अतर्रा में प्रशासन ने सख्ती के साथ हटाया अतिक्रमण - Amja Bharat

Amja Bharat

All Media and Journalist Association

Breaking

Tuesday, March 29, 2022

अतर्रा में प्रशासन ने सख्ती के साथ हटाया अतिक्रमण

आम राय होने के बावजूद प्रशासन और व्यापारियों में हुई तकरार 

किसी के साथ भेदभाव नहीं किया जाएगा : उप जिलाधिकारी 

बांदा, के एस दुबे । अतिक्रमणकारी इतनी आसानी से हटने वाले नहीं है। अभियान चलाए जाने के पूर्व व्यापारियों के साथ बैठक की गई थी। सभी को जानकारी दी गई थी। इसके बाद अभियान चलाया गया। बावजूद इसके मंगलवार को अतिक्रमण हटाओ अभियान चलाए जाने पर व्यापारियों और पुलिस व प्रशासन के बीच तकरार हुई। प्रशासन पर आरोप लगाया गया कि निर्धारित मानक से इतर अतिक्रमण हटाया जा रहा है। व्यापारियों ने कड़ी नाराजगी जाहिर करते हुए निंदा प्रस्ताव पारित किया है। गौरतलब हो कि 24 मार्च को थाना परिसर में अतिक्रमण हटाये जाने

अतिक्रमण ढहाती जेसीबी मशीन

को लेकर एसडीएम विजय प्रकाश तिवारी, सीओ अतर्रा अंबुजा त्रिवेदी व ईओ अतर्रा नगर पालिका राम सिंह के बीच उद्योग व्यापार मंडल पदाधिकारियों व व्यापारियों के बीच बैठक हुई थी। जिसमें आमराय से सहमति बनी थी कि मुख्य मार्ग बांदा व बदौसा रोड में सड़क के मध्य से दोनों ओर 30 फिट व नरैनी, स्टेशन रोड में 20 फिट अतिक्रमण खाली कराया जाएगा। इसके बाद पालिका प्रशासन व एनएच कर्मचारियों के सयुंक्त अभियान में चिन्हांकन करते हुए प्रचार-प्रसार भी किया गया। जिसके बाद व्यापारियों ने अपना अस्थाई अतिक्रमण स्वयं हटा लिया था, लेकिन मंगलवार को एसडीएम की अगुवाई में बांदा रोड स्थित केन नहर से अतिक्रमण हटाने का अभियान बुलडोजर व पालिका व पुलिस फोर्स को लेकर शुरू किया गया। वहां पूर्व निर्धारण को दरकिनार करते
भ्रमण करती पुलिस फोर्स

हुए एसडीएम ने अपनी हठधर्मिता के चलते कई लोगों के प्रतिष्ठानों को पूरी तरह से गिरा दिया। जब व्यापार मंडल के पदाधिकारी व कुछ मीडिया के लोग एसडीएम से निर्धारित किये गए मानक पर गिराए जाने की बात कही। तो उन्होंने किसी की बात को न सुनते हुए हिरासत में लेने की धमकी दी। कई लोगों से अभद्रता भी की। एसडीएम की तानाशाही के चलते उद्योग व्यापार मंडल अतर्रा अध्यक्ष उमाशंकर गुप्ता व युवा व्यापार मंडल अध्यक्ष अवधेश गुप्ता की अगुवाई में व्यापारियों ने आक्रोश व्यक्त करते हुए निंदा प्रस्ताव पारित किया। व्यापारियों का कहना है कि जब प्रशासन को अपने मनमुताबिक अतिक्रमण हटाना था, तो बीते पांच दिन पहले थाना परिसर में बैठक करने की जरूरत क्या थी। उन्होंने एकराय बनाते हुए यह भी निर्णय लिया कि मौजूदा एसडीएम के हटने तक किसी भी तरह की बैठक में भाग नही लेंगे। इधर, एसडीएम विजय प्रकाश तिवारी ने कहा कि अतिक्रमण हटाने के दौरान किसी के साथ भेदभाव नहीं किया जाएगा। अभियान जारी रहेगा। 


No comments:

Post a Comment

Post Bottom Ad

Pages