होलिका दहन 17 मार्च को रंगों की होली 18 मार्च को . - Amja Bharat

Amja Bharat

All Media and Journalist Association

Breaking

Monday, March 14, 2022

होलिका दहन 17 मार्च को रंगों की होली 18 मार्च को .

होली वसंत ऋतु में फाल्गुन पूर्णिमा के दिन मनाया जाने वाला एक महत्वपूर्ण त्योहार है। वस्तुतः यह रंगों का त्योहार है। यह पर्व पारंपरिक रूप से दो दिन मनाया जाता है। पूर्णिमा तिथि को  होलिका दहन किया जाता है उसके दूसरे दिन प्रतिपदा को  रंग खेला जाता है। फाल्गुन मास में मनाए जाने के कारण होली को फाल्गुनी भी कहते हैं। होली का त्योहार भी बुराई पर अच्छाई के प्रतीक के रूप में मनाया जाता है। पौराणिक मान्यताओं के अनुसार इस दिन हिरण्यकश्यप की बहन होलिका जिसे अग्नि से न जलने का वरदान प्राप्त था वह भगवान विष्णु के परम भक्त प्रह्वाद को लेकर अग्नि में बैठ गई थी लेकिन प्रह्वाद को कुछ भी नही हुआ और स्वंय होलिका ही उस अग्नि में भस्म हो गई होलिका दहन के अगले दिन रंग खेले जाते हैं। जिसे रंगवाली या घुलंडी के नाम से भी जाना जाता है।


भद्रा रहित प्रदोष व्यापिनी पूर्णिमा तिथि, होलिका दहन के लिये उत्तम मानी जाती है। इस वर्ष  पूर्णिमा तिथि 17  मार्च को दिन में 01:29  से प्रारम्भ होकर 18 मार्च को दिन में  12ः47 तक रहेगी। भद्रा 17  मार्च  गुरुवार को दिन में 1:29 से प्रारम्भ होकर रात्रि 01:12  तक रहेगी भद्रा पूँछकाल  रात्रि 09 :06 से रात्रि 10:16 तक एवं  भद्रा मुखकाल रात्रि 10 :16 से रात्रि 12 :13 तक रहेगा। धर्मसिन्धु ग्रन्थ  मान्यता अनुसार  भद्रा मुख में होलिका दहन कदाचित नहीं करना चाहिये यदि भद्रा मध्य रात्रि तक व्याप्त हो तो ऐसी परिस्थिति में भद्रा पूँछ के दौरान होलिका दहन किया जा सकता है। अत : होलिका दहन भद्रा पूंछकाल  में रात्रि 09 : 06  से रात्रि 10 :16 के मध्य या  भद्रा समाप्ति रात्रि 01:13 के बाद कर सकते है रंगों की होली एक दिन बाद 18 मार्च शुक्रवार को खेली जाएगी.  

होलिका के पूजन से  सभी अनिष्टता का नाश, समृद्धि व संतान की उन्नति होती है  होलिका की पूजा करते समय ऊं होलिकायै नम: मंत्र का उच्चारण करे । होलिका के आग में गेंहू, चने की बाली भुनने से शुभता का वरदान मिलता है। होली के दिन होलिका के भस्म का टीका लगाने से सुख-समृद्धि और आयु की वृद्धि होती है।

ज्योतिषाचार्य एस.एस. नागपाल, स्वास्तिक ज्योतिष केन्द्र, अलीगंज लखनऊ 

No comments:

Post a Comment

Post Bottom Ad

Pages