गड्ढे बने दुर्घटना का केंद्र................ - Amja Bharat

Amja Bharat

All Media and Journalist Association

Breaking

Friday, April 1, 2022

गड्ढे बने दुर्घटना का केंद्र................

 देवेश प्रताप सिंह राठौर 

(वरिष्ठ पत्रकार)

.........................उत्तर प्रदेश के जिले झांसी से एक बहुत ही लापरवाही अधिकारियों का गैर जिम्मेदाराना व्यवहार और कार्य सामने आया है, झांसी शहर के मोहल्ला वीरांगना नगर में डॉक्टर आरके गांधी के घर के सामने वाटर लाइन पाइप लीकेज करीब महीनों से है, इस संदर्भ में अधिकारियों से संपर्क स्थापित किया क्यों इतने बड़े गड्ढे खुले पड़े हुए हैं घटनाएं दुर्घटनाएं हो रही हैं इस पर विभाग क्यों ध्यान नहीं दे रहे हैं जल निकास से संपर्क स्थापित किया उन्होंने बताया कि हमारी पाइपलाइन इस मोहल्ले में नहीं है जल संस्थान से संपर्क स्थापित किया तो उन्होंने कहा हमारी लाइन तो है लेकिन यह जो लाइन है यह हमारी लाइन नहीं है फिर जेडीए से संपर्क किया जेडीए ने कभी का हमारी लाइन है कभी कहां नहीं और इस तरह से डेट 2 महीने से आजकल आजकल करते रहे और गड्ढे खुले पड़े


हुए हैं गड्ढे के कारण घटनाएं दुर्घटनाएं हो रही हैं ,जब पुनः संपर्क स्थापित किया तो उन्होंने बोला कि हमारे कार्यक्षेत्र में नहीं है हमारी इससे कोई लेना-देना नहीं है मेरे कार्य क्षेत्र में नहीं है जल संस्थान में संपर्क किया गया उन्होंने कहा यह मेरे कार्य क्षेत्र में नहीं है जेडीए से संपर्क किया गया तो उन्होंने भी शुरुआती दौर पर आश्वासन दिया फिर कहां मेरे कार्य क्षेत्र में नहीं है जबकि झांसी में पानी का बहुत ही अभाव है । और शुद्ध पानी पीने का आज करीब 8 महीने के ऊपर हो गए हैं पानी का रिसाव चल रहा है

 तेजी से इस पर दोषी लोगों पर कार्रवाई हो और यह पाइप लाइन जो लीकेज है इस पर सुधार ना करते हुए जल संस्थान जल निगम और जीडीए तीनों विभागों के सचिव अधिकारियों से बात हुई परंतु आज तक कार्य नहीं हो सका गड्ढे बने हुए हैं कई  घटनाएं दुर्घटनाएं हुई इसको भी अवगत कराया गया पर किसी ने संज्ञान में नहीं लिया इस पर सरकार के संज्ञान में बात लाने के लिए और दोषियों को दंडित करने के लिए कार्य होना आवश्यक है क्योंकि लापरवाही समय सीमा समाप्त हो चुकी है दोषियों दंड के भागी है उन्हें दंड प्राप्त होनी की आवश्यकता है। तथा सभी लोग भाई को किस विभाग की है जिम्मेदारी नहीं ले रहे हैं क्या यह पाइप कुदरती तौर पर अपने आप ही जमीन में उत्पन्न हुई है यह प्रश्नवाचक चिन्ह खड़ा कर रहा है,परंतु हकीकत यह है कि कोई भी व्यक्ति अपनी जिम्मेदारी को पूर्ण रूप से निभाने का कार्य नहीं कर रहे हैं इससे स्पष्ट होता है आज भी विभागों में भ्रष्टाचारी के लोग व्याप्त हैं, सरकार के तमाम कथनी के बावजूद लोग विभागों के आज भी अपनी तानाशाही मनमानी से कार्य करते हैं I

No comments:

Post a Comment

Post Bottom Ad

Pages