कम लागत में होती है जैविक और प्राकृतिक खेतीः कुलपति - Amja Bharat

Amja Bharat

All Media and Journalist Association

Breaking

Friday, July 1, 2022

कम लागत में होती है जैविक और प्राकृतिक खेतीः कुलपति

जैविक कृषि विषय पर पांच दिवसीय प्रशिक्षण कार्यक्रम प्रारंभ

बांदा, के एस दुबे । महिला किसान सशक्तिकरण परियोजना के अन्तर्गत आज मृदा विज्ञान एवं कृषि रसायन विभाग, कृषि महाविद्यालय, बाँदा कृषि एवं प्रौद्योगिक विश्वविद्यालय बाँदा में कृषि एवं पशु सखियों का पाँच दिवसीय आवासीय प्रशिक्षण का शुभारम्भ  माननीय कुलपति महोदय द्वारा दीप प्रजव्लन के साथ हुआ। कार्यक्रम में मुख्य अतिथि के रूप में उपस्थित विश्वविद्यालय के कुलपति प्रो0 नरेन्द्र प्रताप सिंह ने प्रशिक्षण को आज की परिस्थितियों के लिए अनिवार्य बताते हुए कहा कि जैविक एवं प्राकृतिक खेती में लागत कम आती है, साथ ही साथ मृदा स्वास्थ्य ठीक रहता है। यही नही इस प्रकार की खेती में उत्पादित होने वाले उत्पाद की गुणवŸा भी मानव स्वास्थ्य के लिए लाभप्रद होती है। उन्होने कहॉ कि जिस प्रकार से महिलायें घर का प्रबन्धन अच्छी प्रकार से करती है उसी प्रकार से खेती का प्रबन्धन भी बेहतर तरीके से करेगी ऐसा मेरा विश्वास है।


अधिष्ठाता कृषि डा0 जी0 एस0 पवार ने महाविद्यालय के माध्यम से इस प्रकार के प्रशिक्षण को सतत करवाने की महŸा पर जोर दिया। छात्र कल्याण अधिष्ठाता डा0 वी0 के0 सिंह ने प्राकृतिक एवं जैविक कृषि में केचुए के योगदान पर प्रकाश डाला। मृदा विज्ञान एवं कृषि रसायन विभाग के अध्यक्ष डा0 जगन्नाथ पाठक ने सभी का स्वागत करते हुए कहा कि विभाग पूरी तनमयता से इन प्रशिक्षणों को सफल करने का प्रयास करेगा। डा0 देव कुमार आयोजक सचिव प्रशिक्षण कार्यक्रम, ने प्रशिक्षण की रूप रेखा को सबके सामने रखते हुए कहा कि इन प्रशिक्षणों में हम व्यवहारिक ज्ञान पर ज्यादा जोर देगे ताकि कृषि एवं पशु सखी प्रशिक्षण प्राप्त करने के उपरान्त अपने-अपने क्षेत्रों में बेहतर तरीके से अन्य महिला किसानों को प्रशिक्षण के साथ-साथ अपने खेतो पर सजीव तकनीकियों का प्रदर्शन कर सके।


सुनील कुमार सिंह, जिला मिशन प्रबन्धक लाइवलीहुड द्वारा मृदा विज्ञान एवं कृषि रसायन विभाग के द्वारा कराये जा रहे प्रशिक्षण के प्रबन्धन पर प्रसन्नता व्यक्त करते हुए इस प्रकार के प्रशिक्षण को सतत बनाये रखने का अनुरोध व्यक्त किया, ताकि प्रशिक्षण के माध्यम से कृषि एवं पशु सखी द्वारा कराये जा रहे प्राकृतिक व जैविक खेती में सुधार के साथ-साथ समूह से जुड़ी महिला किसानों को स्वालम्बी व आर्थिक , सामाजिक, नैतिक िस्थ्ति में सुधार लाया जा सके और गरीबी स्तर को कम किया जा सके। कार्यक्रम का संचालन डा0 अमित मिश्रा एवं धन्यवाद ज्ञापन निर्देशक प्रशिक्षण एवं नियुक्ति डा0 भानू प्रकाश मिश्रा ने किया।कार्यक्रम के दौरान डा0 ए0 के0 चौबे, डा0 जे0 के0 तिवारी, डा0 वैशाली गंगवार, प्रभात कुमार, प्रभाश कुमार, मंजू देवी, कमलेश , मोहन सिंह ने अपना सक्रिय सहयोग प्रशिक्षण में प्रदान किया।


No comments:

Post a Comment

Post Bottom Ad

Pages