अपना दल की अनुप्रिया ने बबेरु विधानसभा में ठोका दावा - Amja Bharat

Amja Bharat

All Media and Journalist Association

Breaking

Friday, January 21, 2022

अपना दल की अनुप्रिया ने बबेरु विधानसभा में ठोका दावा

केंद्रीय गृहमंत्री से मिलकर बताया जातिगत गुणा गणित

बाँदा, के एस दुबे :-  भाजपा एक तरफ नमो लहर के सहारे  भारी जीत का दावा कर रही है, वहीं जातीय आधार पर वोटों के गुणा-गणित में भी जुटी हुई है। साथ ही मुस्लिम मतों में भी सेंधमारी की जोरदार कवायद की जा रही है। जातिगत समीकरण साधने के लिए पार्टी ने रणनीति के तहत हर जाति के स्थानीय और बाहरी चेहरों को चुनावी कुरुक्षेत्र में उतार रखा है। वही युवा नेता अरुण कुमार पटेल (विधानसभा अध्यक्ष- अपना दल एस ) का कहना है कि बाँदा और आसपास की सीटों पर पिछले तीन दशक से हर चुनाव में जातीय समीकरण हावी रहते हैं। इसके आगे विकास और बेहतरी के दावे भी असर नहीं कर पाते। इसलिए भाजपा का पूरा ध्यान इस ओर भी है कि सभी जातियों के मतदाताओं को अपने पक्ष में किया जाए। जैसे-जैसे मतदान की तिथि करीब आती जा रही है, सोशल इंजीनियरिंग पर पूरा फोकस किया जा रहा है।

इसी रणनीति के तहत पार्टी ने अपना दल एस के साथ गठबंधन किया है ताकि पटेल मतदाताओं को जोड़ा जा सके। इसके लिए अपना दल एस पार्टी की ओर बबेरु विधानसभा सीट से लड़ने का दावा किया जा रहा है । इसके चलते यहां से टिकट की दावेदारी भी अपना दल एस पदाधिकारी कर रहे है  ताकि ,कुर्मी मतदाताओं को रिझाया जा सके , इनका पूरा ध्यान हर विधानसभा के गांवों में रहने वाले कुर्मी मतदाताओं पर है। कुर्मी  समाज के लोगों को पक्ष में करने के लिए पार्टी के प्रदेश के नेताओं को विधानसभा में लोगों से जनसंपर्क के लिए लगाया गया है ।
वहीं, मतदाताओं को लुभाने के लिए प्रधानमंत्री  नरेंद्र मोदी की फोटो को होर्डिंग्स में आगे रखा ,इसके अलावा स्थानीय चेहरों को भी पार्टी ने सामने कर रखा है। वैश्य मतदाताओं के लिए तो कई नामों की लंबी-चौड़ी फेहरिस्त है जो अपनी जाति के मतदाताओं से मेलजोल बढ़ा रहे हैं। इनके साथ ही यादव, दलित,कुशवाहा ,ब्राह्मण समेत अन्य जातियों के लिए भी पार्टी ने पूरी तैयारी कर रखी है। मुस्लिम मतदाताओं में पैठ बनाने के लिए लगातार प्रयास किए जा रहे हैं। अल्पसंख्यक मोर्चा के विभिन्न मंचो के प्रदेश के नेताओं को मुस्लिम बस्तियों में लगाया गया। वहीं, बबेरू विधानसभा में अनुसूचित जाति,  यादव व पटेल बिरादरी के सर्वाधिक मतदाता है। जिसमें लगभग 45000 कुर्मी ,अनुसूचित जाति 70000, और यादव बिरादरी का लगभग 53000 के साथ-साथ ब्राह्मण लगभग 15000 व 20000 कुशवाहा  मतदाता शामिल है। जिसमें भाजपा से वर्तमान विधायक चंद्रपाल कुशवाहा वही समाजवादी पार्टी से पूर्व में  विधायक विशंभर सिंह यादव रहे है। इस विधानसभा में कुर्मी मतदाता निर्णायक  भूमिका में रहते हैं , अगर इस बार एनडीए गठबंधन से  अपना दल एस से कोई प्रत्याशी बनाया गया तो जीत आसानी से हो सकती है ,क्योकि वर्तमान भाजपा विधायक की स्थिति सहित जमीनी स्तर में पार्टी की छवि  ठीक नही है ,अगर एनडीए गठबंधन के घटक दल अपना दल एस  पार्टी के प्रत्याशी पर दांव लगाती है, तो बबेरू विधानसभा में गठबंधन की जीत पक्की हो सकती हैं। क्योकि लगभग 45000 हजार मतदाता पटेल बिरादरी,व 15000 ब्राम्हण, 20000 कुशवाहा मतदाता सहित कुछ अन्य विरादरी के वोट गठबंधन में  मिल सकता हैं। क्योकि  इस बार बबेरू विधानसभा की जनता बदलाव चाहती है। बबेरू विधानसभा में अलग-अलग चर्चाएं हो रही हैं,  अब देखना यह होगा की एनडीए गठबंधन के घटक दल अपना दल एस  पार्टी के प्रत्याशी दांव लगाती है, या तो फिर भाजपा अपने प्रत्याशी पर दांव लगाएगी।।

No comments:

Post a Comment

Post Bottom Ad

Pages