बब्बर शेर हमारा सुभाष था.......... - Amja Bharat

Amja Bharat

All Media and Journalist Association

Breaking

Sunday, January 23, 2022

बब्बर शेर हमारा सुभाष था..........

देवेश प्रताप सिंह राठौर...............     

सुभाष नहीं वो शेर था, अंग्रेजों का काल था, चापलूसो का हाल बेहाल था, बब्बर शेर हमारा सुभाष था। और उसका एक हीी नारा  था तुम मुझे खून दो मैं तुम्हें आजादी दूंगा यह नारा देने वाला भारत का वीर सपूत सुभाष चंद्र बोस का जन्म 23 जनवरी 1897 को हुआ था, देश की आजादी के मुख्य कर्ताधर्ता सुभाष चंद्र बोस के साथ भी राजनीति जवाहरलाल नेहरू और उनके चाहने वालों ने की सुभाष चंद्र बोस की मृत्यु का रहस्य रहस्य बना दिया आज तक पता नहीं चला हमारा नेता हमारा देश का आजादी का मुख्य कर्ताधर्ता नेताजी सुभाष चंद्र बोस किस तरह किन हालातों में किन कारणों से गुम हो गए दुर्घटना हुई क्या हुआ आज तक रहस्य बना हुआ है और यह रेस बनाया किसने आजादी के जो गांधीजी के कर्ताधर्ता थे गांधी लोगों ने नेहरू लोगों ने कभी नहीं चाहा नेताजी की मृत्यु का


रहस्य माई पर्दा हटना चाहिए उन्होंने उसको और गुत्थी बना दी जिस को समझाने की जरूरत नहीं समझी और आज हमें अपने नेता जी पर गर्व है सुभाष चंद्र बोस पर यह आजादी अहिंसा से नहीं मिली है जो लोग भ्रमित हैं कि यह हिंसा से भारत को आजादी मिली है भूल जाओ अहिंसा करने वालों को सिर्फ आजादी के बाद सुख भोगने को मिला जो अंग्रेजों के चापलूस थे सच्चा सबूत आज आजादी के बाद जीवित नहीं बचे हमें आज के दिन सुभाष चंद्र बोस की जयंती पर पूरा देश पुष्प अर्पित करके शत शत नमन करता है।

No comments:

Post a Comment

Post Bottom Ad

Pages