कल से रामायण मेला प्रारंभ, शोभा बढ़ाएंगें सुप्रसिद्ध कलाकार - Amja Bharat

Amja Bharat

All Media and Journalist Association

Breaking

Friday, April 8, 2022

कल से रामायण मेला प्रारंभ, शोभा बढ़ाएंगें सुप्रसिद्ध कलाकार

समिति को इस बार नहीं मिला अनुदान 

चित्रकूट, सुखेन्द्र अग्रहरि। भगवान श्रीराम की तपोस्थली सुप्रसिद्ध तीर्थ एवं पर्यटन स्थल में विगत वर्षों की भांति रामायण मेला का 49वां समारोह 10 अप्रैल से प्रारंभ होने जा रहा है।

यह जानकारी राष्ट्रीय रामायण मेले के कार्यकारी अध्यक्ष राजेश करवरिया व महामंत्री करुणा शंकर द्विवेदी ने संयुक्त रूप से प्रेसवार्ता में देते हुए बताया कि समतामूलक समाज की संरचना, भरतीय संस्कृति के संवर्द्धन, मानवीय मूल्यों को उजागर करने और राष्ट्रीय एकता, अखंडता, भावात्मकता को परिपुष्ट करने जैसे महान उद्देश्यों की संप्राप्ति के लिए वर्ष 1960 में रामायण मेला आयोजन की परिकल्पना समाजवादी चिंतक डा राममनोहर लोहिया ने चित्रकूट में की थी। उनके द्वारा प्रस्तुत योजना अनुसार वर्ष 1973 से रामायण मेले का शुभारंभ हुआ। तभी से प्रतिवर्ष नए कलेवर के साथ आयोजित हो रहा है। 49वां समारोह जिसे महाशिवरात्रि पर्व से होना था को विधानसभा चुनाव के लिए रामायण मेला भवन अधिगृहीत किए जाने के चलते कार्यक्रम की तिथि बढ़ाकर 10 अप्रैल

बैठक में मौजूद डीएम, कार्यकारी अध्यक्ष।

से आयोजित किया जाएगा। बताया कि इस समय प्रचंड गर्मी है। जिसका प्रभाव पड़ेगा। दूसरी समस्या यह भी है कि अथक प्रयास के बावजूद प्रतिवर्ष आयोजन के लिए जो अनुदान मिलता रहा है वह भी नहीं मिला। बताया कि समिति के समक्ष भारी आर्थिक संकट है। प्रेसवार्ता के दौरान मेले के पदाधिकारियों ने समस्याओं को सामने रखते हुए विश्वास व्यक्त किया कि हर स्तर से मेले को भव्य बनाने का प्रयास होगा। उन्होंने बताया कि रामायण मेला में प्रतिभाग करने को रामकथा के अधिकारी, विद्वान, ख्यातिलब्ध कथा व्यास, उच्च स्तरीय सांस्कृतिक दल, कलाकार आमंत्रित किए गए हैं। प्रातः व सायं वृंदावन की रास मंडली रामलीला और कृष्णलीला का मंचन करेंगी। भगवान श्रीराम के आदर्शों के माध्यम से मेले के उद्देश्य की संप्राप्ति का सम्वेत प्रयास होगा। उन्होंने बताया कि मेले में प्रतिभाग करने आ रहे रमेश पाल बांदा के दीवारी नृत्य, मानसी सिंह लखनऊ के लोकगीत व भजन, रामाधीन आर्य झांसी, सूर्य उदय परिवार प्रयागराज की ध्वनि एवं प्रकाश के माध्यम से रामलीला कार्यक्रम, विशेष नारायण, लल्लूराम शुक्ल के भजन विशेष आकर्षण का केन्द्र रहेंगें। बताया कि मेले के आयोजन के लिए रामायण मेला भवन को सजाया जा रहा है। जिला प्रशासन का यथासंभव सहयोग मिल रहा है। विशेषकर रामायण मेला प्रेमियो, क्षेत्रीय लोगों के सहयोग से आशा है कि मेला भव्य रूप से सभी के समक्ष होगा।

