बीजेपी की प्रचंड जीत........... - Amja Bharat

Amja Bharat

All Media and Journalist Association

Breaking

Thursday, March 10, 2022

बीजेपी की प्रचंड जीत...........

(ऑल मीडिया जर्नलिस्ट एसोसिएशन उत्तर प्रदेश महासचिव ,देवेश प्रताप सिंह राठौर)

.............. चार राज्यों में बीजेपी पूर्ण रूप से पूर्ण बहुमत के साथ सरकार बन रही है जिसमें उत्तर प्रदेश, गोवा, मणिपुर और उत्तराखंड उत्तर प्रदेश विधान सभा चुनावों में जीत के बाद मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ बीजेपी दफ्तर पहुंच और सहयोगियों संग खेली होली. इस मौके पर उन्होंने सभी को जीत की बधाई दी ताजा रुझानों में बीजेपी गठबंधन 266 सीटों पर आगे चल रहा है, जबकि सपा गठबंधन दो नंबर पर रहते हुए 132 सीटों पर बढ़त बनाए हुए हैं।बसपा 2 सीटों पर और कांग्रेस 1 सीट पर आगे दिख रही है. अन्य भी 2 सीटों पर आगे चल रहे हैं2017 में बीजेपी को 39.6 फीसदी वोट मिले थे जो 2022 में यानी पांच साल में पांच फीसदी बढ़कर  44.6 फीसदी हो गया है लेकिन सीटों के लिहाज से पांच साल में बीजेपी की 56 सीटें घट गई हैं, जबकि सपा गठबंधन को 80 सीटों का फायदा हुआ है.पश्चिमी उत्तर प्रदेश के सरधना सीट से बीजेपी विधायक संगीत सोम चुनाव हार गए हैं. कन्नौज सदर सीट से BJP के असीम अरुण जीत गए हैं. उन्हें 1 लाख 20 हजार 219 वोट मिले, जबकि सपा के अनिल दोहरे को 1 लाख 14 हजार 56 वोट मिले हैं. जीत का अंतर 6 हजार 163 वोट रहा.


उधर, बीजेपी से सपा में आए स्वामी प्रसाद मौर्य फाजिलनगर से चुनाव हार गए हैं. हालांकि, योगी मंत्रीमंडल से इस्तीफ़ा देकर आए दारा सिंह चौहान सपा के टिकट से घोषी से जीत गए हैं. नोएडा से बीजेपी के पंकज सिंह चुनाव जीत गए हैं. आजमगढ़ की सभी 10 और गाज़ीपुर की सभी 7 सीटों पर सपा के उम्मीदवार आगे चल रहे हैं।उत्तर प्रदेश में 40 से ज्यादा ऐसी सीटें हैं, जहां इस वक्त बीजेपी और सपा प्रत्याशियों में 1000 से भी कम वोट मार्जिन का खेल चल रहा है. कहीं बीजेपी के उम्मीदवार 2 वोट से सपा उम्मीदवार से आगे चल रहे हैं तो कहीं सपा के उम्मीदवार 17 वोटों से बीजेपी उम्मीदवार से आगे चल रहे हैं. 25 सीटों पर बीजेपी 1000 से भी कम वोटों से सपा से आगे चल रही है,निर्वाचन आयोग ने मतगणना की निगरानी के लिए दिल्ली के मुख्य निर्वाचन अधिकारी को मेरठ में और पीएम मोदी के संसदीय क्षेत्र वाराणसी में बिहार के मुख्य निर्वाचन अधिकारी को विशेष अधिकारी के रूप में नियुक्त किया है. उत्तर प्रदेश में 750 से अधिक मतगणना केंद्र बनाए गए हैं. उत्तर प्रदेश के सभी जिलों और आयुक्तालयों को केंद्रीय सशस्त्र पुलिस बल की कुल 250 कंपनियां दी गई हैं. सीएपीएफ की एक कंपनी में आम तौर पर करीब 70-80 कर्मी होते हैं. यूपी के सभी मतगणना केंद्रों पर वीडियो रिकॉर्डिंग की व्यवस्था की गई है,  उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव  के सातवें चरण के मतदान पूरा होने के साथ ही रिजल्ट से जुड़ा सर्वे सामने आ गया है। उत्तर प्रदेश में मुख्यमंत्री कौन बनेगा इसकी तस्वीर भी नवभारत टाइम्स के सहयोगी टाइम्‍स नाउ नवभारत वीटो के सर्वे रिजल्ट से लगभग साफ हो गई है। उत्तर प्रदेश में 403 सीटों में बीजेपी गठबंधन  को 225, सपा गठबंधन वहीं समाजवादी पार्टी प्रमुख अखिलेश यादव  के मुख्यमंत्री बनने पर संकट दिख रहा है।उत्तर प्रदेश के पहले चरण की 58 सीटों में से बीजेपी को 31 सीट, सपा को 23 सीट, बसपा को 1 सीट, कांग्रेस को 2 सीट और अन्य को 1 सीट मिल रही है। दूसरे चरण की 55 सीटों में से बीजेपी को 31 सीट, सपा को 20 सीट, बसपा को 2 सीट, कांग्रेस को 2 सीट और अन्य को 0 सीट मिल रही हैं।तीसरे चरण की 59 सीटों में से बीजेपी को 32 सीट, सपा को 23 सीट, बसपा को 1 सीट, कांग्रेस को 3 सीट और अन्य को 1 सीट मिल रही है। चौथे चरण की 69 सीटों में से बीजेपी को 38 सीट, सपा को 18 सीट, बसपा को 1 सीट, कांग्रेस को 1 सीट और अन्य को 1 सीट मिल रही है। वैसे जो उम्मीदें लग रही थी एग्जिट पोल के मुताबिक बहुत सारी चीजें सही हुई हैं उत्तर प्रदेश में योगी जी के बुलडोजर के रूप में जो एक छवि बनी है,  गुंडा मवालीओं के साथ उन्होंने शक्ति के साथ कार्य किया है और उत्तर प्रदेश में 5 साल में कोई भी दंगे फसाद जातिगत दंगे नहीं हुए हैं बहुत सी चीजें लोगों ने देखी और लगभग 275 सीटों के साथ उत्तर प्रदेश प्रचंड बहुमत के साथ भारतीय जनता पार्टी की सरकार पुनः बनने जा रही है।उत्तराखंड में 70 सीटें हैं जिसमें 48 के ऊपर भारतीय जनता पार्टी पाई है, और गोवा में 20 सीटें के लगभग बहुमत के करीब पहुंच चुके हैं मणिपुर में 32 सीटें जीतकर बहुमत के साथ सरकार बन रही है। मोदी और योगी का लहर जो पूरे देश के साथ प्रदेश में जो चली है वास्तव में लोगों ने साइलेंट वोट बीजेपी को गया है। जिसके कारण बीजेपी प्रचंड बहुमत से जीत हुई है और मुझे लगता है आने वाले 5 वर्षों में योगी जी और बेहतर कार्य करेंगे लगभग कांग्रेसो बसपा समाप्त हो गई है सपा की स्थिति भी कहीं कांग्रेस बसपा जैसी ना हो जाए यह अब 2027 के चुनाव में अब संभव है।

No comments:

Post a Comment

Post Bottom Ad

Pages