कभी वापस नहीं आता तीर कमान से, प्राण शरीर से बात जवान से और समय...................... - Amja Bharat

Amja Bharat

All Media and Journalist Association

Breaking

Wednesday, February 2, 2022

कभी वापस नहीं आता तीर कमान से, प्राण शरीर से बात जवान से और समय......................

देवेश प्रताप सिंह राठौर (दीपू)

समय का महत्व जीवन में बहुत हैं तीन चीजें कभी वापस नहीं आती प्राण शरीर से, तीर कमान से और बात जबान से,हमे समय के बारे मे जानकारी है फिर भी हम समय की गुणवत्ता और अनुभव और किए गए कर्म व्यवहार को सब भूल जाते हैं समय सब समायोजित है।तो हमे समय के महत्व के बारे मे सभी को जागरूक करना चाहिए। जब हम विद्यार्थी जीवन मे अपने इस अनमोल समय के बारे मे जान लेते है। तो हम अपने समय का सुदुपयोग कर अपने जीवन मे सफलता प्राप्त कर सकते है। समय के महत्व को जानने वाला व्यक्ति कभी भी अपने कार्य को नहीं टालता है।अपना कार्य समय पर करता है। किसी ने लिखा है। ''कल करे सो आज कर आज करे सो अब पल में प्रलय होगीबहुरि करेगा कब''  “इसमे लेखक कार्य को समय पर करने के बारे मे समझने का प्रयास कर रहे है। महान व्यक्ति जन्म से ही महान नहीं थे। उन्होने समय के महत्व को समय रहते समझा और कर समय का सही उपयोग किया। इसलिए उन्हे सफलता मिली। यदि हम भी समय का महत्व जानकार कार्य को करते है। तो हम भी सफल जरूर हो

जो लोग अपने समय का सही समय पर उपयोग नहीं कर पाये। अपने दोस्तो के साथ हंसी-मज़ाक ही अपना कार्य मानकर चलने वाले लोगो को जब सफलता नहीं मिलती हाई तो   फिर पछताते है। परंतु अब पछताने से क्या फायदा अपना समय व्यर्थ न करके फिर मेहनत करें। कवि की यही मांग है। कि समय रहते व्यक्ति को सचेत होकर मेहनत करनी चाहिए। पछताने से अपना समय तथा हौसला व्यर्थ होता है। इसलिए पछताने मे कोई फायदा नहीं है। हमे अपने जीवन मे समय को सबसे ज्यादा महत्व देकर समय का सही उपयोग करना चाहिए। समय भगवान द्वारा दिया गया एक अनमोल उपहार है। इसका हमे सुदुपयोग करना चाहिए।समय रहते सचेत होकर सत्य की राह पर चलकर अपनी मेहनत करनी चाहिए। जिससे हम अपने जीवन मे सफल हो सकें। हमे औरों को भी समय के महत्व के बारे मे जानकारी देनी चाहिए।आज के युग में समय सबसे बलवान माना जाता है, ये बलवान से साथ-साथ अमूल्य भी होता है पर ये बहुत कीमती होता हैजिसके पास समय होता है उसके पास दुनिया की सबसे बड़ी ताकत होती है. पर समय जो हैवो अपने नियमो पर चलता है


ये न किसी के लिए वापस आता है ओर न ही किसी का इंतजार करता हैइस संसार में उसकी वेल्यु होती है जो अपने पथ से विचलित नहीं होता हैजैसे समय है समय कभी-भी किसी का भी इंतजार नहीं करता वह अपने धुन में मस्त रहता हैतो उसे सबसे ज्यादा वेल्यु दी जाती है. इसलिए हमें समय से ये भी सीखना चाहिए। इस संसार में समय से बढ़कर कुछ भी नहीं है हर कार्य समय के अनुसार ही होता है समय ही है,जिसका सदुपयोग कर हम अपने जीवन को संवार सकते है, अपने जीवन में प्रगति कर सकते है. समय वो धन होता है. जिस पर किसी का अधिकार नहीं होता है ये जाने के बाद कभी लौटकर नहीं आती हैसमय न अपनी दिशा बदलता है. ओर न ही अपना दौर ये अपने हिसाब से ही चलता है,ये निरंतर चलता है. तथा लोगो को अपनी तरह बनने की सलाह देता है. जो समय का अनुसरण करता है वह इस संसार का मालिक बन जाता है अपने जीवन में सफलता पाता है।पर जो समय का अनुसरण नहीं करता है, इसका महत्व नहीं समझता है इसे वेल्यु नहीं देता है,समय उसका बहुत बुरा हाल करता है उसे जीवन भर कठोर मेहनत करवाता है, हर समय भार का बोझ रहता हैफिर वह भी पछताता हैकि यदि उस दिन समय के अनुसार चलते निरंतर मेहनत करते तो आज इस दिन को नहीं देखना पड़तापर जो हो गया सो हो गया,इसलिए तो कहते है।

समय लौटकर वापस नहीं आता है, अब वह चाहकर भी मेहनत करके अपने जीवन में सफल नहीं हो सकता है,क्योकि जो समय था. मेहनत करने का वह उसे खो चूका है,जीवन में कुछ करने के लिए समय हमें एकमात्र मौका देता है. यदि हम इस मौके का फायदा नहीं उठा सकें,तो फिर समय हमें अपने जीवन में ये मौका दुबारा नहीं देता है. इसलिए हमेशा सतर्क रहे।