49वें रामायण मेला की व्यवस्था में नहीं हो कोई कमी : डीएम

-डीएम ने बैठक कर अधिकारियों को दिए निर्देश

चित्रकूट। जिलाधिकारी शुभ्रान्त कुमार शुक्ल की अध्यक्षता में राष्ट्रीय रामायण मेला का 49वां समारोह मनाए जाने के संबंध में आवश्यक बैठक संबंधित अधिकारियों व मेला समिति के आयोजकों के साथ राष्ट्रीय रामायण मेला परिसर सीतापुर में संपन्न हुई।

जिलाधिकारी ने विभागों के अधिकारियों को निर्देश दिए कि योजनाओं की प्रदर्शनी लगाकर अधिक से अधिक लोगों को जानकारी उपलब्ध कराएं। उन्होंने नगर पालिका परिषद कर्वी के अधिकारियों को निर्देश दिए कि सफाई, स्वागत द्वार व लाइट की सजावट आदि व्यवस्था मेला के पूर्व करा ले। लोक निर्माण विभाग से कहा कि मोरम आदि डलवा दिया जाए। अपर मुख्य चिकित्सा अधिकारी डा. आरके चौरिहा को निर्देश दिए स्वास्थ्य विभाग का कैंप लगातार 24 घंटे जारी रहे। ताकि कोई भी व्यक्ति का स्वास्थ्य खराब होने पर तत्काल उसे उपचार मिल सके। अपर पुलिस अधीक्षक से कहा कि कानून व्यवस्था बनाए रखने के लिए पर्याप्त पुलिस बल की व्यवस्था कराएं। जिलाधिकारी ने राष्ट्रीय रामायण मेला के आयोजकों से कहा कि समारोह को पूर्ण रूपरेखा तैयार करें। भगवद गीता, रामचरितमानस आदि ग्रंथों के भी स्टाल लगाए जाएं। ताकि आने वाले लोग ज्ञान अर्जन करें। उन्होंने यह भी कहा कि जो भी कार्यक्रम आयोजन किए जा रहे वह अच्छे हो। परिवहन विभाग से कहा कि आवागमन के लिए साधन उपलब्ध रहें। अग्नि सुरक्षा भी रखी जाए। अधिशासी अभियंता जल संस्थान एसके मिश्रा को निर्देश दिए कि टैंकर के माध्यम से पेयजल व्यवस्था बनाए रखें। अधिशासी अभियंता विद्युत आरएस वर्मा से कहा कि विद्युत व्यवस्था सुचारू रूप से संचालित रहे। 10 अप्रैल को रामनवमी के शुभ अवसर पर चित्रकूट की पावन धरा पर ऐतिहासिक कार्यक्रम दीप प्रज्वलन का हो रहा है। विद्युत आपूर्ति बाधित न हो। बैठक में एडीएम कुंवर बहादुर सिंह, एएसपी शैलेंद्र कुमार राय, सदर एसडीएम पूजा यादव, सीओ सिटी शीतला प्रसाद पांडेय, डीडीओ आरके त्रिपाठी, पीडी ऋषि मुनि उपाध्याय, डीपीआरओ तुलसीराम, डीसी मनरेगा धर्मवीर सिंह, बीएसए राजीव रंजन मिश्र, पर्यटन अधिकारी शक्ति सिंह, उप निदेशक कृषि बाल गोविंद यादव, डीएसओ बीके महान, जिला ग्रामोद्योग अधिकारी राजेंद्र कुमार सहित राष्ट्रीय रामायण मेला के कार्यकारी अध्यक्ष राजेश करवरिया, महामंत्री करुणा शंकर द्विवेदी आदि मौजूद रहे।


No comments:

Post a Comment

Post Bottom Ad

Pages