नृशंस हत्या के मामले में छह लोगों पर मामला दर्ज - Amja Bharat

Amja Bharat

All Media and Journalist Association

Breaking

Sunday, March 13, 2022

नृशंस हत्या के मामले में छह लोगों पर मामला दर्ज

पांच लोगों को हिरासत में लेकर पूछताछ कर रही पुलिस

कटा शव मिलने की बात निकली गलत

नर बलि की रहीं चर्चाएं

चित्रकूट, सुखेन्द्र अग्रहरि। कोतवाली कर्वी अंतर्गत राघवपुरी सीतापुर में चार दिन से लापता छात्र कन्हैया वर्मा की नृशंस हत्या मामले में पुलिस ने मृतक के रिश्ते में तीन चाचा, एक चाची समेत छह को नामजद कर मुख्य आरोपी भुल्लू उर्फ जरैला समेत पांच को हिरासत में लिया है। लोगों में चर्चा है कि नर बलि के लिए यह अपहरण कर हत्या की गई है। मृतक के शरीर को तीन स्थान से काटने की बात गलत निकली है। संभावना है कि सिर पर पत्थर मार फिर गला दबाकर हत्या की गई। तीन डाक्टरों के पैनल ने पोस्टमार्टम किया। कडी पुलिस सुरक्षा के बीच वीडियोग्राफी कराई गई। भारी पुलिस बल की मौजूदगी में शव का अंतिम संस्कार परिजनों ने किया है।

 नृशंस हत्या के मामले में छह लोगों पर मामला दर्ज

शनिवार की देर शाम को लापता कन्हैया पुत्र रामप्रयाग वर्मा का शव उसके घर के पीछे रहने वाले रिश्ते में चाचा भुल्लू उर्फ जरैला के घर के पास छोटे ड्रम में मिला था। परिजनों ने बताया कि शव को तीन स्थानों से काटकर ड्रम में भरा गया और पुलिस टीम बिना शव दिखाये मर्चरी ले गई। इसी बात को लेकर देर रात लगभग दो बजे तक बवाल चला था। रविवार की सुबह भारी पुलिस बल व गुप्तचर एजेंसी डाग स्क्वायड टीम की मौजूदगी में मृतक का पोस्टमार्टम तीन डाक्टरों के पैनल ने किया। इसके बाद परिजनों की मर्जी के मुताबिक शव का सीतापुर में अंतिम संस्कार कराया गया। कोतवाल राजीव कुमार सिंह ने बताया कि मृतक के पिता की तहरीर पर मुख्य आरोपी पड़ोसी भुल्लू उर्फ जरैला, उसकी पत्नी, भाई राकेश, बउआ व जगदीश के अलावा लल्लू पुत्र जगदीश के खिलाफ धारा 147, 363, 364, 302, 201 व 34 आईपीसी के तहत रिपोर्ट दर्ज किया गया है। दोपहर को मुख्य आरोपी समेत पांच को पकड़ा गया है। जिनसे हत्या के पीछे ठोस कारण की जानकारी की जा रही है। परिजनों के अनुसार कोई दुश्मनी नहीं थी। बहुत पहले भूमि विवाद हुआ था। कुछ लोग इसे नर बलि के रूप में भी ले रहे हैं। पुलिस के अनुसार सभी बिंदुओं पर जांच हो रही है।

शव मिलने के दौरान परिजनों ने बताया था कि शव को धारदार हथियार से तीन स्थानों से काटकर ड्रम में रखा गया है। देर रात को पोस्टमार्टम हाउस में जब कोतवाली के सिपाही वीरेंद्र यादव ने ड्रम से शव बाहर निकाला तो सभी आश्चर्य में पड़ गये कि शव कहीं से कटा नहीं था। उसके सिर पर घाव और गले में निशान थे। उसकी जीभ भी कुछ बाहर निकली थी। शनिवार को एसपी धवल जायसवाल ने बताया कि शव को काटा नहीं गया है। लेकिन  अपहरण के बाद हत्या कर छिपाया गया है। पोस्टमार्टम की रिपोर्ट के बाद सही जानकारी होगी।

अपहरण की लिखी रिपोर्ट में बढ़ी हत्या की धाराएं

चित्रकूट। विगत आठ मार्च को घर के बाहर निकले आठ वर्षीय कन्हैया के परिजनों ने नौ मार्च को कोतवाली में गुमशुदगी की जानकारी दी। आरोप लगाया था कि सीतापुर पुलिस चौकी टीम उनके पुत्र को ढूंढने में मदद नहीं कर रही है। जिससे अनहोनी की संभावना है। इसकी रिपोर्ट कोतवाली में दर्ज की गई थी। शनिवार को शव मिलने पर हत्या की रिपोर्ट नामजद दर्ज कर धाराएं बढाई गई हैं।


No comments:

Post a Comment

Post Bottom Ad

Pages