पशुओं से चलती है मनुष्य की जीवन शैलीः मंत्री - Amja Bharat

Amja Bharat

All Media and Journalist Association

Breaking

Sunday, May 15, 2022

पशुओं से चलती है मनुष्य की जीवन शैलीः मंत्री

गौ संरक्षण केन्द्र बनें ग्रामीण रोजगार का जरिया

समीक्षा बैठक में कैबिनेट मंत्री ने व्यक्त किये विचार

बांदा, के एस दुबे । गौ संरक्षण केन्द्रों को प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्य नाथ ग्रामीण रोजगार का बडा जरिया बनाने जा रही है। इसके लिए योजना तैयार कर ली गयी है। हमारे प्रदेश भर के हजारों की संख्या में गौ संरक्षण केन्द्रों में स्थानीय लोंगो की सहभागिता बढाकर उन्हें रोजगार से जोडा जायेगा। उपरोक्त विचार सर्किट हाउस सभागार में मंत्री पशुधन एवं दुग्ध विकास, राजनैतिक पेंशन, अल्प संख्यक, मुस्लिम वक्फ एवं हज तथा नागरिक सुरक्षा विभाग धर्मपाल सिंह ने व्यक्त किये।


उन्होंने कहा कि हमारी भारतीय संस्कृति सभ्यता में आस्था का बहुत महत्व है। मनुष्य की जीवन शैली पशुओं से ही चलती है, संकट आने पर पशु ही मानव को बचाते हैं तथा पक्षियों की चहचहाहट से उठो जागो और काम पर चलो का संदेश देते हैं। इस बदलते दौर की बिडम्बना ही कहेंगे कि जहां गौवंशो की पूजन से वर्तमान और भविष्य को सुरक्षित बनाया जाता था वहीं और गौवंश को किसान मुसीबत के रूप में देखने लगा है। जरूरत है इस समस्या के सकारात्मक समाधान की। बुन्देलखण्ड की बडी विडम्बना है कि जब तक गाय दूध देती है तब तक किसान उसे रखते हैं अन्यथा छोड देते हैं। इसके लिए मा0 मुख्यमंत्री जी उ0प्र0 सरकार ने पशु क्रूरता अधिनियम की धारा किसनों पर लगायेगी और थानो पर मुकदमा भी पंजीकृत किया जायेगा। मंत्री ने कहा कि हद तो उस बात है जो सबको आश्रय देता है उनको हम निराश्रित कर देते  हैं। उन्होंने मुख्य पशु चिकित्सा अधिकारियों को निर्देशित करते हुए कहा कि समस्त पशु चिकित्सा अधिकारियों को निर्देशित किया जाए कि अपने-अपने क्षेत्र पर भ्रमण कर गौवंशो का इलाज बेहतर ढंग से किया जाए और स्थानीय लोंगो को सीधे जोडा जाए। गौ संरक्षण केन्द्र और आश्रय स्थलों के साथ ही गौवंश के स्वास्थ्य, टीकाकरण एवं स्वच्छता में स्थानीय लोंगो एवं जनप्रतिनिधियों की सहभागिता बनायी जाए। गोबर, गौमूत्र से बनने वाली चीजों के साथ ही गौ संरक्षण केन्द्रों के आस-पास पौधरोपण और उनकी देखभाल का काम भी स्थानीय लोगों से कराया जाए, क्योंकि सरकार की योजना है कि लोगों की सहभागिता से गौ संरक्षण के साथ ही उनको गॉवों में ही रोजगार उपलब्ध कराने की।

