बृहस्पति ग्रह का राशि परिवर्तन 13 अप्रैल को - Amja Bharat

Amja Bharat

All Media and Journalist Association

Breaking

Tuesday, April 12, 2022

बृहस्पति ग्रह का राशि परिवर्तन 13 अप्रैल को

सौर मण्डल के सबसे बड़े बृहस्पति ग्रह जो देवताओं के गुरू भी है 12 वर्षों बाद मीन राशि  में  13 अप्रैल को प्रवेश करेंगे,  ज्योतिष में बृहस्पति धर्मए ज्ञान, शिक्षा, विवाह, संतान, सुख, सम्पत्ति का कारक ग्रह है । गुरु ग्रह को प्रशासन, पेट संबंधी रोग, उच्च शिक्षा और आय के स्त्रोत का भी कारक माना गया है । गुरु जब कुंडली में शुभ होते हैं तो ऐसे जातक  विद्वान, धनवान और सम्मान पाने वाले होते हैं । ज्योतिष में बृहस्पति ग्रह की तीन विशेष दृष्टियां पांचवी, सातवी, नवीं मानी गई है ये जहां दृष्टि डालते है शुभ करते है । गोचर के गुरू जन्म राशि से 2, 5, 9, 10, 11वें भाव में शुभ होते है। बृहस्पति कर्क में उच्च के धनु और मीन उनकी स्वराशि है। अशुभ बृहस्पति की शन्ति के लिये गुरू ग्रह के मंत्रो का जप, गाय, मन्दिर और गुरू की सेवा और गुरू ग्रह की वस्तुओं का दान करना चाहिये, पांच मुखी रुद्राक्ष धारण करे । भगवान विष्णु एशिवए देवी दुर्गा और भगवान कृष्ण उपासना से भी ग्रहों के बुरे प्रभाव नहीं मिलते है ।



देव गुरु बृहस्पति 13 अप्रैल को सांयकाल  04:57 सम राशि कुम्भ से निकल कर स्वराशि  मीन में प्रवेश करेंगे वहाँ  22 अप्रैल 2023 तक रहेंगे उसके बाद मेष राशि में चले जाएंगे 13 अप्रैल को मीन राशि में गोचर करने के साथ ही 29 जुलाई को गुरु मीन राशि में ही वक्री होंगे । तब उनकी उल्टी चाल प्रारंभ होगी । फिर 24 नवंबर को गुरु इसी राशि में मार्गी होंगे, गुरु के इस राशि परिवर्तन का सभी 12 राशियों पर प्रभाव पड़ेगा, गुरु का गोचर कुछ राशि के जातकों को बहुत शुभ प्रभाव  देगा ।


 मेष 

बृहस्पति को गोचर 12 भाव में होगा, जिस कारण गोचर की अवधि में देश विदेश की यात्रा, व्यय  अधिक, धर्म के कार्यों में रुचि बढ़ेगी, दांपत्य जीवन में खुशियां रहेगी, नौकरी में स्थनांतरण हो सकता है स्वस्थ का ध्यान रखे ।


वृषभ

गुरु का गोचर 11वें भाव में होगा, आय के स्थान पर, निवेश से बड़ा धन लाभ हो सकता है । गुप्त स्रोत से भी आर्थिक लाभ हो सकता है, पदोन्नति, पारिवारिक रिश्तों में मधुरता आएगी, विद्यार्थियों के लिए यह गोचर अच्छा रहेगा ।


मिथुन

. गुरु के 10वें भाव में गोचर करने से रोजगार में  सफलता मिलेगी,  चिकित्सा, कानून और खाद्य से जुड़े रोजगार में शामिल लोगों के लिए यह गोचर अनुकूल रहने वाला है, नौकरीपेशा वालों को कार्यस्थल पर मान सम्मान मिलेगा ।


कर्क 

गुरु 9वें भाग्य भाव में गोचर करेंगे, बृहस्पति गोचर  अनुकूल साबित होगा, कार्यस्थल पर कार्यों की सराहना होगी, सैलरी में बढ़ोतरी, बिजनेस वालों के लिए भी यह गोचर लाभकारी  होगा, व्यापार में दैनिक आय में वृद्धि होगी, कोई  संपत्ति खरीद सकते हैं ।


सिंह

.गुरु का गोचर 8वें भाव में होने वाला है, जिस कारण आपकी आर्थिक स्थिति में उतार चढ़ाव, स्वास्थ का ध्यान रखे, स्थानातरण हो सकता है,  वैवाहिक जीवन में किसी अन्य की दखलअंदाजी से रिश्ता बिगड़ सकता है, 

कन्या

.बृहस्पति का गोचर लाभकारी साबित होगा, परिवार के साथ खुशनुमा पल बिताएंगे, विवाह योग्य का विवाह हो सकता  है, साथ ही दांपत्य जीवन में जीवनसाथी के साथ रिश्ता मजबूत रहेगा, साझेदारी वाले व्यापार में आर्थिक लाभ हो सकता है ।


तुला राशि 

 षष्ठ भाव में गुरु का गोचर परिजनों से वाद विवाद हो सकता है, पेट के रोग दे सकता है व्यय अधिक  करा सकता है ।


वृश्चिक राशि 

.आर्थिक  स्थिति मजबूत होगी, व्यापार में विस्तार, नौकरी में पदोन्नति, संतान प्राप्ति  परिवार में वृद्धि, खुशी का माहौल रहेगा ।


 धनु राशि 

.सुख सुविधाओं में बढ़ोतरी होगी संपत्ति खरीदने के योग हैं, करियर, व्यापार, उन्नति के लिए लाभदायक है मान प्रतिष्ठा में वृद्धि ।


मकर राशि .

गुरु तीसरे भाव में गोचर करेंगे माता पिता के स्वस्थ  का ध्यान रखे, प्रतियोगी परीक्षाओ में मेहनत ज्यादा  करनी होगी ।


कुंभ राशि 

व्यापार व्यवसाय में अच्छे लाभ होगा, पदोन्नति, पैतृक संपत्ति का लाभ, विवाह योग्य व्यक्तियों  के विवाह, मांगलिक कार्य होंगे ।


मीन राशि.

गुरु आप के लग्न में गोचर करेगा, आत्मविश्वास बढ़ेगा, सफलता प्राप्त होगी, नौकरी, व्यवसाय में सहयोग मिलेगा आमदनी में बढ़ोतरी होगी ।


 ज्योतिषाचार्य एस. एस. नागपाल स्वास्तिक ज्योतिष क्रेन्द्र, अलीगंज

No comments:

Post a Comment

Post Bottom Ad

Pages