तहसील, ब्लाक और न्याय पंचायत स्तरों पर बाढ़ समितियों को करें सक्रिय - Amja Bharat

Amja Bharat

All Media and Journalist Association

Breaking

Saturday, April 30, 2022

तहसील, ब्लाक और न्याय पंचायत स्तरों पर बाढ़ समितियों को करें सक्रिय

जबरदस्त गर्मी में बाढ़ से निपटने की कार्ययोजना बना रहा जिला प्रशासन 

नावों की पर्याप्त व्यवस्था सुनिश्चित करें, नाविकों की सूची भी बनाएं 

बांदा, के एस दुबे । बाढ़ से होने वाली अपार क्षति से जन समुदाय को बचाने हेतु शासन के आदेशानुसार जिलाधिकारी की अध्यक्षता में जिला स्तरीय स्टेयरिंग ग्रुप की बैठक कलेक्ट्रेट सभ्भागार में सम्पन्न हुई। जैसा की सभी को ज्ञात होगा कि जनपद बांदा को विंध्याचल श्रेणी से निकलने वाली नदियों के कारण भीषण बाढ प्रकोप का सामना प्रतिवर्ष करना पडता है। जनपद में पडने वाली यमुना, केन तथा बागै नदी से अधिकांशतया जल प्लावन की स्थित उत्पन्न होती है। आगामी बाढ को दृष्टिगत रखते हुए आज समीक्षा के दौरान जिलाधिकारी ने कमेटी के सदस्यों एवं समस्त उप जिलाधिकारियों को निर्देशित किया कि तहसील, ब्लाक तथा न्याय पंचायत स्तरों पर जो बाढ समितियां गठित है उन्हें सक्रिय करा लिया जाए एवं बाढ से सम्बन्धित बैठकें सुनिश्चित करा लें। नॉवों की पर्याप्त व्यवस्था सुनिश्चित करें तथा नाविकों के नाम, पते व मोबाइल नम्बरों सहित सूची बना लें। इसके अतिरिक्त गोताखोंरो को चिन्हीकरण करके नाम, पते व मोबाइल नम्बर व सूचीबद्ध कर लें।

बाढ़ से बचाव के लिए बैठक को संबोधित करते जिलाधिकारी अनुराग पटेल

जिलाधिकारी ने समस्त तहसीलदारों को निर्देशित किया कि बाढ़ चौकियों का सत्यापन मौके पर लेखपालों के माध्यम से कराया लिया जाए। यदि चौकियों को बढ़ाने की आवश्यकता हो तो बढ़ा ली जायें। इसकी सूचना बाढ नियंत्रण कक्ष एवं प्रभारी अधिकारी दैवीय आपदा को दिया जाए। अधिशासी अभियंता सिंचाई प्रखण्ड को निर्देशित किया गया कि वर्षा के पूर्व बांधों के फाटकों को ठीक कराया जाए तथा तटबन्धों की मरम्मत, नहरों की सफाई तथा नहर पटरियों को ठीक कराया जाए। आगामी बाढ के दौरान नदी के सीमावर्ती क्षेत्रों में होने वाली कटानों की रोकथाम हेतु सुरक्षा व्यवस्था की जाए। इसी प्रकार अधिशाषी अभियंता केन नहर प्रखण्ड बांदा को निर्देशित किया कि कन्ट्रोल रूम की स्थापना करा ली जाए। अधिशासी अभियंता विद्युत वितरण को निर्देशित किया गया कि बाढ प्रभावित क्षेत्रों पर विद्युत लाइन को ठीक करायें तथा उनकी तार लूजिंग को भी ठीक करायें। बाढ के समय जल भराव वाले क्षेत्रों से तत्काल विद्युत विच्छेदन की व्यवस्था ठीक कर ली जाए। अधिशासी अभियंता जल निगम एवं जल संस्थान को निर्देशित किया कि बाढ प्रभावित क्षेत्रों में पेयजल की व्यवस्था करना सुनिश्चित करें और हैण्डपम्पों के जल की जांच एवं उन्हें ठीक कराकर पीने योग्य पानी की व्यवस्था कराना सुनिश्चित करें। समस्त अधिशासी अधिकारियों को निर्देशित किया गया कि समस्त स्थानीय निकायों में वर्षा के पूर्व नाले एवं नालियों की सफाई करा ली जाए तथा कूडे के ढेरों को तत्काल हटाने की व्यवस्था की जाए। बाढ चौकियों पर सफाई एवं प्रकाश की व्यवस्था की जाए। मुख्य चिकित्सा अधिकारी को निर्देशित किया गया कि बाढ के समय एवं बाढ के उपरान्त आवश्यक टीकाकरण एवं कीटनाशक दवाईयों का छिडकाव करायें। मुख्य पशु चिकित्सा अधिकारी को निर्देशित किया गया कि पशुओं के चारे-भूसे एवं टीकाकरण की व्यवस्था कर लें। जिला पूर्ति अधिकारी को निर्देशित किया गया कि बाढ चौकियों पर उचित दर विक्रेताओं को सम्बद्ध करें। बाढ के समय लाई, चना, गुड माचिस आदि का स्टाक चिन्हित कर सुनिश्चित करें। मिट्टी का तेल, डीजल, पेट्रोल भी सुरक्षित रखें।

पुलिस विभाग को निर्देशित किया गया कि प्रत्येक बाढ चौकी एवं प्रभावित क्षेत्रों में पुलिस की व्यवस्था करें। बाढ की सूचनाओं एवं नदियों की दैनिक गेज के आदान प्रदान के लिए वायरलेस सेट लगाने की तैयारी कर ली जाए। जिला कृषि अधिकारी को निर्देशित किया कि कृषि फार्मों में पर्याप्त मात्रा में भूसा एकत्रित करा लें। बैठक में अपर जिलाधिकारी उमाकान्त त्रिपाठी, ज्वाइंट मजिस्ट्रेट उप जिलाधिकारी सदर सुधीर कुमार, मुख्य विकास अधिकारी वेद प्रकाश मौर्या, मुख्य चिकित्सा अधिकारी अनिल श्रीवास्तव, अधिशासी अभियंता केन कैनाल कौशिक सहित सम्बन्धित कमेटी के सदस्य उपस्थित रहे।


No comments:

Post a Comment

Post Bottom Ad

Pages