मंत्री श्री सिंह ने समीक्षा बैठक के दौरान भूषा दान हेतु सांसद चित्रकूट-बांदा आर0के0सिंह पटेल ने 80 कु0 भूषा दान, विधायक नरैनी श्रीमती ओममणि वर्मा ने 60 कु0 भूषा दान, जिलाध्यक्ष भाजपा संजय सिंह ने 50 कु0 भूषा दान, जिला पंचायत अध्यक्ष सुनील पटेल ने 200 कु0 भूषा दान करने की घोषणा की। समस्त ब्लाक प्रमुख गणों ने 50-50 कु0 भूषा दान करवाने की घोषणा की। कार्यकर्ता ओमप्रकाश श्रीवास चहितारा 10 कु0 भूषा दान करने की घोषणा की, जिससे गौवंशो के भरण पोषण की व्यवस्था हो सकेगी। उन्होंने मुख्य विकास अधिकारी को निर्देशित करते हुए कहा कि भूषा दान करने वाले कृषक भाइयों को जिलाधिकारी की तरफ मंत्री एवं जनप्रतिनिधियों की उपस्थित में प्रशंसा पत्र देकर सम्मानित किया जाए। उन्होंने सुपुर्दगी गौवंशों की जानकारी प्राप्त की तो अवगत कराया गया कि 4177 गायों को सुपुर्द कराया गया है। मंत्री ने गौवंशो को लू से बचाने के लिए आवश्यक प्रबन्ध किये जाने हेतु निर्देशित किया तथा जो पोखर, तालाब सूखे एवं खाली पडे हुए हैं उनमें राजकीय नलकूपों/नहरों से शीघ्र पानी भरवाना सुनिश्चित करें जिससे पशु, पक्षियों को पानी मिलता रहे। उन्होंने कहा कि गौशालाओं को आर्थिक सबल बनाने पर जोर दें और हम सभी लोंगो को जैविक खेती करने पर जोर देना चाहिए क्योंकि गलत खान-पान की वजह से गम्भीर ला इलाज बीमारियां जन्म ले रही हैं। उन्होंने कहा कि जमीन की उत्पादकता गाय के गोबर से बढेगी। हर गौशाला में गौ सेवकों से बर्मी कम्पोस्ट बनाने का कार्य करवायें।

मंत्री ने यह भी अवगत कराया कि मुख्यमंत्री उ0प्र0 सरकार योगी आदित्य नाथ ने डाक्टर सहित मैटरनिटी मोबाइल वैन जिसका नं0 1962 होगा तथा उसमें एक डाक्टर, एक कम्पाउण्डर एवं एक ड्राइवर जो उपरोक्त नम्बर डायल करने पर शीघ्र मोबाइल वैन किसानों के घर पहुंचकर गौवंशो का इलाज करेगी। उन्होंने अपनी यात्रा का नाम ‘‘मातृ वन्दना एवं गौपालक यात्रा’’ दिया। मंत्री ने यह भी कहा कि बुन्देलखण्ड पानी से ग्रसित रहा है इसीलिए यदि पानी पर ध्यान नही दिया गया तो बहुत जल्द पूरा प्रदेश पानी पर ध्यान देने लगेगा। इसीलिए ग्राउण्ड वाटर को संरक्षित करने के लिए वृक्षारोपण अवश्य करें। उन्होंने कहा कि मदरसों को शिक्षा की मुख्यधारा से जोडने का कार्य करें जिसमें अग्रेंजी, सामाजिक विज्ञान, नैतिक शिक्षा तथा महान व्यक्तियों के विषय में जानकारी दी जाए। धर्म के अनुसार प्रार्थना हो और आवश्यक रूप से राष्ट्रगान का गायन जरूर कराया जाए और जो मदरसे मान्यता नही लिए हैं उनका चिन्हीकरण कराया जाए। जलशक्ति राज्यमंत्री रामकेश निषाद एवं सांसद चित्रकूट-बांदा आर0के0सिंह पटेल ने कहा कि गौशालाओं का चिन्हीकरण कर शत-प्रतिशत बधियाकरण करना सुनिश्चित करें क्योंकि लगातार संख्या बढती जा रही है। उन्होंने कहा कि नश्ल सुधार पर विशेष जोर दें। जिला पंचायत अध्यक्ष सुनील सिंह पटेल ने बंजर पडी जमीन पर हरा चारा उगाने हेतु सुझाव दिया। मुख्य विकास अधिकारी वेद प्रकाश मौर्या ने मंत्री, सांसद, विधायक गणों तथा उपस्थित जनप्रतिनिधियों को आश्वस्त किया कि आपके द्वारा दिये गये दिशा निर्देशों का पूर्णतः अनुपालन कराया जायेगा।


No comments:

Post a Comment

Post Bottom Ad

Pages