ठंड से बचने के लिए लकड़ियां बन रही सहारा - Amja Bharat

Amja Bharat

All Media and Journalist Association

Breaking

Sunday, January 2, 2022

ठंड से बचने के लिए लकड़ियां बन रही सहारा

फतेहपुर, शमशाद खान । ठंड के तेवर में किसी तरह की कोई राहत नजर नहीं आ रही है। जनवरी माह की शुरुआत के साथ ही सर्दियों का रुख भी और सर्द होना तय है। ऐसे में ठंड से बचाव के लिए आम आदमी जहां घरों में दुबकर रजाई, कंबल व हीटर का सहारा ले रहा है वहीं रोजमर्रा की जरूरत लिए निकलने वालों के सामने ठंड किसी चुनौती से कम नहीं है। ठंड के प्रकोप का सबसे अधिक गरीब व मजदूर तबके को सामना करना पड़ रहा है। जिसके लिए दिन तो किसी तरह कट जाता है लेकिन रात काटना किसी पहाड़ के बराबर है। आम लोगों के लिए गर्म कपड़े खरीदना भी आसान नहीं। ठंड से बचने के लिए लकड़ियां ही सहारा बन रही है। 

लकड़ी का बोझ लेकर जाती महिला।

ठंड के मौसम में बाजार में लड़कियों के दाम बढ़ने से कमजोर वर्ग के लोगों के लिए लकड़ियां खरीदना भी आसान नहीं रह गया। ऐसे में ठंड से बचाव के लिए घरों की महिलाएं व छोटे बच्चे आस-पड़ोस के जंगलों से सूखी लकड़ियां एकत्र करते हैं। जिसे जलाकर परिवार सर्दियों से राहत तलाशता है। दिसंबर माह में पहाड़ी इलाकों में हुई बर्फबारी ने मैदानी इलाकों में गलन में इजाफा कर दिया जो जनवरी माह के प्रथम सप्ताह में अपने पूरे शबाब पर है। दिन में धूप खिलने के बाद भी शाम होते होते गलन बढ़ने से आम जनमानस को जनवरी माह में भी ठंड से किसी तरह की कोई राहत की उम्मीद नहीं दिखाई दे रही। वहीं मौसम विभाग की माने तो जनवरी माह में ठंड में बढ़ोत्तरी जारी रहेगी। मौसम की मार के आगे इंसान व जानवर सभी बेहाल है। अमीर वर्ग जहां घरों के अंदर गर्म कंबलों व हीटरों के बीच ठंड से बचाव कर रहे हैं। वहीं सड़कों के किनारे गुजर बसर करने वाला आम इंसान सर्दी से बचने के लिए पन्नियों के सहारे बने झोपड़े में पुराने कंबलों एवं लकड़ियों को जलाकर किसी तरह रात पार करने की जद्दोजहद करता हुआ दिखाई दे रहा है।


No comments:

Post a Comment

Post Bottom Ad

Pages