सांस्कृतिक कार्यक्रम देख गदगद हुए दर्शक - Amja Bharat

Amja Bharat

All Media and Journalist Association

Breaking

Tuesday, April 12, 2022

सांस्कृतिक कार्यक्रम देख गदगद हुए दर्शक

इस्कान के भजन और नृत्य सहित अन्य दुर्लभ कलाकारों की प्रस्तुतियों ने बटोरी तालियां

चित्रकूट, सुखेन्द्र अग्रहरी । राष्ट्रीय रामायण मेला के तृतीय दिवस सांस्कृतिक कार्यक्रमों में अंतर्राष्ट्रीय व देश के कलाकारों ने अपनी-अपनी कला की छवि ऐसी बिखेरी की दर्शकों को कई बार वाह-वाह तालियों की गडगडाहट से स्वागत करना पड़ा। कार्यक्रम का संचालन करते हुए मेले के महामंत्री डा. करूणा शंकर द्विवेदी ने कहा कि राष्ट्रीय एकता अखण्डा एवं भावात्मक एकता को परिपुष्ट करने के साथ अपनी गौरवशाली सांस्कृति विरासतो जागृत करना भी प्रमुख उद्देश्य है। यही कारण है कि मेला के मंच से भारतीय संस्कृति के विविध पंथो के गीत, संगीत, नृत्य, अभिनय, रासलीला, रामलीला आदि। रामकथा के द्वारा मनमोहक झांकिया,ँ सांस्कृतिक कार्यक्रमों के मध्य प्रस्तुत होती है। श्री द्विवेदी ने बताया कि, ”मानव के लोक जीवन का सुंदर स्वरूप देखने को रामायण मेला के दौरान मिलता है। मेले के तृतीय दिवस की संध्या से देर रात तक सरस म्यूजिकल ग्रुप लखनऊ की सरला गुप्ता ने अपनी टीम के साथ मनमोहक भजन, बुंदेलखण्डी लोक गीत, बडे मनोहारी ढंग से प्रस्तुत किया। जिसे सुन कर श्रोताओं ने बार-बार प्रशंसा की। अंतर्राष्ट्रीय स्तर के श्रीकृष्ण भावनात्मक भावनाम्रत संघ (इस्कान) द्वारा हरिसंकिर्तन, संगीत के साथ भाव विभोर होकर नृत्य का अभिनय किया। जिसका दर्शकों ने तालियों की गड़गड़ाहट कर भरपूर आनंद लिया। माँ भगवती लोक गीत पार्टी चित्रकूट व महोबा के लखन लाल यादव लोक नृत्य समिति, झांसी के रामाधीन आर्य, ने भजन एवं लोक गीतों की प्रस्तुती से दर्शकों को भाव विभोर कर दिया। डा. करूणा शंकर द्विवेदी ने, भाव से विभूषित होते हुए बताया कि, चित्रकूट में प्रति माह कामदगिरि की परिक्रमा करने श्रद्धालु आते है। मार्ग में श्रद्धालुओं के झुण्ड के झुण्ड राम कथा को लोक गीतों के माध्यम से गाते हुए चलते है। जिससे भक्तिभाव में लोग सराबोर होते है। ऐसा ही गीत रामायण मेले के मंच से माया देवी ग्राम खैरी बिसंडा ने प्रस्तुत किया तो सभागार में बैठे रामायण प्रेमियों के आनंद का ठिकाना न रहा। इसी क्रम में ही वृन्दावन की ख्यातिलब्ध मण्डली द्वारा प्रातः अहिल्या उद्धार रामलीला का मंचन किया गया।

कार्यक्रम प्रस्तुत करते इस्कान टीम।

महोत्सव में भरपूर किया सहयोग

चित्रकूट। राष्ट्रीय रामायण मेला समारोह के आयोजन में मेले के अध्यक्ष राजेश करवरिया व उनकी धर्मपत्नी नीलम करवरिया पूर्व अध्यक्ष नगर पालिका परिषद चित्रकूट धाम कर्वी सहित प्रदुम्न कुमार दुबे उर्फ लालू भईया, राजाबाबू पांडेय, राजेन्द्र मोहन त्रिपाठी, पूर्व प्रधानाचार्य शिवमंगल शास्त्री, आशीष पांडेय, मनोज मोहन गर्ग, मो. यूसुफ, प्रिन्स करवरिया, कलीमुद्दीन बेग, ज्ञानचन्द्र गुप्ता, मो. इम्तियाज, सतेन्द्र पांडेय, प्रमोद मिश्रा, मुकेश पांडेय, विकास रैकवार दद्दू महाराज आदि का भरपूर सहयोग रहा।

भीषण गर्मी से बचा रहे विशालकाय पर्दे, कूलर

चित्रकूट। वर्तमान समय भीषण गर्मी व लू के थपेडों के बीच 49वाँ राष्ट्रीय रामायण मेला सम्पन्न हो रहा है। दर्शकों को गर्मी व लू के थपेडों का सामना न करना पडे इसके लिए रामायण मेला भवनम में विशालकाय पर्दे कूलर व पंखे भी लगाये गये है। इसी क्रम में ही कई बार पानी का छिडकाव रामायण भवनम के आसपास कराया जा रहा है। जिससे आस्थावानों को दिक्कतों का सामना न करना पडे़।


No comments:

Post a Comment

Post Bottom Ad

Pages