पाइप लाइन, ओवरहेड टैंक की खराब प्रगति पर फटकार - Amja Bharat

Amja Bharat

All Media and Journalist Association

Breaking

Tuesday, March 15, 2022

पाइप लाइन, ओवरहेड टैंक की खराब प्रगति पर फटकार

पेयजल परियोजनाओं की डीएम ने की समीक्षा

चित्रकूट, सुखेन्द्र अग्रहरि। जिलाधिकारी शुभ्रान्त कुमार शुक्ल की अध्यक्षता में जनपद  में तीन इंन्टकवेल, सिलौटा जल जीवन मिशन के अंतर्गत समस्त ग्रामीण क्षेत्रों में पाइप पेयजल पहुंचाने को निर्माणाधीन परियोजनाओं की भौतिक समीक्षा कलेक्ट्रेट सभागार में हुई।

समीक्षा में कार्यदाई संस्था सीएनटी इंटेकवेल पाइप लाइन व ओवरहेड टैंक की स्थिति संतोषजनक नहीं पाई गई। वाटर ट्रीटमेंट प्लांट का कार्य सही मिला। जिसकी भौतिक प्रगति 45 प्रतिशत रही। इसके अतिरिक्त कार्यदाई संस्था जीवीपीआर ट्रीट प्लान्ट, इंन्टकवेल, वाटर ट्रीटमेंट प्लांट की भौतिक प्रगति 60 प्रतिशत जो ठीक थे। लापरवाही के चलते पाइप लाइन और ओवरहेड टैंक की प्रगति खराब होने पर फटकार लगाई। अब तक 893 किमी पाइप लाइन बीछाई जा चुकी है। जिलाधिकारी ने कहा कि मैन पावर बढा कर जल्द कार्य कराएं। वन विभाग के अधिकारियों के साथ बैठक कर पाइप लाइन में आने वाली असुविधा का निराकरण किया जाए। समीक्षा बैठक में एडीएम नमामि गंगे सुनंदु सुधाकरण, एलएनटी, जीवीपीआर के प्रोजेक्ट मैनेजर, मेटल विभाग, जल, विद्युत यांत्रिक सहायक अभियंता प्रोजेक्ट मैनेजर, तीन निरीक्षण एजेन्सी के अधिकारी आदि मौजूद रहे।

समीक्षा बैठक में निर्देश देते डीएम।

कंप्यूटर में नहीं ग्राउंड पर करते हैं विश्वास : डीएम

-शासी निकाय की बैठक कर सीएमओ को स्वास्थ्य सेवाएं बेहतर रखने के दिए निर्देश

चित्रकूट। जिलाधिकारी शुभ्रान्त कुमार शुक्ल की अध्यक्षता में जिला स्वास्थ्य समिति शासी निकाय की बैठक कलेक्ट्रेट सभागार में संपन्न हुई। 

डीएम ने हेल्थ वर्कर्स, बैनर छपवाना, प्रभावी नियंत्रण के लिए सर्विलांस अभियान, कोविड-19 स्थल, प्रधानमंत्री सुरक्षा योजना के अंतर्गत मातृत्व लाभ, जनपद में प्राप्त अवार्ड के लिए प्रोत्साहन राशि, कोविड संक्रमण के बचाव, रोकथाम के लिए आशा, आशा संगिनी के लिए प्रोत्साहन राशि दिए जाने के संबंध में, एनीमिया मुक्त भारत कार्यक्रम के अंतर्गत 6-59 वर्ष के व्यक्तियों एनीमिया बचाव को कोविड से संबंधित उपकरण खरीदने के लिए, ड्रग वेयर हाउस के संचालन को ऑपरेशन कास्ट, जैम पोर्टल के माध्यम से निविदा प्रक्रिया जिसमें सफाई व लॉन्ड्री व्यवस्था, टीम के भ्रमण के लिए 10 टैक्सी परमिट चार पहिया वाहन, चिकित्सालय में ड्राइवर प्रशिक्षण, कार्यशाला, बैठक आदि में नाश्ता, भोजन, टेंट, माइक, स्टैनरी, संविदा कर्मियों को पांच प्रतिशत वार्षिक वृद्धि, लगातार अनुपस्थित रहने वाले स्टाफ नर्स के सेवा समाप्ति, शिवरामपुर, मानिकपुर, पहाड़ी में गर्भवती महिलाओं की स्टेटस फीडिंग, नियमित रूप से न आने वाले कर्मचारियों के संबंध में चर्चा की। उन्होंने गर्भवती महिलाओं का चिन्हांकन, उपचार की स्थिति, गर्भवती महिलाओं के एनीमिया संबंधित प्रशव की स्थिति, कम वजन वाले बच्चों डिलीवरी स्टेट्स, जननी सुरक्षा योजना, फैमिली प्लानिंग, आशा चयन, रोग कल्याण समिति, राष्ट्रीय क्षय रोग उन्मूलन कार्यक्रम, सजन मिशन इंद्रधनुष अभियान, बीसीजी, मीजल्स टीकाकरण, एएनसी रजिस्ट्रेशन, आरसीएच पोर्टल, प्रधानमंत्री सुरक्षित मातृत्व दिवस, मातृ मृत्यु, आशा चयन, आशा भुगतान, रोगी कल्याण समिति, राष्ट्रीय अंधता निवारण कार्यक्रम, राष्ट्रीय कुष्ठ निवारण कार्यक्रम, राष्ट्रीय क्षय रोग नियंत्रण कार्यक्रम, राष्ट्रीय वेक्टर वार्न डिजीज कंट्रोल प्रोग्राम, एचआईवी डाटा, निःशुल्क टेलीमेडिसिन सेवा की प्रगति आदि विभिन्न बिंदुओं की बिंदुवार समीक्षा की। उन्होंने कहा कि स्वास्थ्य विभाग में सरकारी पैसों की बरबादी न हो। सही तरीके से कार्य करें। जिससे सुधार हो सके। उन्होंने मुख्य चिकित्सा अधिकारी को निर्देशित किया कि फील्ड में जाकर कार्य कराएं। जहां वजन मशीन नहीं है वहां भेजे। उन्होंने कहा कि रानीपुर, सकरौहा में स्टीप्स, ऐडवेन्डाजाल, फॉलिक एसिड की गोलियां आदि अच्छी स्थिति में है। कहा कि इच्छाशक्ति की कमी है। जिससे लक्ष्य प्राप्त नहीं कर पा रहे हैं। उन्होंने कहा कि वीएचएसएनडी में सारी सुविधाएं हैं कि नहीं एक सिस्टम बनाएं और कार्य करेंगे तो लक्ष्य प्राप्त कर पाएंगे। जिससे पता चल पाएगा कि कहां पर कमी है कहां नहीं। उन्होंने यह भी कहा कि जरूरत के अभाव में किसी की हानि हो सकती है। कार्यदाई संस्थाएं समय से कार्य पूरा करे। जिलाधिकारी ने मुख्य चिकित्सा अधिकारी डा. भूपेश द्विवेदी को निर्देश दिए कि जिन प्राथमिक व सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्रों पर स्वास्थ्य विभाग के बिंदुओं में कमी है उनकी समीक्षा कर प्रगति बढ़ाई जाए। नीति आयोग के मुख्य बिंदुओं को अवश्य निर्धारित रहें। ताकि जनपद की रैंकिंग कम न हो। बैठक में जिला कार्यक्रम अधिकारी बाल विकास मनोज कुमार सहित संबंधित अधिकारी व प्रभारी चिकित्सा अधिकारी मौजूद रहे।


No comments:

Post a Comment

Post Bottom Ad

Pages