भगवान की भक्ति से दूर होता है अहंकार : आचार्य - Amja Bharat

Amja Bharat

All Media and Journalist Association

Breaking

Tuesday, February 1, 2022

भगवान की भक्ति से दूर होता है अहंकार : आचार्य

अतर्रा, के एस दुबे  । जिसने ने भी अहंकार किया उसका समूल विनाश हुआ है चाहे अहंकारी राजा हो या बलवान गज वही जिसने  अहंकार को छोड़  भगवान की शरण में गया उसको निश्चित रूप से मोक्ष की प्राप्ति हुई।

नगर के लेखपाल कॉलोनी निवासी इंद्र भवन गौतम के आवास में आयोजित श्रीमद् भागवत पुराण कथा में कथा व्यास आचार्य रामेश्वर नारायण ने उद्गार व्यक्त करते हुए कहा कि जिसने भी अहंकार किया है उकसा विनाश निश्चित रूप से हुआ है। इससे पराक्रमी रावण और बलशाली कंस सहित अनेक राजा हो या शक्तिशाली पुरुष कोई भी नहीं बच पाए। वही जो भी भगवान की शरण में गया अथवा भक्ति में लीन हुआ निश्चित रूप से उसको सुख समृद्धि के साथ मोक्ष की प्राप्ति हुई है जैसे भक्त सुतीक्षण भगवान की भक्ति में लीन हुए वहीं मीरा भगवान की

कथा सुनाते आचार्य रामेश्वर नारायण 

दीवानगी हुई तथा शबरी भी भगवान के प्रति आस्थावान हुई जिन्हें निश्चित रूप से भगवान ने अपने दर्शन देकर उनको बैकुंठ की प्राप्ति दी है ।प्रसंग के दौरान कथा व्यास ने बताया कि गज को भी अपने बल का अहंकार  हुआ तो उसे ग्रास के रूप में किया लेकिन जब हंकार से दूर हुआ और भगवान के प्रति शरणागत हुआ तो भगवान ने उसकी मदद कर उसे ग्राह से बचा लिया। कथा के दौरान यजमान इंद्रभवन गौतम उनकी पत्नी सावित्री गौतम के अलावा भागवत कथा के आयोजक सुनील कुमार गौतम, विमल कुमार गौतम पूर्व प्रधान, अजय कुमार गौतम, अरविंद पाण्डेय, लखन मिश्र, अर्जुन मिश्र पूर्व अध्यक्ष छात्र संघ, नीरज शर्मा, विनय मिश्र सहित सैकड़ों सोता उपस्थित रहे। 


No comments:

Post a Comment

Post Bottom Ad

Pages