तलाक का मुकदमा दर्ज, सुलह के लिये पीड़िता को कर रहे प्रताड़ित - Amja Bharat

Amja Bharat

All Media and Journalist Association

Breaking

Sunday, May 15, 2022

तलाक का मुकदमा दर्ज, सुलह के लिये पीड़िता को कर रहे प्रताड़ित

एसपी से न्याय की गुहार, क्यों कुंभकरण की नींद सो रही पुलिस

बांदा, के एस दुबे । ”यह कैसी बेबसी की खुलके न रो सके हम, चुभते ही रहे कांटे, आंसू न निकल पाये“ यह शेर उस पीड़िता की दर्द भरी दास्तां की गवाह साबित हो रही है जिसके पति ने उसे तलाक देकर दूसरी महिला से दहेज की लालसा में शादी करने के बावजूद दर्ज मुकदमे पर पैलानी पुलिस द्वारा कार्यवाही न किये जाने से सुलह के लिये घर के अंदर घुसकर मारपीट कर प्रताड़ित करने को लेकर पीड़िता रेशमा पुत्री मुबारक पत्नी इमरान ने पुलिस अधीक्षक को शिकायती पत्र देकर नामित आरोपियों के विरूद्ध कार्यवाही कर जान माल की सुरक्षा कराने की मांग की है।


ज्ञातव्य हो कि पैलानी थाना क्षेत्र के गांव पैलानी निवासिनी रेशमा खातून पुत्री मुबारक पत्नी इमरान ने पुलिस अधीक्षक को शिकायती पत्र जरिये आईजीआरएस व स्वयं मिलकर आरोप लगाया है कि उसके पति इमरान ने अपने नामित परिजनों के सलाह मशविरा से उसे 18 जनवरी को जुबानी तीन तलाक उसकी मां और बड़े अब्बा के सामने दे दिया था। जिसके बाद 19 जनवरी 22 को बतौर रजिस्टर्ड लिखित तलाक नामा भेजकर अपनी जौजियत से अलग कर दिया। जिसके बाद 20 जनवरी, 2022 को ही पीड़िता  थाना पैलानी पहुंची और लिखित तहरीर देकर मुकदमा दर्ज कराने की गुहार लगाई। जिस पर पुलिस हरकत में आई और नामित  आरोपियों के घर पर डंडा पटकने लगी। लेकिन फिर दूसरे दिन पुलिस के सुर बदल गये, ऐसा प्रतीत होता है कि पुलिस आरोपियों से सांठगांठ कर पीड़िता को न्याय देने के बजाये तीन माह तक मुकदमा दर्ज करने के नाम पर दौड़ाती रही। तभी पीड़िता पुलिस अधीक्षक से मिलकर गुहार लगाया, तब कहीं जाकर 20 अप्रैल, 2022 को मु.अ.सं. 0093 अंतर्गत धारा 498 ए, 494, 323, 506 आईपीसी व 3/4 मुस्लिम महिला विवाह पर अधिकारों की संरक्षा अधिनियम 2019 दर्ज हुआ।

मुकदमा दर्ज होने के आज पन्द्रह दिन बाद भी पुलिस के द्वारा कार्यवाही न किये जाने की दशा में चार मई, 2022 की शाम तीन बजे इमरान आदि पीड़िता के घर घुसकर सुलह का दबाव बनाते हुये मारपीट कर तांडव मचाने लगी। तभी पीड़िता की मां ने 112 नम्बर पर फोन किया तब कहीं जाकर आरोपी जान माल की धमकी देकर भाग गये। जिसकी शिकायत दूसरे दिन थाने में करने के बावजूद पुलिस अब भी कुंभकरण की नींद सो रही है। जिससे ऐसा प्रतीत होता है कि पुलिस अपने दायित्वों को निभाने की जगह आरोपियों से सांठगांठ कर लिया है। ऐसी स्थिति में किसी बड़ी अनहोनी होने से इंकार नहीं किया जा सकता है। पीड़िता ने एसपी से मामले की निष्पक्ष जांच कराकर नामित आरोपियों के विरूद्ध कार्यवाही की गुहार लगाते हुये अपनी सुरक्षा की भी गुहार लगाई है।


No comments:

Post a Comment

Post Bottom Ad

Pages