उद्यान महाविद्यालय के छात्रो ने बनाया हर्बल गुलाल : द्विवेदी - Amja Bharat

Amja Bharat

All Media and Journalist Association

Breaking

Wednesday, March 16, 2022

उद्यान महाविद्यालय के छात्रो ने बनाया हर्बल गुलाल : द्विवेदी

 बांदा, के एस दुबे  । होली के त्यौहार में विभिन्न रंगो के गुलाल बहुतायत में उपयोग मे लाया जाता है। प्रायः यह देखने को मिलता है कि रसायनयुक्त गुलाल से त्वचा, आखें व शरीर के अन्य अंग प्रभावित होते है। डाक्टरो कि माने तो यह रसायनयुक्त रंग व गुलाल घातक से लेकर बहुत ही घातक होते है। ऐसे में अगर गुलाल हर्बल अथवा प्राक्रतिक वनस्पतियो से बनाये गये हो तो उन्हे प्रयोग मे लाने से किसी भी तरह के नुकसान की सम्भावना कम या नही होती है। 

हर्बल गुलाल बनाने वाले छात्र

हर्बल गुलाल बनाने व उसे बिपणन हेतु तैयार करने कि अनोखी पहल छात्रो द्वारा किया गया है। ये छात्र बाँदा कृषि एवं प्रौद्योगिक विश्वविद्यालय बांदा के उद्यान महाविद्यालय के चतुर्थ वर्ष में अध्ययनरत है। उद्यान महाविद्यालय के छात्रों ने अनुभवात्मक शिक्षण कार्यक्रम के अन्तर्गत यह हर्बल गुलाल तैयार किया है। छात्रों ने पुष्प एवं भू-सौन्दर्यीकरण विभाग के सहायक प्राध्यापक श्री के.एस.तोमर  के दिशा निर्देशन में विभिन्न वनस्पतियों जैसे- गेदा, चुकन्दर, पलास इत्यादि के फूल एवं जड़ों का उपयोग करके 17 किलो हर्बल गुलाल इस होली पर बिक्री हेतु  तैयार किया है। उद्यान महाविद्यालय के अधिष्ठाता डा. एसवी द्विवेदी ने यह जानकारी दी। डा. द्विवेदी ने यह बताया कि छात्रो के द्वारा बनाया गया गुलाल रंगीन, खुषबूदार व बहुत ही चिकना है, जो कि त्वचा के लिये नुसकान दायक नही है। डा0 द्विवेदी ने अध्ययनरत छात्रो को ऐसे कार्य के लिये प्रोत्साहित करने की बात कही जिससे स्वरोजगार अपनाकर और लोगो को रोजगार दे सके। अनुभवात्मक शिक्षण कार्यक्रम  में छात्रों को उद्यमिता विकास द्वारा आत्मनिर्भर बनने का कौशल सिखाया जाता है। इस कार्यक्रम के अन्तर्गत छात्रों द्वारा अपनी रुचि के हिसाब से विषय का चयन करते हैं तथा उस विषय में महारत हासिल कर स्वरोजगारी बनने के लिये आगे बढते है। कृषि एवं उद्यान विषयो मे अध्ययरत छात्र स्वरोजगारी बनने के लिये छः माह षिक्षण कार्यक्रम के तहत ही प्रायोगिक ज्ञान प्राप्त करते है। प्राषिक्षण प्राप्त छात्रो को रूचि एवं आवष्यकतानुसार जागरूक एवं प्रषिक्षित किया जाता है। छात्रों द्वारा तैयार किये गये विभिन्न उत्पाद को विष्वविद्यालय परिसर अथवा स्थानिय बाजार मे मात्रा अनुसार विक्रय हेतु उपलब्ध कराया जाता है। इस कार्यक्रम के अन्तर्गत छात्रों द्वारा बिक्री के उपरान्त जो भी लाभ मिलता है उसे छात्रों में ही वितरित कर दिया जाता है। ज्ञात हो कि पूर्व में इस महाविद्यालय के तीन छात्र हिमांशा दिक्षित, लवलेश मिश्रा व सिमरन सिंह ने बडे पैमाने पर अपने उद्योग स्थापित कर कई लोगो को रोजगार दिया है।

No comments:

Post a Comment

Post Bottom Ad

Pages