चादर के साथ बसंत पंचमी पर दरगाह में चढ़ाए गए बसंत - Amja Bharat

Amja Bharat

All Media and Journalist Association

Breaking

Saturday, February 5, 2022

चादर के साथ बसंत पंचमी पर दरगाह में चढ़ाए गए बसंत

बांदा, के एस दुबे । हर वर्ष बसंत पंचमी पर होने वाले मिस्कीन शाह वारसी के 103 वें उर्स में दरगाह में चादर के साथ साथ बसंत भी चढ़ाए गए। हिन्दू मुस्लिम एकता की प्रतीक नरैनी रोड स्थित मिस्कीन शाह वारसी की दरगाह के तीन दिवसीय उर्स के तीसरे दिन दरगाह में फातेहा पढ़ने,चादर चढ़ाने, वालों का तांता लगा रहा हिन्दू मुस्लिम सिख ईसाई सभी धर्मों के मानने वाले दरगाह पहुंचे।

उर्स में मौजूद अकीदतमंद

तीन दिन से लगातार जारी इस उर्स में बसंत पंचमी के दिन शनिवार को सबसे ज्यादा लोग पहुंचे दोपहर बाद दरगाह के मुतवल्ली निजामुद्दीन फारूकी वारसी के गूलर नाका के आवास में बसंत की महफ़िल सजी जिसमे कव्वाल पार्टियों ने बसंत पर कलाम सुनाए ’आज  राचो है बसंत निजामुद्दीन घर’  इसके बाद बसंत जुलूस उठाया गया जो अपने निर्धारित रास्तों से होता हुआ मिस्कीन शाह वारसी की दरगाह पहुंचा दरगाह में बसंत पेश किए गए इसके बाद खानकाही कव्वालियों की महफ़िल सजी एक बार फिर कव्वाल पार्टियों ने अपने अपने कलाम सुनाए। कार्यक्रम में एहरामपोश हाजी तग़य्युर शाह वारसी, बेनजीर शाह वारसी, फरीद शाह वारसी, मलामत शाह वारसी, मुनव्वर शाह वारसी, आस्ताना खादिम अजमल शाह वारसी,उर्फ मुन्ना बाबा, सहित हसन फारूकी वारसी, कल्लन वारसी, शमीम वारसी, शब्दर वारसी, राशिद वारसी, फैजान वारसी, ब नईम वारसी, आसिफ वारसी, सादिक वारसी, शरीक वारसी, रामायण वारसी, आदि बहुत से वारसी सिलसिले के मानने वाले मौजूद रहे। 


No comments:

Post a Comment

Post Bottom Ad

Pages