय मोटर दुर्घटना अधिकरण बांदा में श्रीमती किशन या पत्नी स्वर्गीय बच्चा रामसहाय तिवारी पुत्र स्वर्गीय बच्चा छोटे पुत्र बच्चा ग्राम पपरेंदा और श्रीमती रामबाई पत्नी लूसन, सोहनलाल, वीरेंद्र, कांति, शांति, विमल ,मूलचंद्र सुमना, निवासी ग्राम पपरेंदा इसी प्रकार मानसी पत्नी लाल बहादुर, अनन्या, ननकी निवासी ग्राम पपरेंदा और हरिराम यादव पुत्र बैजनाथ ,अन्नपूर्णा पुत्री हरिराम, नील ,अंश यादव संरक्षक हरीराम पुत्र बैजनाथ निवासी ग्राम जमालपुर एवं श्रीमती नील पत्नी मान सिंह  ने अलग-अलग पांच याचिका प्रबंध निदेशक उत्तर प्रदेश राज्य सड़क परिवहन निगम लखनऊ क्षेत्रीय प्रबंधक चित्रकूट धाम रोडवेज बांदा अजय तिवारी पुत्र दयाशंकर तिवारी बस चालक बजाज एलियांज जनरल इंश्योरेंस कंपनी कानपुर रंजन पत्नी प्यारेलाल निवासी ग्राम पारा आदि को आवश्यक पक्षकार बनाते हुए मोटर दुर्घटना में मृत्यु हो जाने के कारण क्षति पूर्ति हेतु मोटर वाहन अधिनियम की धारा 166 के अंतर्गत वाद दाखिल कराए गए। मोटर दुर्घटना दावा अधिकरण की ओर से विपक्षी को जवाब दावा दाखिल करने के लिए नोटिस जारी किए गए। विपक्षी गण ने अपने जवाब में कहा कि उक्त दुर्घटना दोनों वाहन चालकों की योगदाई उपेक्षा का परिणाम है। क्षतिपूर्ति की धनराशि अत्याधिक और काल्पनिक है तथा याचिका निरस्त किए जाने योग्य है ।          मोटर दुर्घटना दावा अधिकरण के पीठासीन अधिकारी धर्मेंद्र कुमार पांडे ने पक्षकारों के विद्वान अधिवक्ताओं की बहस सुनी और शनिवार को एक साथ पांचों मामलों में अलग-अलग आदेश पारित किए और अपने 18 पृष्ठीय आदेश में कहा कि दुर्घटना उत्तर प्रदेश परिवहन निगम के बस चालक के द्वारा वाहन को तेजी और लापरवाही से चलाने के कारण होना साबित हुआ। जिससे क्षेत्रीय प्रबंधक उत्तर प्रदेश राज्य सड़क परिवहन निगम बांदा से क्षतिपूर्ति पाने के अधिकारी हैं। विद्वान न्यायाधीश ने अपने निर्णय में मृतकों के वारिसान जिसमें सुमित्रा के परिजन को 12 लाख,शिव दुलारे ऑटो चालक के आश्रित को 9लाख 10हजार, लूसन के वारिसान मानसी को 11 लाख 20 हजार की क्षतिपूर्ति तथा लाल बहादुर के परिजन को 11 लाख 45 हजार 200 रुपए की क्षतिपूर्ति और मानसिंह के आश्रितों को 10 लाख 78 हजार की छत पूर्ति 7.5फ़ीसदी वार्षिक ब्याज के साथ वाद दायर होने की तिथि से अदा करने का आदेश दिया ।निर्णय का अनुपालन करने के लिए क्षेत्रीय प्रबंधक रोडवेज बांदा को एक माह का समय दिया गया है।

No comments:

Post a Comment

Post Bottom Ad

Pages