वन रक्षको पर मारपीट के लगाए आरोप - Amja Bharat

Amja Bharat

All Media and Journalist Association

Breaking

Monday, April 25, 2022

वन रक्षको पर मारपीट के लगाए आरोप

आदिवासियों ने प्रदर्शन कर जताया विरोध 

चित्रकूट, सुखेन्द्र अग्रहरि। दलित अधिकार मंच के बैनर तले अदिवासियों ने सोमवार को तहसील मानिकपुर में प्रदर्शन कर विरोध जताया। आरोप लगाया कि वन विभाग के बरगढ़ रेंज के तीन वन रक्षकों ने मानिकपुर विकास खंड के ऊंचाडीह ग्राम पंचायत के मजरा टिकुरी के आदिवासियों के साथ मारपीट की है। कहा कि अपने अपने घर छोडकर चले जाओ यह वन विभाग की भूमि है। एक गार्ड जबरन हस्ताक्षर कराने के लिए दबाव बना रहा है।

प्रदर्शन करते आदिवासी।

वन विभाग के बरगढ़ रेंज के ग्राम पंचायत ऊचाडीह के मजरा टिकुरी में बसे आदिवासियों ने प्रदर्शन किया। जिसमें नायब तहसीलदार को दिए पत्र में आरोप लगाया कि मानिकपुर विकास खंड के ऊचाडीह गांव का मजरा टिकुरी गांव में लगभाग 20 परिवार सैकड़ों साल से रहते है। जिनको वन भाग की तरफ से आए दिन घर छोडकर चले जाने के लिए कहा जाता है। जबरन कागजों में हस्ताक्षर करने के लिए भी दबाव डाला जाता है। महेश कोल पुत्र हुबलाल कोल के साथ मारपीट किया है। कहा कि पन्हाई चौकी में आकर हस्ताक्षर कर दो। एक अन्य वन रक्षक आदिवासियों के घरों में आकर हास्ताक्षर करने की धमकी देता है। इस मौके पर पाठा दलित आदिवासी अधिकार मंच के जिलाध्यक्ष माता बदल, नथिया, लक्ष्मी, सावित्री, संगीता, मीना, कुसमा, अवध कुमार, मैंकू, संतलाल, महेश आदि मौजूद रहे।

वन रक्षको पर मारपीट के लगाए आरोप
-आदिवासियों ने प्रदर्शन कर जताया विरोध 
चित्रकूट, सुखेन्द्र अग्रहरि। दलित अधिकार मंच के बैनर तले अदिवासियों ने सोमवार को तहसील मानिकपुर में प्रदर्शन कर विरोध जताया। आरोप लगाया कि वन विभाग के बरगढ़ रेंज के तीन वन रक्षकों ने मानिकपुर विकास खंड के ऊंचाडीह ग्राम पंचायत के मजरा टिकुरी के आदिवासियों के साथ मारपीट की है। कहा कि अपने अपने घर छोडकर चले जाओ यह वन विभाग की भूमि है। एक गार्ड जबरन हस्ताक्षर कराने के लिए दबाव बना रहा है।
वन विभाग के बरगढ़ रेंज के ग्राम पंचायत ऊचाडीह के मजरा टिकुरी में बसे आदिवासियों ने प्रदर्शन किया। जिसमें नायब तहसीलदार को दिए पत्र में आरोप लगाया कि मानिकपुर विकास खंड के ऊचाडीह गांव का मजरा टिकुरी गांव में लगभाग 20 परिवार सैकड़ों साल से रहते है। जिनको वन भाग की तरफ से आए दिन घर छोडकर चले जाने के लिए कहा जाता है। जबरन कागजों में हस्ताक्षर करने के लिए भी दबाव डाला जाता है। महेश कोल पुत्र हुबलाल कोल के साथ मारपीट किया है। कहा कि पन्हाई चौकी में आकर हस्ताक्षर कर दो। एक अन्य वन रक्षक आदिवासियों के घरों में आकर हास्ताक्षर करने की धमकी देता है। इस मौके पर पाठा दलित आदिवासी अधिकार मंच के जिलाध्यक्ष माता बदल, नथिया, लक्ष्मी, सावित्री, संगीता, मीना, कुसमा, अवध कुमार, मैंकू, संतलाल, महेश आदि मौजूद रहे।

No comments:

Post a Comment

Post Bottom Ad

Pages