ससुर खदेरी नदी को पुर्नजीवित करने का शुरू हुआ भागीरथी कार्य - Amja Bharat

Amja Bharat

All Media and Journalist Association

Breaking

Wednesday, May 4, 2022

ससुर खदेरी नदी को पुर्नजीवित करने का शुरू हुआ भागीरथी कार्य

केंद्रीय राज्यमंत्री व जिलाधिकारी ने फावड़ा चलाकर खुदाई अभियान का किया शुभारम्भ 

जनपद के 4 ब्लाकों में 58 किमी में बहने वाली नदी को जीवन देने के लिये लोगो से एक घण्टे का मांगा श्रमदान 

फतेहपुर, शमशाद खान । आज़ादी के अमृत महोत्सव कार्यक्रम के तहत केंद्र व राज्य सरकार के द्वारा नदी तालाब व पोखरों का जीर्णाद्धार करके उनका वास्तविक स्वरूप लाने के लिये किये जा रहे कार्या के अंतर्गत बुधवार को विकास खंड ऐराया के ग्राम पंचायत बबुल्लापुर में ससुर खदेरी नदी-1 की मनरेगा योजनांतर्गत खुदाई/जीर्णाद्धार कार्यक्रम मुख्य अतिथि केंद्रीय राज्यमंत्री उपभोक्ता मामले, खाद्य एवं सार्वजनिक वितरण एवं ग्रामीण विकास मंत्रालय भारत सरकार साध्वी निरंजन ज्योति एवं ब्लॉक प्रमुख ऐराया अनुज प्रताप सिंह, जिलाधिकारी अपूर्वा दुबे, मुख्य विकास अधिकारी सत्य प्रकाश के द्वारा वैदिक रीति रिवाज व मंत्रोच्चारण के साथ भूमि पूजन व हवन करके

ससुर खदेरी नदी जीर्णोद्वार के दौरान सर पर तशला रखकर मिटटी उठाती केन्द्रीय राज्यमत्री साध्वी निरंजन ज्योति।

शिलापट्ट का शिलान्यास करते हुए नदी में फावड़ा चलाकर खुदाई करके शुभारंभ किया। कार्यक्रम को सम्बोधित करते हुए जिले की सांसद के केंद्रीय राज्यमंत्री साध्वी निरंजन ज्योति ने कहा कि जल ही जीवन है, जल को संचय करना हम सब का दायित्व है। पृथ्वी पर नदियां रक्तवाहिनी धमनियों की तरह है यदि यह सूख गई तो इस शरीर रूपी पृथ्वी पर रहने वाले प्राणियों का जीवन संकट में पड़ जाएगा। हम जहां है वही से नदियों के संरक्षण के उपाय करते रहना है। केंद्र सरकार व राज्य सरकार जल संचयन के लिए आजादी के अमृत महोत्सव के तहत तालाबो, नदियों का जीर्णाद्धार करके इनका वास्तविक रूप लाने का सफल प्रयास कर रही है। जिससे जल का संचयन करके जल का स्तर बढ़ाने का कार्य किया जा सके। उंन्होने ससुर खदेरी नदी के किनारे पड़ने वाले ग्राम पंचायत के नागरिकों से आह्वान किया कि स्वेच्छा से एक घंटे का श्रमदान करके नदी को पुर्नजीवित करने में मदद करे। श्रमदान व नदी के वास्तविक रूप आने तक सहयोग करने वाले नागरिको को जिला प्रशासन व प्रदेश सरकार से सम्मानित कराया जायेगा। नदी का वास्तविक रूप लाने के लिए स्वयं सेवी संस्थाओं में सरस्वती नदी पुर्णाधार के संयोजक राजेंद्र प्रसाद साहू, अनिश भाई, रामनारायण मौर्य, बृछराज मौर्या, सरोज त्रिपाठी, प्रवीण पाण्डेय, राममूरत पाण्डेय, शैलेंद्र शरण सिंपल, लोकनाथ पाण्डेय, शिवचंद्र शुक्ला को अंग वस्त्र देकर सम्मानित किया गया। उन्होंने सामाजिक संगठनों को आभार व्यक्त करते हुए कहा की इन्ही के कारण यह कार्य संभव हो सका है। जिलाधिकारी अपूर्वा दुबे ने कहा कि नदी को वास्तविक स्वरूप लाने के लिए ऊर्जा व शक्ति से कार्य करे। ससुर खदेरी नदी जनपद में 58 किमी की सीमा में बह रही है। जो जनपद के चार विकास खण्डों से होकर गुजरती है। ससुर खदेरी नदी को वास्तविक रूप में लाने के लिए स्वेच्छा से काम करने वाले नागरिक उपजिलाधिकारी, विकास खण्ड अधिकारी व ब्लॉक प्रमुख के माध्यम नाम अंकित करा लें। कार्यक्रम के अंत मे धन्यवाद ज्ञापित किया। इस अवसर पर स्वामी विज्ञानानंद सरस्वती महाराज, परियोजना निदेशक डीआरडीए एमपी चौबे, डिप्टी कमिश्नर मनरेगा अशोक कुमार गुप्ता, एसडीएम खागा अजय कुमार, खंड विकास अधिकारी अशोक कुमार, सचिव मकरन्द मिश्र, ग्राम प्रधान शकीला बानो सहित अनेक जनपद स्तरीय अधिकारी सहित ग्रामवासी मौजूद रहे।


No comments:

Post a Comment

Post Bottom Ad

Pages