घटिया साड़ी वितरण का आंगनबाड़ी कार्यकत्रियों ने मढ़ा आरोप - Amja Bharat

Amja Bharat

All Media and Journalist Association

Breaking

Friday, June 10, 2022

घटिया साड़ी वितरण का आंगनबाड़ी कार्यकत्रियों ने मढ़ा आरोप

नहर कालोनी में प्रदर्शन कर सीएम को भेजा ज्ञापन 

फतेहपुर, शमशाद खान । जिले में घटिया साड़ी वितरण का आरोप लगाते हुए उत्तर प्रदेश आंगनबाड़ी कार्यकत्री सहायिका संघ के बैनर तले आंगनबाड़ी कार्यकत्रियों ने नहर कालोनी प्रांगण में प्रदर्शन किया। तत्पश्चात कलेक्ट्रेट पहुंचकर जिलाधिकारी के माध्यम से मुख्यमंत्री को भेजे गए ज्ञापन में बताया कि जिले में घटिया साड़ी का वितरण कराया जा रहा है। दबाव बनाकर आंगनबाड़ी कार्यकत्री, सहायिका एवं मिनी आंगनबाड़ी कार्यकत्रियों के बीच वितरण किया जा रहा है। 

ज्ञापन देने जातीं आंगनबाड़ी कार्यकत्रियां।

आंगनबाड़ी कार्यकत्री सहायिका संघ की प्रदेश अध्यक्ष किरन वर्मा व जिलाध्यक्ष बसंती सोनकर की अगुवाई में आंगनबाड़ी कार्यकत्रियों एवं सहायिकाओं ने नहर कालोनी प्रांगण में धरना-प्रदर्शन किया। कार्यकत्री गुस्से का इजहार करते हुए कलेक्ट्रेट पहुंची और मुख्यमंत्री को संबोधित एक ज्ञापन जिलाधिकारी को सौंपकर बताया कि जनपद में आंगनबाड़ी कार्यकत्री मिनी व सहायिकाओं को साड़ी वितरण का कार्य हो रहा है। जो कि निम्न गुणवत्ता एवं नीचे लोगो पड़ा है जो पहनते समय पैरों में भी लगता है जो विभाग का सम्मानित चिन्ह है। पुरानी साड़ियों का जो पैसा दिया गया था उन साड़ी की अपेक्षा इन साड़ियों में कोई गुणवत्ता नहीं है। पालिस्टर का कपड़ा है जबकि हथकरघा विभाग की ओर से क्रय की गई है। बताया कि यह असोथर एवं धरमपुर सेक्टर और जरौली न्याय पंचायत में लगाए गए हैं जबकि यह सूती और खादी साड़ियां होनी चाहिए। इन साड़ियों की गुणवत्ता की जांच कराई जाए व पूर्व में बहनों के पास जो साड़ियां हैं उनसे मिलान कराया जाए। यह साड़ी आंगनबाड़ी कार्यकत्री व सहायिकाएं लेने से इंकार करती हैं। जोर जबरदस्ती का दबाव बनाकर अधिकारियों ने आंगनबाड़ी को वितरण किया है। इसकी निष्पक्ष जांच कराई जाए। आंगनबाड़ी कार्यकत्री सहायिका संगठन की तरफ से मांग है कि पूर्व की भांति आंगनबाड़ी कार्यकत्री के खाते में पैसा भेजा जाए और आंगनबाड़ी कार्यकत्री स्वयं क्रय करेंगी। कलर जो विभाग देना वह मान्य होगा। ज्ञापन में यह भी कहा गया कि अधिकारी जबरन जीओ ट्रैकिंग, मैपिंग फोन पर अपलोड करा रहे हैं। जबकि वर्ष 2017 में विभाग से मोबाइल मिले थे। मोबाइल कभी काम ही नहीं किए थे जो कार्बन कम्पनी के घटिया किस्म के फोन थे। 95 प्रतिशत फोन निष्क्रिय हो गए हैं और कार्यालय में जमा करा लिए गए। जिनका आज तक कोई निदान नहीं हुआ। जीओ ट्रैकिंग, मैपिंग का कार्य बाधित हो रहा है। बहनों को फोन और रिचार्ज दिलाया जाए तब कार्य शुरू किया जाए। आंगनबाड़ी केंद्र में गोद भराई, अन्न प्राशन, सुपोषण दिवस जैसी गतिविधियों के लिए पहले की भांति धनराशि बहनों के खाते में भेजी जाए। आंगनबाड़ी कार्यकत्रियों का कहना रहा कि यदि बहनों को अधिकारियों ने डरवाया तो वह जिलाधिकारी कार्यालय के बाहर अनिश्चितकालीन शांतिपूर्ण हड़ताल पर बैठने के लिए विवश हो जाएंगी। इस मौके पर अर्चना वर्मा, सीमा, मीरा यादव, अंजू त्रिपाठी, जयश्री, गायत्री देवी, प्रियंका, रेखा देवी भी मौजूद रहीं। 


No comments:

Post a Comment

Post Bottom Ad

Pages