जिले में 92 प्रतिशत किसानों को मिला केसीसी का लाभ - Amja Bharat

Amja Bharat

All Media and Journalist Association

Breaking

Wednesday, June 22, 2022

जिले में 92 प्रतिशत किसानों को मिला केसीसी का लाभ

मण्डलीय खरीफ गोष्ठी की तैयारियों की संबंधित बैठक डीएम की अध्यक्षता में सम्पन्न

अनुपस्थित अधिकारियों का डीएम ने रोका वेतन

बांदा, के एस दुबे । मण्डलीय खरीफ गोष्ठी की तैयारियों से सम्बन्धित बैठक जिलाधिकारी अनुराग पटेल की अध्यक्षता में कलेक्ट्रेट सभागार में सम्पन्न हुई। कृषि विभाग की समीक्षा के दौरान जानकारी प्राप्त की गयी कि धान, तिल, ज्वार, बाजरा, दलहन एवं तिलहन तिल, उडद, मूंग, मूंमफली के बीज पर्याप्त मात्रा में उपलब्ध हैं या नही तो अवगत कराया गया कि उपरोक्त समस्त बीजों की उपलब्धता पर्याप्त मात्रा में है तथा उर्वरक में अगस्त माह तक


यूरिया, डी0ए0पी0 भी उपलब्ध है। कृषि रक्षा रसायन की समीक्षा करते हुए जो सीजन में लगे कृषि रसायन, खरपतवार नाशी, कीटनाशी उसके लिए केमिकल पर्याप्त मात्रा में उपलब्ध हैं या नही? तो बताया गया कि उपलब्ध हैं। इसी प्रकार फसली ऋण की समीक्षा के दौरान जिला कृषि अधिकारी से जानकारी प्राप्त की कि के0सी0सी0 का लाभ कितने किसानों को दिया गया है जिसमें बताया गया कि 92 प्रतिशत किसानों को के0सी0सी0 का लाभ प्रदान कराया गया है एवं जिनके आवेदन पत्र प्राप्त हो रहे हैं उन किसानों से वार्ता भी की जा रही है। जिलाधिकारी अनुराग पटेल ने जानकारी चाही कि इस वर्ष कितने किसानों का लक्ष्य है जिसमें बताया गया कि 75306 के0सी0सी0 रेन्यूवल और नये शामिल है जिसमें 25000 के लगभग बन गये हैं। प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना की समीक्षा करते हुए जानकारी चाही कि अभी तक इस योजना का लाभ कितने किसानों को दिया जा चुका है तो अवगत कराया गया कि 43401 किसानों ने फसल बीमा करवाया है तथा 208 किसानों का व्यक्तिगत क्लेम जैसे ओला वृष्टि इत्यादि फसल क्षतिपूर्ति का लाभ दिया जा चुका है और शेष कार्यवाही में है। इसी प्रकार प्रधानमंत्री कृषि सिंचाई, प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि, सिंचाई, विद्युत, पशु चिकित्सा विभाग, उद्यान, मत्स्य, नाबार्ड, विपणन, लघुडाल, सहकारिता सहित सम्बन्धित विभागों की विस्तार पूर्वक समीक्षा की गयी। प्रधानमंत्री कृषि सिंचाई योजना की समीक्षा के दौरान भूमि संरक्षण अधिकारी द्वारा अवगत कराया गया कि वर्ष 2021-22 में 1124 तालाबों के लक्ष्य के सापेक्ष 506 तालाबों का निर्माण किया गया है जिसमें से 483 तालाबों का भुगतान हो गया है तथा धनराशि प्राप्त न होने के कारण शेष तालाबों का 86.65 लाख रूपये का भुगतान अवशेष है तथा वित्तीय वर्ष 2022-23 हेतु 1016 तालाबों का लक्ष्य प्राप्त हुआ है तथा तालाबों की बुकिंग कृषि विभाग के पोर्टल के माध्यम से हो रही है। सिंचाई विभाग की समीक्षा के दौरान 03 जुलाई से नहरें प्रारम्भ करने हुए अवगत कराया। विद्युत विभाग की समीक्षा के दौरान जानकारी चाही गयी कि

एक्सियन मीटिंग में अनुपस्थित क्यूं हैं? तो एस0डी0ओ0 द्वारा अवगत कराया गया कि अधिशाषी अभियंता विद्युत वितरण खण्ड अतर्रा ज्ञानेश कुमार मुख्यालय से बाहर हैं तथा अधिशाषी अभियंता विद्युत वितरण ग्रामीण बांदा प्रभुनाथ प्रसाद भी लखनऊ गये हैं तो जिलाधिकारी द्वारा नाराजगी व्यक्त करते हुए मीटिंग में अनुपस्थित पाये जाने पर तथा बिना अवकाश स्वीकृत कराये हुए मुख्यालय छोडे जाने पर आज का उपरोक्त दोंनो का वेतन अदेय किया जाता है। खाद्य एवं विपणन की समीक्षा करते हुए अवगत कराया गया कि गेंहूॅ की खरीद में 96 प्रतिशत किसानों का भुगतान किया जा चुका है, जिसमें जनपद बांदा प्रदेश में 11वें स्थान पर है। बैठक में मुख्य विकास अधिकारी वेद प्रकाश मौर्या, उप निदेशक कृषि विजय कुमार, जिला कृषि अधिकारी डॉ0 प्रमोद कुमार सहित सम्बन्धित विभागों के अधिकारी गण उपस्थित रहे।


No comments:

Post a Comment

Post Bottom Ad

Pages