जो भी मौका मिले उसका पूरा फायदा उठाए,तथा अपने इस बचपन के जीवन में खेल तथा इन्टरनेट से ज्यादा पढाई पर ध्यान केन्द्रित करें.अपनी जिंदगी में समय हमें सभी अवसर देता है,ये नहीं है,कि समय केवल हमें मेहनत करने का अवसर देता है। बल्कि ये हमें परस्थिति के अनुसार मौका देता है पर जो मौके को पहले पाना चाहते है.वे दोनों तरफ से रह जाते है न वे अपने मौके तक पहुँच पाते है. और न समय के अवसर को पूरा कर पाते है समय सभी पर समान भाव प्रकट करता है,ये न किसी का भला करता है,ओर न ही बुरा ये तो बस किये कराये काम पर फैसला लेने वाला होता है.मय को हम बोर्ड परीक्षा की कोपी चेक करने वाला मान सकते है।जो हमें न तो सिखाता है ओर न ही किसी पर दया भाव दिखाता है ये किसी को नहीं पहचानता है ये सिर्फ कार्य को पहचानता हैइस जिंदगी में एक बात हमेशा याद रखना कि इस दुनिया में लोग नाम को नहीं काम को पहचानते है।यदि आप अपने नाम पर घमंडित है. तो आप अपने इस घमंड को दूर कर लें. क्योकि पूजा काम की होती है नाम कि नहीं, पाने के लिए हर कार्य को समय पर करना चाहिए. अपनी दिनचर्या का चार्ट बनाकर भी आप ये कार्य कर सकते है,पर आपको अपने काम करने का अलग-अलग समय होना चाहिएजैसे शाम के 1 घंटे खेलना सुबह व्यायाम करना,स्नान करना,अखबार पढ़ना तथा खाना खाना सभी नियम तथा टाइम टेबल के हिसाब से होने चाहिए,जो भी कार्य समय पर किया जाता है वह हमेशा सुभ होता है इसके लिए हमें कल का इंतजार नहीं करना चाहिए।

कई लोग ऐसे होते है. जो कहते है.छोडो इसे कल करेंगेपर उन लोगो का कल कभी आता ही नहीं है और इस प्रकार वे अपने जीवन में पिछड़ जाते है अपनी अमूल्य समय की बर्बादी कर देते हैकल कभी आता नहीं ओर आज कभी जाता नहीं'' इसलिए अपने कार्यो को समय पर करें तथा कल करेंगे इस बीमारी को दूर करेंहमेशा समय पर कार्य करें.समय को जीवन में महत्व दो समय भी एक दिन हमें महत्व देगाअपने कार्यो को टालो मत करते रहो।

हमारे जीवन में धन से भी समय अधिक मूल्यवान हैं क्योंकि धन समय से कमाया जा सकता है लेकिन समय को ध्यान से नहीं कमाया जा सकता है हमारी जीवन के सभी कार्यों को सुव्यवस्थित रुप से करने एवं हमारे द्वारा धन को कमाने मैं समय की जरूरत होती है,पृथ्वी पर हम किसी भी वस्तु की समय के साथ तुलना नहीं कर सकते समय का सदुपयोग कर हम जीवन में उन्नति कर सकते हैं। समय एक ऐसी वस्तु है जिसकी ना तो शुरुआत होती है

और ना ही अंत यह सृष्टि के विकास से पूर्व शुरू हुआ है और अभी तक चल रहा है समय के साथ साथ हम अपने जीवन में विकास करते हैं हमारे जीवन में हमें अमूल्य समय मिलता है लेकिन यह समय बहुत ही मूल्यवान होता है। समय किसी का इंतजार नहीं करता है, मैं प्रतिदिन उस समय को याद करता हूं जो समय बचपन से लेकर जवानी अब बुढ़ापे की तरफ अग्रसर पर जो याद समय करते हैं वास्तव में मन विचलित हो जाता है। बहन भाई की लड़ाई मम्मी पापा की मार भाई बहन का प्यार मम्मी पापा का दुलार सब आंखों के सामने चलने लगता है क्योंकि आज हमारे पास मां बाप का साया हमारे ऊपर नहीं है। लेकिन उनकी जो यादें है लेकिन जो उनका संस्कार है वह हमेशा हमें याद दिलाता है हर पल याद दिलाता है कि हम क्या क्या पाया और क्या-क्या खोया है पिछली तो हो जाता हूं तो हमारे जो मित्र हैं उनसे मैं अपनी बातों को शेयर करता हूं तो उनका कहना होता है यही जीवन है कल हम बेटे थे हमारे भी बाप थे आज हमारे बाप नहीं है और आज हम बाप बन गए हैं यह क्रियाएं प्रतिक्रियाएं चलती रहती हैं। लेकिन इंसान को इंसानियत कभी भूल नहीं चाहिए हमेशा पति को याद करो वह वर्तमान को सुधार के चलो इंसान को इंसान समझो समय पर समय का ध्यान दो आप कभी दिक्कत नहीं उठा पाएंगे, जो लोग समय को भूल कर अहंकार में पद या धन या बल या गुंडागर्दी से लोगों को परेशान करते हैं वह अपने समय को भूल बैठे हैं समय गतिमान है किस समय पासा पलट जाए भाड़ में सारी विरासत को मिट्टी में मिला देता है। इसी को समय कहते हैं।

No comments:

Post a Comment

Post Bottom Ad

Pages