जागरूकता बढ़ने से बच्चों का कोविड टीकाकरण भी बढ़ा - Amja Bharat

Amja Bharat

All Media and Journalist Association

Breaking

Wednesday, April 6, 2022

जागरूकता बढ़ने से बच्चों का कोविड टीकाकरण भी बढ़ा

स्वास्थ्य विभाग की टीमें अभिभावकों को कर रही जागरूक 

जनपद में अब तक 36,652 बच्चों को लगा टीका 

डीएम व अपर निदेशक के निर्देशन पर चल रहा अभियान 

बांदा, के एस दुबे । जागरूकता बढ़ने के साथ ही जिले में 12 से 14 साल तक बच्चों के कोविड टीकाकरण अभियान में भी तेजी आई है। बच्चों के टीकाकरण को बढ़ावा देने के लिए चल रही स्वास्थ्य विभाग की मुहिम का असर भी दिखने लगा है। टीमें घर-घर जाकर लोगों को जागरूक करने में जुटी हुई है। टीकाकरण अभियान के तहत बच्चों ने वैक्सीन लगवाकर खुद को कोरोना से सुरक्षित करने की तरफ पहला कदम बढ़ाया है। 

कैंप में कोविड का टीका लगवाते बच्चे

जिलाधिकारी अनुराग पटेल और अपर निदेशक स्वास्थ्य डा. नरेश सिंह तोमर के निर्देशन पर जनपद में 13 मार्च से 12 से 14 साल के बच्चों का कोविड टीकाकरण शुरू हुआ था। पहले दिन केवल 100 बच्चों ने ही टीकाकरण कराया था। इसके बाद चार दिन तक होली और अन्य अवकाश के कारण टीकाकरण बंद रहा। टीकाकरण के प्रति जागरूकता बढ़ाने के लिए स्वास्थ्य विभाग ने टीम बनाकर घर-घर लोगों कोरोना वायरस से बच्चों में संक्रमण के प्रति जागरूक किया। इस मुहिम का असर भी दिखा। कोरोना से बचाव के टीके लगवाने के लिए अब बच्चे केंद्रों तक पहुंच रहे हैं। 

जिला प्रतिरक्षण अधिकारी डा. संजय कुमार शैवाल ने बताया कि होली व पल्स पोलियो उन्मूलन अभियान के चलते 12 से 14 वर्ष आयु वर्ग के बच्चों को कोविड टीका लगाने का अभियान शुरुआती दिनों में काफी धीमी गति से चल रहा था। पल्स पोलियो उन्मूलन अभियान की समाप्ति के बाद टीकाकरण की गति में तेजी आई है। बच्चों को कोर्बेवैक्स की पहली डोज दी जा रही है। जनपद में 76,223 बच्चों को कोरोना से प्रतिरक्षित करने का लक्ष्य रखा गया था। अब तक 36,652 बच्चों को टीका लगाया जा चुका है।

स्कूलों में कैंप लगाकर हो रहा टीकाकरण 

बांदा। जिला प्रतिरक्षण अधिकारी डा. संजय कुमार शैवाल ने कहा कि जिले के कई स्कूलों ने नया सत्र शुरू होने से पहले 12 से 14 वर्ष के बच्चों के लिए कोरोना से बचाव की वैक्सीन की अनिवार्यता को लागू कर दिया है। अभिभावकों को बच्चों के टीकाकरण के लिए स्कूलों के माध्यम से संदेश भेजे जा रहे हैं। कई स्कूल संचालकों ने प्रवेश के लिए वैक्सीन की पहली डोज के प्रमाणपत्र को अनिवार्य भी कर दिया है।


No comments:

Post a Comment

Post Bottom Ad

Pages