कौशल विकास के लिए प्रशिक्षण का हुआ शुभारंभ - Amja Bharat

Amja Bharat

All Media and Journalist Association

Breaking

Tuesday, March 29, 2022

कौशल विकास के लिए प्रशिक्षण का हुआ शुभारंभ

बांदा, के एस दुबे । कृषि में परम्परागत अनुभव के साथ-साथ तकनीकि का समावेश खेती किसानी को एक लाभदायक व्यवसाय बनाने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है।कौशल विकास (निपुणता) किसी भी लागत की क्षमता को बढ़ा देता है। फलस्वरूप उत्पादन लागत में कमी आती है और आय में वृद्धि सम्भव हो पाता है।

गांव में किसानों को प्रशिक्षण देते प्रशिक्षक

बांदा कृषि एवं प्रौद्योगिक विश्वविद्यालय के कृषि महाविद्यालय के अधिष्ठाता प्रोफेसर डा. गुरूशरण पंवार ने अनुसूचित जाति के कृषकों के लिए कृषि अनुसंधान परिषद, नइ र्दिल्ली द्वारा संचालित एससीएसपी योजना के अन्तर्गत दो दिवसीय प्रशिक्षण कार्यक्रम के उद्घाटन सत्र पर अपने उद्बोधन में कहा। इस दो दिवसीय प्रशिक्षण कार्यक्रम का शुभारम्भ ग्राम कनवारा, लोधौरा तथा लामा में किया जा रहा है। फसल कटाई माह में कृषकों की व्यस्तता को देखते हुये प्रशिक्षण कार्यक्रम गाँव में संचालित किया जा रहा है ताकि अधिक से अधिक किसान लाभान्वित हो सकें। इन चयनित गांवों में विभिन्न विषयों जैसे कि कृषि रसायनों के छिड़काव तकनीकि एवं यंत्र का रखरखाव, उन्नत बीज उत्पादन तकनीक, केचुआ खाद उत्पादन एवं मृदा स्वास्थ्य। ग्राम कनवारा में प्रशिक्षण कार्यक्रम के समन्वयक प्रोफेसर डा. दिनेश साह ने दो दिवसीय कार्यक्रम की रूपरेखा बताई। सह-समन्वयक डा. अरुण कुमार ने कृषि रासायनों के समुचित उपयोग पर प्रकाश डाला।

कार्यक्रम के शुभारम्भ अवसर पर ग्राम लोधौरा में मृदा विज्ञान विभाग के अध्यक्ष प्रोफेसर जगन्नाथ पाठक ने मृदा स्वास्थ्य पर विस्तृत चर्चा की। वहीं लामा गांव में कार्यक्रम समन्वयक डा. हितेश कुमार ने उन्नत बीजों की महत्ता पर प्रकाश डाला। दो दिवसीय कार्यक्रम की रूपरेखा बतायी। प्रत्येक कार्यक्रम में 30-40 कृषकों को पंजीकृत कराया गया।


No comments:

Post a Comment

Post Bottom Ad

Pages