बार संघ चुनाव में जबरदस्त वोटिंग, 89.5 फीसदी हुआ - Amja Bharat

Amja Bharat

All Media and Journalist Association

Breaking

Tuesday, February 8, 2022

बार संघ चुनाव में जबरदस्त वोटिंग, 89.5 फीसदी हुआ

पूरा दिन संघ के चुनाव की रही गहमागहमी

बांदा, के एस दुबे । जिला अधिवक्ता संघ के चुनाव में मंगलवार को कड़ी सुरक्षा व्यवस्था और बेहतर इंतजामात के बीच मतदान कराया गया। अधिवक्ताओं ने बंपर वोटिंग की। 89.5 फीसदी वोट पड़े। जबकि 10.5 फीसद अधिवक्ताओं ने मतदान से किनारा कर लिया। निर्धारित समय पर सुबह 10 बजे से बनाए गए 12 बूथों पर मतदान का सिलसिला शुरू हुआ। शाम चार बजे तक 1180 अधिवक्ताओं ने अपने मताधिकार का प्रयोग किया। इधर, शाम पांच बजे से अधिवक्ता संघ सभागार में मतों की गिनती का सिलसिला शुरू हो गया। 

मतदान करते अधिवक्ता

निर्धारित समय पर इल्डर्स कमेटी अध्यक्ष मिर्जा यावर हुसैन की देखरेख में मतदान की प्रक्रिया शुरू हुई। सबसे ज्यादा अध्यक्ष, महासचिव, वरिष्ठ उपाध्यक्ष, कोषाध्यक्ष पद पर प्रत्याशियों के बीच कांटे की टक्कर रही। 10 बजे से मतदान प्रक्रिया शुरू हो गई लेकिन दोपहर तक मतदान बेहद धीमी गति से चला। अधिवक्ता यह टोह लेते रहे कि किस प्रत्याशी के पक्ष में अधिक माहौल बन रहा है। वरिष्ठ अधिवक्ता गठजोड़ के तहत अपने-अपने प्रत्याशी को जिताने की मुहिम में लगे रहे। बस्तों की बजाय ज्यादातर वकील मतदान केंद्रों के आसपास ही देखे गए। मतदाता सूची में पंजीकृत 1318 अधिवक्ताओं में 1180 ने वोट डाले। इनमें पोस्टल बैलेट 31 के वोट भी शामिल हैं। अध्यक्ष और महासचिव पद के लिए क्रमशरू त्रिकोणीय और चतुकोष्णीय मुकाबला रहा। अन्य पदों में वरिष्ठ उपाध्यक्ष, कोषाध्यक्ष, संयुक्त सचिव व वरिष्ठ व कनिष्ठ सदस्य के पदों के लिए मतदान कराया गया। इल्डर्स कमेटी ने मतदान के लिए 12 बूथ बनाए थे। जिनमें दो-दो कर्मचारियों को लगाया गया था। शाम चार बजे तक मतदान चला। इसके बाद मत पेटिकाएं सील कर दी गई। एक घंटे का ब्रेक पूरा होने के बाद निर्धारित समय शाम पांच बजे से अधिवक्ता संघ भवन हाल में मतगणना शुरू हुई। प्रत्याशियों की मौजूदगी में मतपेटिका खुली। पहले से निर्धारित दो टेबिलों में मतगणना चली। मतगणना शुरू होते ही अधिवक्ता संघ भवन के बाहर समर्थकों की भीड़ जुट गई। समर्थक अंदर की जानकारी लेने को परेशान रहे। पल-पल की जानकारी के लिए प्रयास चलता रहा। कौन प्रत्याशी किस पद पर आगे चल रहा या पीछे, इसको लेकर भी चर्चाओं का दौर चला। इधर, बिना किसी विवाद के अधिवक्ता संघ का मतदान शांतिपूर्ण सम्पन्न हो गया। किसी भी आशंका को लेकर प्रशासन ने भारी पुलिस बल व आधा सेक्शन पीएसी तैनात कर दी थी। वरिष्ठ अधिवक्ताओं ने जब कचहरी में फोर्स देखी तो वह अधिकारियों से यह कहने में नहीं चूके कि सबकुछ शांति पूर्ण हो रहा है। ऐसे में इतनी फोर्स लगाने की जरूरत नहीं है। बाद में पीएसी हटा ली गई है। मतगणना के समय पुनरू सुरक्षा व्यवस्था कड़ी कर दी गई। जिला अधिवक्ता संघ के चुनाव में जहां सबसे महत्वपूर्ण अध्यक्ष व महामंत्री पदों के लिए खासा घमासान देखने को मिला, वहीं कोषाध्यक्ष व अन्य पदों पर भी समर्थकों के बीच कयासों का दौर चलता रहा। वैसे अध्यक्ष पद पर राजेश कुमार दुबे ‘गुड्डा’, बृजमोहन सिंह, रामलखन राजपूत अपनी किस्मत आजमा रहे हैं। वहीं महासचिव पद के लिए ओमप्रकाश सिंह, राकेशसिंह, शिवविलास सोनी, गोविंद त्रिपाठी और प्रदीप निगम लाला चुनाव मैदान में हैं। लेकिन मतदान के बाद शुरू हुई मतगणना के दौरान अध्यक्ष पद पर त्रिकोणीय और महामंत्री पद पर सभी प्रत्याशियों के बीच कांटे का मुकाबला रहा। हालांकि चुनाव की असली तस्वीर देर रात मतगणना समाप्त होने के बाद ही सामने आ सकेगी।


No comments:

Post a Comment

Post Bottom Ad

Pages