पांच सौ रुपए के लिए की थी दादी की हत्या - Amja Bharat

Amja Bharat

All Media and Journalist Association

Breaking

Friday, March 11, 2022

पांच सौ रुपए के लिए की थी दादी की हत्या

बड़ी बहन के बेटे का पुत्र निकला हत्यारा 

15 फरवरी की रात भदेहदू गांव में हुई थी हत्या 

बबेरू/बांदा, के एस दुबे । तकरीबन एक माह पूर्व सूने घर में वृद्धा की हत्या और लूट के मामले का पुलिस ने खुलासा कर दिया। अपर पुलिस अधीक्षक लक्ष्मी निवास मिश्र ने पुलिस लाइन सभागार में मीडिया से रूबरू होते हुए बताया कि महज पांच सौ रुपए के लिए वृद्धा की हत्या की गई थी। हत्या मृतक की बड़ी बहन के बेटे के पुत्र ने की थी। हत्यारे ने पांच सौ रुपया की मांग की थी, वृद्धा के मना कर देने पर सिर पर ईंट से वारकर हत्या कर दी थी। 

पुलिस गिरफ्त में हत्यारोपी परशुराम

गौरतलब हो कि बबेरू कोतवाली क्षेत्र के भदेहदू गांव निवासी कौशिल्या (35) पत्नी कीरत पटेल 15 फरवरी की रात घर में सो रही थी। तभी अज्ञात लोगों ने उसकी ईंट पत्थरों से कूचकर हत्या कर दी। नाक की पोंगी और पायल लूटकर फरार हो गया था। पुलिस मामले की छानबीन में जुटी रही। आरोपी भी घर से कहीं नहीं गया। शक के आधार पर पुलिस ने पड़ोसी परशुराम उर्फ करिया पटेल पुत्र कमलेश पटेल को दबोच लिया। उससे पूछतांछ की। पूछतांछ के दौरान उसने अपना जुर्म कुबूल कर लिया। अपर पुलिस अधीक्षक श्रीनिवास मिश्र ने पुलिस लाइन सभागार में मीडिया से रूबरू होते हुए बताया कि मृतका के कोई औलाद नहीं थी। उसके पास जो भी जमीन थी। उसने अपनी सारी जमीन भतीजों के बहुओं के नाम कर दी थी। अपर पुलिस अधीक्षक ने बताया कि कौशिल्या और उसकी बड़ी बहन एक ही घर में ब्याही थी। कौशिल्या के पति की मौत हो चुकी है। उधर, उसकी बड़ी बहन की भी मौत हो चुकी है। बड़ी बहन के बेटे के पुत्र ने वृद्धा की ईंट पत्थरों से कूचकर हत्या कर दी। बताया कि वह प्रतिदिन खाना देने के लिए जाता था। तभी वृद्धा दरवाजा खोलती थी। घटना वाले दिन भी परशुराम कौशिल्या के घर पहुंचा और दरवाजा खटखटाया। लेकिन कौशिल्या ने खाना खाने से मना कर दिया। इस पर कहा कि कुछ काम है। दरवाजा खुलते ही परशुराम ने कौशिल्या से 500 रुपए की मांग की। कौशिल्या ने रुपया देने से मना कर दिया। इसी खुन्नस के चलते करिया ने कौशिल्या के सिर पर पत्थर मार दिया, जिससे उसकी मौत हो गई। लूट की वारदात का रूप देने के लिए उसने कान के टाप्स, पायल भी उतार ली थी और छप्पर को भी तितर-बितर कर दिया था। ताकि यह लगे कि बदमाशों ने घटना को अंजाम दिया है। पुलिस टीम में प्रभारी निरीक्षक बबेरू बांके बिहारी सिंह, कांस्टेबल जितेंद्र सिंह, कांस्टेबल धर्मेन्द्र कुशवाहा आदि शामिल रहे। 


No comments:

Post a Comment

Post Bottom Ad

Pages