रमजान के तीसरे जुमे पर मस्जिदों में उमड़े नमाजी - Amja Bharat

Amja Bharat

All Media and Journalist Association

Breaking

Friday, April 22, 2022

रमजान के तीसरे जुमे पर मस्जिदों में उमड़े नमाजी

अधिक से अधिक गरीब मुफलिसों को दें जकात का पैसा 

फतेहपुर, शमशाद खान । रमजानुल मुबारक के 20 वें रोजे पर तीसरा जुमा रहा। जुमा की नमाज पढ़ने के लिए बड़ी संख्या में लोग मस्जिदों में पहुंचे और नमाज पढ़ी। बाद नमाज अल्लाह तआला से अमन चैन एवं भाईचारे की दुआएं मांगी। उधर मस्जिदों के पेश इमामों ने जहां रोजों की फजीलत बयान की वहीं गरीब एवं मुफलिसों को अधिक से अधिक जकात दिए जाने की बात कही। तीसरा जुमा शांतिपूर्वक ढंग से निपट गया। 

जुमे की नमाज अदा करते नमाजी।

मुस्लिम समुदाय में शुक्रवार का बड़ा महत्व है। यह शुक्रवार जब माह रमजान का होता है तो इसकी महत्ता और बढ़ जाती है। इस बार रमजान माह के 20 वें रोजे पर तीसरा शुक्रवार पड़ा। शुक्रवार को जुमा की नमाज पढ़ने के लिए लोगों ने सुबह से ही तैयारी शुरू की और नहा-धोकर ही घर से काम पर निकले। जुमे के वक्त जैसे ही मस्जिदों से अजान पुकारी गई रोज़दार मस्जिदों की तरफ चल पड़े। तेज धूप होने के बाद भी रोज़दार नमाज पढ़ने के लिए पूरे उत्साह के साथ मस्जिदों में पहुंचे और नमाज अदा की। कोतवाली स्थित जुमा मस्जिद, बाकरगंज पुलिस चौकी के पीछे स्थित जुमा मस्जिद, तुराब अली का पुरवा स्थित अजीज गार्डेन मस्जिद, आबूनगर नई बस्ती स्थित नौरंग मस्जिद, पनी स्थित मुचियानी मस्जिद, ज्वालागंज स्थित शाही मस्जिद समेत अन्य मस्जिदें नमाजियों से भरी रही। बाद नमाज नमाजियों ने अल्लाह तआला से हाथ उठाकर अमन चैन की दुआएं मांगी। नमाज से पूर्व मस्जिदों के पेश इमामों ने कहा कि रमजान माह बेहद मुकद्दस महीना है। इस महीने में रोजदार के सब्र का इम्तेहान होता है। इमामों ने कहा कि दूसरा अशरा आज समाप्त हो रहा है। कल (आज) से आखिरी अशरा शुरू होगा। उन्होने रोजदारों का आहवान किया कि अधिक से अधिक अल्लाह तलाआ से दुआएं मांगे और गरीब, मिस्कीन व मोहताजों की मदद करें। अपने माल की जकात सही व्यक्ति को सही समय पर पहुंचा दें। जिससे वह भी इसका इस्तेमाल कर सके। वहीं दूसरी तरफ नमाज समाप्त होने के बाद घर-घर महिलाओं द्वारा रोजा इफ्तार की तैयारी की जाने लगी। इफ्तार के लिए विभिन्न प्रकार के खाद्य पदार्थ बनाए गए। घर में रोजदारों के अलावा मस्जिद में पहुंचने वाले रोजदारों के लिए भी इफ्तार तैयार की गई। जिसे रोजा खुलने के पहले ही मस्जिदों में भेजा गया। निर्धारित समय पर सभी रोजदारों ने रोजा खोला।


No comments:

Post a Comment

Post Bottom Ad

Pages