गंगा सेना का गठन कर गंदे नालों को नदियों में गिरने से रोकेंः डीएम - Amja Bharat

Amja Bharat

All Media and Journalist Association

Breaking

Monday, June 13, 2022

गंगा सेना का गठन कर गंदे नालों को नदियों में गिरने से रोकेंः डीएम

डीएम की अध्यक्षता में सम्पन्न हुई जिला गंगा समिति की बैठक

बांदा, के एस दुबे । सोमवार को जिलाधिकारी अनुराग पटेल की अध्यक्षता में कलेक्ट्रेट सभागार में जिला गंगा समिति व जिला पर्यावरण समिति एवं जिला वृक्षारोपण समिति की बैठक सम्पन्न हुई।


गंगा-यमुना एवं जलाशयों में मिलने वाले अनटेप्ड ड्रेन्स बांदा जनपद में अधिशाषी अधिकारी नगर पालिका बांदा द्वारा दो नालों करिया नाला, निम्नी नाला का चिन्हांकन किया गया है, जिसमें इनकी लम्बाई/चौडाई सम्बन्धी प्रांक्कलन भी प्रेषित किया गया है। यमुना/केन नदी एवं जलाशयों में गिरने वाले गंदे नालों को र्प्रदूषण मुक्त करने हेतु नगर पालिका/नगर निकाय को वित्त पोषण के लिए उपलब्ध कराया जाए। यमुना/केन जनपद में जिन ग्राम सभाओं के समीप से गुजरती है उसके तट में बसे ग्रामों का चिन्हांकन करने के जिला पंचायत राज अधिकारी को निर्देश दिये गये। बैठक में कहा गया कि सम्बन्धित ग्राम सभाओं में ग्राम पंचायत/ग्राम प्रधान के सहयोग से गंगा सेना का गठन कर गन्दे नाले/औद्योगिक कचरा/मेडिकल अपशिष्ट आदि को जलाशयों/नदियों में प्रवाहित होने से रोकने हेतु प्रभारी नियंत्रण किया जाए। जनपद में गंगा की सहायक नदियों में मृत जीवों के शव को नदियों/ जलाशयों में न डाला जाए।

वर्ष 2022-23 में जनपद में अधिक से अधिक वृक्षारोपण हेतु लक्ष्यों का निर्धारण करते हुए विभागवार लक्ष्यों के निर्धारण बांदा वन विभाग, पर्यावरण विभाग, ग्राम्य विकास विभाग, राजस्व विभाग, पंचायती राज विभाग, पुलिस विभाग, आवास विकास, औद्योगिक विकास, उद्योग विभाग, नगर विकास, लोक निर्माण, जल शक्ति विभाग, रेशम विभाग, कृषि विभाग, पशुपालन विभाग, सहकारिता विभाग, विद्युत विभाग, माध्यमिक शिक्षा, बेसिक शिक्षा, रेलवे, उच्च शिक्षा, श्रम विभाग, स्वास्थ्य विभाग, उद्यान विभाग सहित इत्यादि विभागों को पिछली बैठक में निर्देशित किया गया था कि 10 मई तक स्थल का चिन्हांकन कर गड्ढे के खुदान का कार्य एवं स्थल वार वृक्षारोपण एक्शन प्लान 31 मई तक पूर्ण कर लिया जाए परन्तु कुछ विभागों द्वारा कार्य में प्रगति नही लायी गयी। उन्होंने एक सप्ताह के अन्दर वृक्षारोपण एक्शन प्लान कार्ययोजना देने के निर्देश दिये हैं। पौधों का रोपण 01 जुलाई से 07 जुलाई के मध्य शत््-प्रतिशत वन महोत्सव के रूप में किया जायेगा। बैठक में राष्ट्रीय वृक्ष बरगद, अशोक, पीपल, पाकड, गूलर, सीता-अशोक, नीम, आम, हरण, बहेडा, बेल, महुआ, सहजन, ऑवला, जामुन, चिरौंजी, शीशम, अर्जुन, कुसुम आदि वृक्षों को रोपित किये जाने के निर्देश दिये। जिलाधिकारी ने बैठक में अमृत महोत्सव उद्यान लगाये जाने पर जोर देते हुए कहा कि अमृत महोत्सव उद्यान की स्थापना महत्वपूर्ण सार्वजनिक स्थलों, सामुदायिक भूमि, राजकीय भूमि, सरकारी/अर्धसरकारी भवनों के परिसर में कराया जाए। विगत वर्ष की भांति 2022-23 में प्रदेश का लक्ष्य 35.00 करोड़ पौधों के रोपण का है, उसी क्रम में जनपद बांदा का लक्ष्य 5195454 है।

प्रभागीय वनाधिकारी द्वारा जिलाधिकारी को अवगत कराया गया कि जनपद बांदा में वन विभाग की 14 पौधशालायें स्थापित हैं उन पौधशालाओं में कुल 5773666 पौधे विभिन्न प्रजातियों के उपलब्ध हैं, जिसमें शीशम, सागौन, अमरूद, अर्जुन, इमली, ऑवला, कंजी, जामुन, नीम, बास, सहजन इत्यादि।

बैठक में अनुपस्थित सहायक निदेशक रेशम, मुख्य पशु चिकित्सा अधिकारी एवं श्रम प्रवर्तन अधिकारी महेन्द्र शुक्ला, श्रम प्रवर्तन अधिकारी सुनील कुमार का एक दिन का वेतन रोकते हुए स्पष्टीकरण मांगा गया तथा एक प्रति कोषाधिकारी को भेजने के निर्देश दिये गये। बैठक में जिलाधिकारी अनुराग पटेल सम्बन्धित विभागों को निर्देशित किया कि यदि एक सप्ताह के अंदर शत्-प्रतिशत गड्ढे खोदकर पोर्टल में आई0डी0 जनरेट नही की गयी तब उन विभागाध्यक्षों को प्रतिकूल प्रविष्टि प्रदान की जायेगी। रेलवे विभाग के द्वारा गड्ढे खुदान की की प्रगति शून्य पायी गयी। नाराजगी व्यक्त करते हुए जिलाधिकारी की तरफ से डी0आर0एम0 रेलवे को कार्यवाही हेतु पत्राचार करने के निर्देश दिये। उन्होंने समस्त खण्ड विकास अधिकारियों को निर्देशित किया कि जिन स्थायी एवं अस्थायी गौशालाओं में गोबर की खाद हो उसको नियमानुसार सम्बन्धित विभागों को विक्रय की जाए और जो गड्ढे खोदे जा रहे उनमें इस खाद का प्रयोग किया जायेगा जिससे पौधा जल्दी विकसित होगा। उन्होंने प्रभागीय वनाधिकारी को निर्देशित किया कि जो नव निर्माणाधीन अमृत सरोवर एवं नदियों के किनारे किन पौधों का रोपण किया जाना है उन पौधों के विषय में टेक्निकल जानकारी दी जाए जिससे पता चल सके कि कौन सा पौधा वहां विकसित हो पायेगा। बैठक में अपर जिलाधिकारी (न्यायिक) अमिताभ यादव, मुख्य विकास अधिकारी वेद प्रकाश मौर्य, मुख्य चिकित्सा अधिकारी अनिल श्रीवास्तव, डी0सी0मनरेगा राघवेन्द्र तिवारी, प्रभागीय वनाधिकारी संजय अग्रवाल सम्बन्धित जिला स्तरीय अधिकारी उपस्थित रहे।


No comments:

Post a Comment

Post Bottom Ad

Pages