चालू माह में ही जेठ की दोपहरी का हो रहा एहसास - Amja Bharat

Amja Bharat

All Media and Journalist Association

Breaking

Monday, April 11, 2022

चालू माह में ही जेठ की दोपहरी का हो रहा एहसास

एसी, कूलर में दुबकने को मजबूर हुए लोग

छाते व स्काफ से मुंह ढक कर निकल रही युवतियां

फतेहपुर, शमशाद खान । अप्रैल के महीने में लोगों को जेठ की गर्म दोपहर का एहसास होने लगा है। लू के थपेड़ों के कारण आम जनमानस का घरों से निकलना मुश्किल हो रहा है। दोपहर की तेज धूप होने व लू चलने के कारण अधिकतर लोग अपने जरूरी कामों को सुबह व शाम निपटाकर दोपहर में कूलर व एसी में दुबकने की मजबूर हो गए हैं, जबकि बीच दोपहर जरूरी कार्यों से घरों से निकलने वाले लोग छाते, कैप व गमछा का सहारा लेकर चेहरे को ढकने को मजबूर हैं। गर्मी बढ़ने के कारण अपराह्न एक बजे के बाद से ही सड़कों पर सन्नाटा जैसा छाने लगा है। लोग गन्ने के जूस, बेल का शर्बत, तरबूज, खीरा व ककड़ी जैसे फलों का प्रयोग कर गर्मी से राहत पाने के उपाय ढूंढ़ रहे हैं। वहीं अचानक मौसम में आए परिवर्तन के कारण ग्रामीण क्षेत्रो में संक्रामक बीमारियों ने अपने पैर पसारने शुरू कर दिए हैं। जिला अस्पताल में मरीजों की संख्या में इजाफा भी शुरू हो गया है। स्वास्थ्य विभाग ने

धूप के कारण मुंह ढके युवतियां।

अब तक इस दिशा में कोई कारगर कदम नहीं उठाए हैं। जिससे आने वाले समय में स्थिति और भी भयावह होने के आसार हैं। जिला चिकित्सालय के अलावा खागा तहसील के हरदो, बिंदकी, जहानाबाद, हुसैनगंज, सामुदायिक केंद्र असोथर, बहुआ, गाजीपुर, तेलियानी आदि प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्रों पर संक्रामक बीमारियों से निपटने के कोई खास व्यवस्था नहीं की गई है। अस्पतालों में न तो पर्याप्त संसाधन है और न ही स्टाफ। आम आदमी जहां अप्रैल माह में अभी से ही पड़ रही गर्मी की भीषकता के आगे बेहाल दिखाई दे रहा है। जबकि अभी अप्रैल माह का दूसरा सप्ताह ही चल रहा है। मई, जून जैसे भीषण गर्मी के दो माह अभी और आना बाकी हैं। जिसे सोचकर ही लोग गर्मी से पनाह मांग रहे हैं।


No comments:

Post a Comment

Post Bottom Ad

Pages