मदर्स डेः मां को मिला अनमोल तोहफा लापता बेटी से मिलकर छलक उठी आंखे - Amja Bharat

Amja Bharat

All Media and Journalist Association

Breaking

Sunday, May 8, 2022

मदर्स डेः मां को मिला अनमोल तोहफा लापता बेटी से मिलकर छलक उठी आंखे

5 वर्षीय लापता बच्ची को समिति के सदस्यों ने परिजनों से मिलवाया

मां-बेटी के अद्भुत मिलन पर सभी की आंखे हुई नम

फ़तेहपुर, शमशाद खान । किशोर न्याय अधिनियम 2015 के अर्न्तगत बच्चों की देखरेख एवं संरक्षण की दिशा में कार्यरत बाल कल्याण समिति की सराहनीय पहल पर एक परिवार को मदर्स डे पर अनमोल तोहफा मिल गया। समिति के अध्यक्ष राजेंद्र साहू समेत अन्य सदस्यों की पहल से एक वर्ष पहले लापता हुई पॉच वर्षीय बच्ची को उसके परिवार से मिल सकी। माता पिता से लिपटी बच्ची के अद्भुत मिलन को देखकर सभी की आंखे नम हो गयी। जून 2021 में जब सारा देश करोना की भयावह स्थिति झेल रहा था तभी मलवां थाना अर्न्तगत बुधईयापुर गांव में 5 बर्षीय बच्ची थाना मलवां द्वारा चाइल्ड लाईन फतेहपुर के माध्यम से न्यायपीठ बाल कल्याण समिति के समक्ष प्रस्तुत की गई। न्यायपीठ ने बालिका के माता-पिता का पता न चल पाने के कारण राजकीय बाल गृह, शिशुद्ध

लापता बच्ची को परिजनों से मिलाते समिति के सदस्य।

प्रयागराज में आवासित करा दिया गया। बाल कल्याण समिति के अध्यक्ष राजेन्द्र प्रसाद साहू ने बच्ची को परिवार से मिलाने के लिये ठान लिया व माता-पिता को खोजने का अभियान चलाया गया। बाल कल्याण समिति की सदस्या अपर्णा पाण्डेय के नेतृत्व में बच्ची को प्रयागराज शिशु गृह से बुलवाया गया तत्पश्चात मलवां थानाध्यक्ष अरविंद कुमार सिंह, जिला बाल संरक्षण इकाई, चाइल्ड लाइन व बाल कल्याण समिति सदस्यों के मध्य एक टीम गठित करके बच्ची को उसके परिवार से मिलाने का अभियान शुरू किया गया। ग्राम बुधईयापुर में बच्ची को अपना घर खोजने के लिए कहा गया बच्ची गांव के बाहर राजाराम के मकान के पास जाकर खड़ी हो गई। गांव वालों ने बताया कि यह बच्ची एक वर्ष पहले इसी के पास रहती थी। राजाराम ने बताया कि उसको यह बच्ची गांव के बाहर रास्ते में मिली थी। बच्ची के वास्तविक माता-पिता का पता नहीं मिल रहा था इससे पूरी टीम निराश हो गई और कहने लगे कि इसको वापस बाल गृह भेज दिया जाये। तभी थानाध्यक्ष मलवां अरविंद कुमार सिह ने टीम को बताया कि तुराबवली का पुरवा थाना-कोतवाली से कुछ लोग आये हैं जो बच्ची को अपनी बेटी बता रहे हैं। बच्ची को जब इनके सामने लाया गया तो वह अपनी मॉ को पहचान गई और लिपट कर रोने लगी यह देख कर सभी लोगों के ऑखों में आंसू छलक आया। बाल कल्याण समिति ने विधिक कार्यवाही पूरी करते हुए बच्ची को उसकी माता को सुपुर्द कर दिया। बच्ची के परिजन बाल कल्याण समिति के सदस्य अपर्णा पाण्डेय, कल्पना मिश्रा, तरन्नुम, आरके पाण्डेय व अध्यक्ष राजेन्द्र प्रसाद साहू, विधि सह परिवीक्षा अधिकारी धीरेन्द्र अवस्थी, चाइल्ड लाइन के जिला समन्वयक अजय सिंह चौहान व उनकी टीम, थानाध्यक्ष मलवां अरविंद कुमार सिंह, एसआई बृजेश कुमार व महिला कॉस्टेबल शिखा सिंह सामाजिक कार्यकर्ता अमित कुमार व अंकित दुबे आदि रहे।


No comments:

Post a Comment

Post Bottom Ad

Pages