कलश यात्रा ने किया भ्रमण, भागवत कथा शुरू - Amja Bharat

Amja Bharat

All Media and Journalist Association

Breaking

Wednesday, March 23, 2022

कलश यात्रा ने किया भ्रमण, भागवत कथा शुरू

अतर्रा, के एस दुबे । नगर के गौराबाबा धाम परिसर में नगर पालिका परिषद के लेखा लिपिक शिवचरण बाजपेई व अग्रज राजकुमार बाजपेई के सौजन्य से आयोजित श्रीमद्भागवत पुराण कथा के दौरान भव्य कलश यात्रा का आयोजन किया गया, जिसमें सैकड़ों महिलाओं पुरुषों ने भागीदारी की। 

कलश यात्रा के उपरांत कथावाचक स्वामी बाल व्यास महाराज ने सर्वप्रथम व्यासपीठ का  विधि विधान से पूजन कराया। इसके बाद उन्होंने श्रीमद्भागवत पुराण की कथा की शुरुआत करते हुए बताया कि संत मिलन और श्रीमद्भागवत पुराण की कथा बड़े दुर्लभ से प्राप्त होती है। भागवत पुराण की कथा का न तो किसी को प्रारंभ की

कलश यात्रा में शामिल महिलाएं व अन्य

जानकारी है, न ही इसके अंत की हजारों वर्ष पूर्व श्रीमद्भागवत पुराण की कथा की रचना सर्वप्रथम गणेश जी ने की थी। भागवत पुराण वह कल्पवृक्ष है जिसमें रस ही रस है। ना तो उसमें छिलका है ना ही गुठली। बशर्ते संकल्पित भाव से जो श्रोता कथा सुनता है, निश्चित रूप से उसका लाभ प्राप्त होता है। भागवत कथा के 27 नियम हैं, जिनका पालन सुनिश्चित किया जाना चाहिए। कथा व्यास बाल व्यास जी ने कहा कि भागीरथी गंगा और ज्ञान गंगा में स्नान करने का अलग-अलग महत्व के बारे में बताया। भागवत कथा के शुरुआत में 757 देवी देवताओं का पूजन के दौरान आवाहन किया जाता है। इस दौरान राकेश दुबे, कपिलदेव तिवारी, रामाश्रय, राधेश्याम शुक्ला, लखन दुबे, कामता प्रसाद, शिवाकांत दीक्षित, जुगल गुप्ता, मोनू गुप्ता, सूरज बाजपेई सहित सैकड़ों सोता गण उपस्थित रहे।


No comments:

Post a Comment

Post Bottom Ad

Pages