ठेकेदार की लापरवाही से गहराया पेयजल संकट - Amja Bharat

Amja Bharat

All Media and Journalist Association

Breaking

Friday, April 15, 2022

ठेकेदार की लापरवाही से गहराया पेयजल संकट

नरैनी/बांदा, के एस दुबे । बेतहासा गर्मी में ग्रामीण लगातार पेयजल के लिए परेसान हैं।गांव में जलापूर्ति के लिए पांच लाख लीटर की पानी की टँकी भी लगी हैं।लेकिन ठेकेदार के लापरवाही से गांव में जल की आपूर्ति नही हो पा रही।पूर्व में ग्रामीणों द्वारा उच्चधिकारियों को समस्या समाधान की मांग करने के बावजूद समस्या लगातार बरकरार हैं। पनगरा गांव में ग्रामीणों को  पेयजल समस्या से छूटकारा दिलाने के लिए गांव के बाहर पांच लाख लीटर छमता की पानी टँकी निर्मित कराई गई।निर्माण कार्य पूरा हो जाने के बाद टँकी के संचालन की जिम्मेदारी ग्राम प्रधान को दे दी गयी थी।कार्य शेष रह जाने के चलते बीते वर्ष जल निगम द्वारा गांव में पाइप लाइन बिछाने सहित घर घर कनेक्शन देने का काम किया गया।लेकिन कार्य में मानक विहीन मैटेरियल लगवा ठेकेदार द्वारा प्रति कनेक्शन के


हिसाब से विभाग के अधिकारियों के रहमोकरम से भुगतान करवा लिया।टँकी के संभालने के जिम्मेदारी ग्राम पंचायत को दे ठेकेदार अपना माल मैटेरियल लेकर चला गया।ग्राम पंचायत के मौजूदा प्रधान द्वारा टँकी का संचालन शुरू कराया गया।लेकिन पाइप लाइन का कार्य पूर्ण हो जाने के बावजूद गांव के ऊँचाई के इलाकों में मौजूद लोगों को पानी नहीं मिला।जिसकी शिकायत लोगो ने अधिकारियों के यहां दर्ज कराई।अभी वर्तमान में पाइप लाइन कई जगह छत विछत हो जाने व मुख्य जगहों में वाल न लगने से कई मुहल्लों में पानी की सप्लाई का कार्य बाधित है।इधर ग्राम पंचायत के द्वारा टँकी का रखरखाव सही तरीके से न करा पाने की स्थिति में करोड़ो रूपये की लागत से बनकर तैयार पेयजल ब्यवस्था पूरी तरह चौपट हो चुकी हैं।ग्रामीण लगातार पेयजलापूर्ति के लिए परेसान हैं।ग्राम सभा की बाइस  हजार की आबादी के लिए सिर्फ दो पानी के टैंकरों द्वारा दिन के समय कुछ मोहल्लों को पानी उपलब्ध कराए जाने का कार्य ग्राम प्रधान द्वारा कराया जा रहा हैं।इस बारे में कई बार सहायक अभियंता राजेन्द्र से जानकारी लेने का प्रयास किया लेकिन फोन नही रिसीव किया।


No comments:

Post a Comment

Post Bottom Ad

Pages