तंबाकू का सेवन प्राण घातक - डॉ रॉबिन श्रीवास्तव - Amja Bharat

Amja Bharat

All Media and Journalist Association

Breaking

Monday, May 30, 2022

तंबाकू का सेवन प्राण घातक - डॉ रॉबिन श्रीवास्तव

डॉ रॉबिन श्रीवास्तव 

(वरिष्ट दंत चिकित्साक)      

 उत्तर प्रदेश झांसी सावित्री हॉस्पिटल झांसी तंबाकू एवं गुटके के सेवन का प्रचलन भारतवर्ष के विभिन्न ग्रामीण क्षेत्रों से लेकर शहरी क्षेत्रों तक मुख्यता गरीब या मध्यम वर्ग के लोगों में प्रचलित है उच्च श्रेणी के लोगों में सिगरेट का सेवन या पान के साथ तंबाकू सुपारी का प्रचलन है, ग्रामीण क्षेत्रों में बीड़ी , कच्ची तंबाकू का सेवन पुरुषों के साथ स्त्रियों में आम बात पाई जाती है यहां तक कि कुछ लोग बीड़ी या सिगरेट को उल्टा और से भी पीने के शौकीन होते हैं I कुछ लोगों में तंबाकू या धूम्रपान की आदत की शुरुआत पाचन तंत्र को ठीक करने या पेट की बीमारियों के लिए किया जाता है जो कि भ्रामक है, प्राय: दांत के रोगी जिनमें पायरिया या दांत में कीड़ा लगना  की शुरुआत होती है  वह लोग के कहने पर तंबाकू का सेवन शुरू कर देते हैं और उनमें तंबाकू की लत शुरू हो जाती है जोकि मुख कैंसर तक बनाने में सहायक होती हैI अतः उन भ्रामक तथ्यों पर से परे रहना ही लाभप्रद है, उसके अतिरिक्त  मुंह में नुकीले दांत जो बार बार मुह में यह जबान पे घाव बना रहा हो, अधिक लाल मिर्च का सेवन, शराब का सेवन मुख कैंसर को जन्म दे सकता हैI मुंह के अंदर कोई भी ना भरने वाला गांव या छाला की अवधी  यदि 10 दिन से अधिक  हो जाए और ठीक न हो रहा हो तो उसका परीक्षण दंत चिकित्सक द्वारा कराना चाहिए ।


भारतवर्ष में लगभग 75000 नए मुख कैंसर के रोगी प्रतिवर्ष बढ़ते हुए पाए गए हैं जो कि विश्व की सबसे ऊंची श्रेणी में है यदि शुरुआत में मुख गुहा की जांच में प्रीकैंसरस लीजन (precancerous lesion) की जांच हो जाता है तो इसका उपचार संभव होता है |कैंसर के प्रथम एवं  द्वितीय उपचार की स्टेज  सफलता  70-80% तक मिल सकती है|31 मई को दुनिया भर में हर साल विश्व तंबाकू निषेध दिवस मनाया जाता है इसका उद्देश्य तंबाकू सेवन के व्यापक प्रसार और नकारात्मक स्वास्थ्य प्रभावों की ओर ध्यान आकर्षित करना है जो कि वर्तमान में दुनिया भर में हर साल लाखों से अधिक मौतों का कारण बनता है| वर्ष 2022 में विश्व तंबाकू निषेध दिवस का विषय "पर्यावरण की रक्षा करें हैं" यह इस बात पर प्रकाश डालता है कि तंबाकू कैसे पृथ्वी को प्रदूषित करता है और अपने पूरे जीवन चक्र में लोगों के स्वास्थ्य को नुकसान पहुंचाता है। 

आज तंबाकू निषेध दिवस के अवसर पर सावित्री हॉस्पिटल सभी जनमानस में यह संदेश पहुंचाना चाहता है कि तंबाकू के प्रभाव से केवल खाने वाला ही नहीं बल्कि उसका पूरा परिवार और समाज दोनों ही प्रभावित होता है इसलिए हमें इस जहर से दूरी बनानी चाहिए और बीड़ी सिगरेट गुटका शराब तंबाकू सुपारी पान मसाला इनके सेवन से बचना चाहिए और एक स्वस्थ समाज के निर्माण में योगदान करना चाहिएIतंबाकू निषेध दिवस के अवसर पर सावित्री हॉस्पिटल मेडिकल कॉलेज गेट नंबर 3 के सामने झांसी में निशुल्क मुख् परीक्षण एवं निशुल्क दवा वितरण शिविर का आयोजन किया गया है ।

No comments:

Post a Comment

Post Bottom Ad

Pages