आज मनेगा तीसरा विश्व एनटीडी दिवस - Amja Bharat

Amja Bharat

All Media and Journalist Association

Breaking

Saturday, January 29, 2022

आज मनेगा तीसरा विश्व एनटीडी दिवस

ट्रापिकल डिजीजेज उन्मूलन के प्रति विश्व की प्रतिबद्धता को दर्शाता है दिवस

चित्रकूट, सुखेन्द्र अग्रहरि। प्रत्येक वर्ष 30 जनवरी को पूरे विश्व में एनटीडी दिवस मनाया जाता है। इस दिन को मनाने का अभिप्राय यह है कि विश्व के सारे लोग एनटीडी नेग्लेक्टेड ट्रॉपिकल डिजीजेज के उन्मूलन के प्रति पूरी प्रतिबद्धता से जनांदोलन के रूप में कार्य करें। एनटीडी दिवस, वर्ष 2012 में लंदन की ऐतिहासिक घोषणा की वर्षगांठ को चिह्नित करता है जो कि एनटीडी पर अधिक निवेश और कार्रवाई के लिए और अधिक सक्रिय रूप से कार्य करने के लिए क्षेत्रों, देशों और समुदायों की भागीदारों को एकीकृत करता है। वर्ष 2020 में विश्व को इन बीमारियों से सुरक्षित रखने के लिए पहली बार विश्व एनटीडी दिवस मनाया गया था।

सीएमओ डा भूपेश द्विवेदी।

एनटीडी जीवन को प्रतिकूल रूप से प्रभावित करने वाले रोगों का एक समूह है जो अधिकतर सबसे गरीब, सबसे कमजोर आबादी को प्रभावित करता है। एनटीडी में लिम्फैटिक फाइलेरिया हाथीपांव, विसेरल लीशमैनियासिस कालाजार, लेप्रोसी कुष्ठ रोग, डेंगू, चिकुनगुनिया, सर्प दंश, रेबीज जैसे रोग शामिल होते हैं। जिनकी रोकथाम संभव है। मगर फिर भी पूरी दुनिया में हर साल बहुत सारे लोग इन रोगों से प्रभावित हो जाते हैं। भारत में भी हर साल हजारों लोग एनटीडी रोगों से संक्रमित हो जाने के कारण जीवन भर असहनीय पीड़ा सहते हैं और विकलांग भी हो जाते हैं। जिसके कारण वे अपनी आजीविका कमाने में भी अक्षम भी हो जाते हैं और उनकी आर्थिक स्थिति अत्यंत दयनीय हो जाती है। विश्व स्वास्थ्य संगठन के आंकड़ों के अनुसार विश्व में हर पांच में से एक व्यक्ति एनटीडी से ग्रसित हैं। यह गंभीर रोग हैं जो हर जगह, हर किसी की शिक्षा, पोषण और आर्थिक विकास पर विपरीत प्रभाव डालते हैं। इनके उन्मूलन के कार्यक्रमों को प्राथमिकता देने से आर्थिक विकास, समृद्धि एवं लैंगिक समानता को भी बढ़ावा मिलेगा। विश्व में लगभग 1.7 अरब लोगों को प्रभावित करने वाली ये बीमारियां हर साल होने वाली हजारों मौतों का कारक भी हैं। जिनको रोका जा सकता था। भारत दुनिया भर में प्रत्येक प्रमुख एनटीडी से ग्रस्त जनसंख्या के दृष्टिकोण से पहले स्थान पर है। उन्होंने कहा कि अंतर विभागीय समन्वय बनाकर और बेहतर स्वास्थ्य सेवाओ की दूरदराज इलाकों तक पहुंच सुनिश्चित कर राज्य को एनटीडी से पूर्ण रूप से मुक्त करने के हर संभव प्रयास किये जा रहें हैं।

मुख्य चिकित्सा अधिकारी डा. भूपेश द्विवेदी ने बताया कि एनटीडी रोगों को नेग्लेक्टेड यानि उपेक्षित समझा जाता है। मगर अब इन पर स्पॉटलाइट लाने का समय है ताकि इन मुद्दों पर और अधिक ध्यान ध्यान दिया जाए। इस सम्बन्ध में मिशन मोड पर कार्रवाई की जा रही है। विश्व एनटीडी दिवस के अवसर पर एनटीडी के पूर्ण उन्मूलन के लिए सामुदायिक सहभागिता से कार्य किया जाये ताकि एक स्वस्थ समाज और देश का निर्माण हो सके। फाइलेरिया प्रोग्राम के नोडल अपर मुख्य चिकित्सा अधिकारी डा. संतोष कुमार ने बताया कि जिले में फाइलेरिया के कुल 445 मामले हैं। उन्होंने बताया कि पैर के 227, हाथ के 20, हाइड्रोसील के 177, स्तन के 10 और अन्य 11 सहित कुल 445 मामले हैं।


No comments:

Post a Comment

Post Bottom Ad

Pages