गौशाला संचालन ठप होने से ग्रामीण खफा, किया मतदान बहिष्कार - Amja Bharat

Amja Bharat

All Media and Journalist Association

Breaking

Wednesday, February 23, 2022

गौशाला संचालन ठप होने से ग्रामीण खफा, किया मतदान बहिष्कार

अधिकारियों को आश्वासन पर सात घंटे बाद शुरू हुआ मतदान 

आयुक्त को संबोधित ज्ञापन ग्रामीणों ने मुख्य विकास अधिकारी को सौंपा 

बांदा, के एस दुबे । ग्रामीणों की फरियाद जब नहीं सुनी गई तो ऐन वक्त पर मतदान के दिन ग्रामीणों ने मतदान बहिष्कार की घोषणा कर दी। इस बात की जानकारी होते ही अधिकारियों की हलचल बढ़ गई। सीडीओ समेत अन्य अधिकारी मौके पर पहुंचे। ग्रामीणों का कहना था कि गौशाला का संचालन नहीं किया जा रहा है, इससे उनके खेतों की फसलें सफाचट हो रही हैं। मौके पर पहुंचे मुख्य विकास अधिकारी और अन्य अधिकारियों ने ग्रामीणों को समस्या, तब कहीं जाकर तकरीबन दो बजे मतदान शुरू हो सका। इसके पूर्व ग्रामीणों ने आयुक्त को संबोधित ज्ञापन मुख्य विकास अधिकारी को सौंपा। 

मतदान केंद्र में घूंघट की ओट में वोट डालने पहुंची महिला मतदाता

चौथे चरण में बुधवार को सुबह मतदान शुरू होते ही नरैनी (सुरक्षित) विधान सभा क्षेत्र की मुगौरा ग्राम पंचायत के मजरा दशरथ का पुरवा के नाराज ग्रामीणों ने गौशाला संचालन ठप होने पर मतदान का बहिष्कार कर दिया। दरअसल, ग्रामीणों ने स्थाई गौशाला निर्माण को लेकर पहले ही मतदान का बहिष्कार करने का ऐलान कर दिया था। बुधवार को जब मतदान शुरू हुआ तो गांव से लोग मतदान के लिए नहीं निकले। इसकी सूचना मिलते ही पीठासीन एवं अन्य अधिकारियों में खलबली मच गई। एसडीएम रावेंद्र सिंह भारी फोर्स के साथ भी मौके पर पहुंच गए। उन्होंने ग्रामीणों को मतदान का महत्व समझाते हुए मतदान की अपील की। ग्रामीणों ने प्रधान पर गौशाला संचालन न कराने के आरोप लगाते हुए मतदान से दोटूक इनकार कर दिया। कहा कि गौशाला न होने से अन्ना मवेशी उनकी फसलों को सफाचट कर रहे हैं। इसके पूर्व ग्रामीणों ने सामूहिक रूप से अधिकारियों और ग्राम प्रधान को अर्जी देकर मतदान बहिष्कार की चेतावनी दी थी। लेकिन प्रशासन और प्रधान ने उनकी शिकायत को तवज्जो नहीं दी। खबर पाकर कुछ देर बाद सीडीओ वेद प्रकाश मौर्या गांव पहुंचे और ग्रामीणों को समझाने का प्रयास किया। लेकिन ग्रामीण मतदान को तैयार नहीं हुए। सीडीओ ने भरोसा दिलाया कि ग्राम प्रधान का खाता सीज कराया जाएगा। लेकिन ग्रामीण किसी भी कीमत पर वोट डालने को तैयार नहीं हुए। प्रशासन ने थोड़ा सख्ती बरती तो ग्रामीण और भी आक्रोशित हो गए। बाद में ग्रामीणों ने सामूहिक हस्ताक्षर युक्त मंडलायुक्त को संबोधित ज्ञापन सीडीओ को सौंपा। साथ ही समस्या निदान कराने की मांग की। सीडीओ ने तत्काल अस्थाई गौशाला निर्माण कराने व चुनाव के बाद स्थाई गौशाला बनाने का ग्रामीणों को भरोसा दिलाया। सीडीओ के आश्वासन पर लगभग सात घंटे बाद ग्रामीण मतदान के लिए तैयार हुए। इस संबंध में जिला निर्वाचन अधिकारी अनुराग पटेल ने बताया कि गांव अस्थाई गौशाला बनाई गई थीं, लेकिन अचानक कुछ अराजकतत्वों ने व्यवस्था को गड़बड़ कर दिया। वोटिंग के बाद समस्या का समाधान किया जाएगा। 


No comments:

Post a Comment

Post Bottom Ad

Pages