राजनीति में दिखावा सेवा का है, स्वार्थ सर्वथा : जेपी सिंह - Amja Bharat

Amja Bharat

All Media and Journalist Association

Breaking

Wednesday, February 23, 2022

राजनीति में दिखावा सेवा का है, स्वार्थ सर्वथा : जेपी सिंह

श्रीराम वनमार्ग यात्रा का रामेश्वर में होगा समापन

चित्रकूट, सुखेन्द्र अग्रहरि। सेना की नौकरी के बाद रेलवे अधिकारी के रूप में काम कर रिटायर्ड हुए कैप्टन जेपी सिंह का देशप्रेम व समाजसेवा का भाव ऐसा है कि आज भी वह देश को एक भाव में बांधने के काम में व्यस्त हैं। श्रीराम वनमार्ग भारत एक यात्रा का उददेश्य लेकर अयोध्या से शुरु यात्रा चित्रकूट पहुंची और इसका विराम रामेश्वर में होगा। चित्रकूट प्रवास के दौरान उन्होंने देश के वर्तमान हालात पर अपनी चिंता जाहिर की। उनका मानना है कि आज की राजनीति में दिखावा सेवा का है लेकिन स्वार्थ सर्वथा है। बड़े पदों पर बैठे राजनैतिज्ञ नैतिकता की दुहाई देकर वही काम अपने ऊपर अमल नहीं करते। धर्म का राजनीति में दुरुप्रयोग को लेकर वह व्यथित दिखे।

सेवानिवृत्त कैप्टन जेपी सिंह।

श्रीराम वनमार्ग यात्रा में चित्रकूट के राजापुर स्थित मानस मंदिर और गोस्वामी तुलसीदास की हस्तलिखित रामचरित मानस के दर्शन कर महर्षि वाल्मिकि आश्रम पहुंचे। चित्रकूट दर्शन के बाद जिला मुख्यालय में पत्रकारों से वार्ता में कहा कि आज की राजनीति में धर्म का सही रूप में प्रयोग न होकर सत्ता लोलुपतावश हो रहा है। श्रीरामवनगमन मार्ग की कार्य स्थिति फिलहाल उन्हें तो समझ में नहीं आई। संपूर्ण जगत को एकसूत्र में बांधने वाले भगवान श्रीराम की ही संस्कृति से जगकल्याण है। रामायण ही हमारे देश का संविधान है। राम जैसा ही सबको होने का प्रयास करना चाहिए उन्होंने कर्म को ही धर्म समझा और धर्म का दुरूप्रयोग नहीं किया। आज की राजनीति में जो हो रहा है वह दुर्भाग्यपूर्ण है इसमें बदलाव होना ही चाहिए। इसके लिए कुछ समय लग सकता है लेकिन इसका रास्ता खुद ब खुद बन जाएगा। 

चित्रकूट से सतना के सारंगपुर आश्रम होते हुए मैहर जबलपुर व नागपुर से होते हएु रामेश्वर की ओर कुल लगभग नौ हजार किमी की यात्रा के लिए रवाना हुए। गौरतलब है कि पटना बिहार निवासी जेपी सिंह ने अपनी प्रतिभा के दम पर भारतीय सेना, प्रशासनिक सेवा व न्यायपालिका के उच्च पदों पर चालिस साल तक काम किया। उन्हें रेल विभाग में यात्री सुविधा व विभागीय आय बढ़ाने में अच्छा योगदान दिया। जिससे उन्हें रेलवे के सर्वोच्च पुरस्कार नेशनल अवार्ड फॉर एक्सीलेंस इन वर्क मिल चुका है।


No comments:

Post a Comment

Post Bottom Ad

Pages